बेटा बन रहा था कॉमेडी किंग मां ने पहुंचा दिया पागलखाने

Siddharth Sagar
बेटा बन रहा था कॉमेडी किंग मां ने पहुंचा दिया पागलखाने

मुंबई। टीवी शो कॉमेडी क्लासेज में मौसी का किरदार निभाकर घर घर में अपनी पहचान बनाने वाले कॉमेडियन सिद्धार्थ सागर ने सोमवार को मीडिया के सामने आकर अपनी गुमशुदगी का खुलासा किया है। सिद्धार्थ ने बताया है कि पिछले तीन महीनों से वह रिहैबिटेशन होम में भर्ती थे। जिस दौर से वह गुज़रे हैं उसे उनकी मां ने अपने कथित प्रेमी के साथ साजिश के तहत रचा था।

Comedian Siddharth Sagar Opens Up About His Missing And Destroyed Career :

एक कॉमेडियन और एंकर के रूप में बॉलीवुड के अवार्ड फंक्शनों में नजर आ चुके सिद्धार्थ को एक समय में कपिल शर्मा के समकक्ष खड़ा किया जाने लगा था। अपने बेहतर पंच और कॉमे​डी टाइमिंग ने सिद्धार्थ को रातों रात स्टार बना दिया था, लेकिन वह एकाएक गायब हो गए। लंबे समय से सिद्धार्थ की गुमशुदगी एक सवाल बनी हुई थी। इस बीच कुछ दिनों पहले एक दोस्त ने मीडिया के सामने उनकी मां पर सिद्धार्थ के करियर को बर्बाद करने के आरोप लगाए थे।

जिसके बाद सोमवार को सिद्धार्थ सागर ने खुद मीडिया के सामने आकर जो कहानी सुनाई वह बेहद चौंकाने वाली थी। सिद्धार्थ ने बताया कि उनकी मां और पिता लंबे अर्से पहले अलग हो चुके थे। वह अपनी मां के साथ रह रहे थे। अपनी मां के अकेलेपन को देखते हुए उन्होंने दोबारा शादी करने का हौसला दिया। जिसके बाद उनकी मां की जिन्दगी में एक नए शख्स का प्रवेश हुआ। जिसके बहकावे में आकर उनकी मां ने उनके करियर को तबाह कर दिया।

बकौल सिद्धार्थ उसकी मां ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर उसे जूस में नशे की गोलियां देना शुरू कर दिया। जिसके असर की वजह से ​उसकी ​मानसिक हालत बिगड़ने लग गई। जिसका फायदा उठाकर उसकी मां ने उसे इलाज के बहाने रिहैबिटेशन सेंटर में भर्ती करवा दिया। जहां कई दिनों तक पीटा गया और प्रताड़ित किया गया। कुछ समय बाद वह रिकवर तो कर गए, लेकिन तब तक उसकी मां ने बैंक के खातों में जमा सारी कमाई को हड़ कर लिया और उसकी बीएमडब्लू कार को भी बेंच दिया।

ठीक होने के बाद सिद्धार्थ ने दोबारा से अपने करियर पर ध्यान देना शुरू किया। मगर स्थितियों में कोई बदलाव नहीं आया। उसे फिर से डिप्रेशन की शिकायत होने लगी। मां ने इस बार उसे पागल खाने में भर्ती करवा दिया।

सिद्धार्थ के मुताबिक दिसंबर 2017 में वह आशा की किरण फाउंडेशन नामक संस्था के पास पहुंच गए। जहां रहकर उनकी हालत पूरी तरह से बदल गई। अब वह अच्छे हैं और दोबारा अपने करियर पर ध्यान देने को तैयार हैं। अब वह अपने पैरेंट्स से पूरी तरह से दूरी बनाकर रखेंगे और पूरा ध्यान अपने करियर को दोबारा शुरू करने पर लगांएगे।

मुंबई। टीवी शो कॉमेडी क्लासेज में मौसी का किरदार निभाकर घर घर में अपनी पहचान बनाने वाले कॉमेडियन सिद्धार्थ सागर ने सोमवार को मीडिया के सामने आकर अपनी गुमशुदगी का खुलासा किया है। सिद्धार्थ ने बताया है कि पिछले तीन महीनों से वह रिहैबिटेशन होम में भर्ती थे। जिस दौर से वह गुज़रे हैं उसे उनकी मां ने अपने कथित प्रेमी के साथ साजिश के तहत रचा था।एक कॉमेडियन और एंकर के रूप में बॉलीवुड के अवार्ड फंक्शनों में नजर आ चुके सिद्धार्थ को एक समय में कपिल शर्मा के समकक्ष खड़ा किया जाने लगा था। अपने बेहतर पंच और कॉमे​डी टाइमिंग ने सिद्धार्थ को रातों रात स्टार बना दिया था, लेकिन वह एकाएक गायब हो गए। लंबे समय से सिद्धार्थ की गुमशुदगी एक सवाल बनी हुई थी। इस बीच कुछ दिनों पहले एक दोस्त ने मीडिया के सामने उनकी मां पर सिद्धार्थ के करियर को बर्बाद करने के आरोप लगाए थे।जिसके बाद सोमवार को सिद्धार्थ सागर ने खुद मीडिया के सामने आकर जो कहानी सुनाई वह बेहद चौंकाने वाली थी। सिद्धार्थ ने बताया कि उनकी मां और पिता लंबे अर्से पहले अलग हो चुके थे। वह अपनी मां के साथ रह रहे थे। अपनी मां के अकेलेपन को देखते हुए उन्होंने दोबारा शादी करने का हौसला दिया। जिसके बाद उनकी मां की जिन्दगी में एक नए शख्स का प्रवेश हुआ। जिसके बहकावे में आकर उनकी मां ने उनके करियर को तबाह कर दिया।बकौल सिद्धार्थ उसकी मां ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर उसे जूस में नशे की गोलियां देना शुरू कर दिया। जिसके असर की वजह से ​उसकी ​मानसिक हालत बिगड़ने लग गई। जिसका फायदा उठाकर उसकी मां ने उसे इलाज के बहाने रिहैबिटेशन सेंटर में भर्ती करवा दिया। जहां कई दिनों तक पीटा गया और प्रताड़ित किया गया। कुछ समय बाद वह रिकवर तो कर गए, लेकिन तब तक उसकी मां ने बैंक के खातों में जमा सारी कमाई को हड़ कर लिया और उसकी बीएमडब्लू कार को भी बेंच दिया।ठीक होने के बाद सिद्धार्थ ने दोबारा से अपने करियर पर ध्यान देना शुरू किया। मगर स्थितियों में कोई बदलाव नहीं आया। उसे फिर से डिप्रेशन की शिकायत होने लगी। मां ने इस बार उसे पागल खाने में भर्ती करवा दिया।सिद्धार्थ के मुताबिक दिसंबर 2017 में वह आशा की किरण फाउंडेशन नामक संस्था के पास पहुंच गए। जहां रहकर उनकी हालत पूरी तरह से बदल गई। अब वह अच्छे हैं और दोबारा अपने करियर पर ध्यान देने को तैयार हैं। अब वह अपने पैरेंट्स से पूरी तरह से दूरी बनाकर रखेंगे और पूरा ध्यान अपने करियर को दोबारा शुरू करने पर लगांएगे।