एक जनवरी से अगर कॉल ड्रॉप हुई तो मिलेगा एक रुपया हर्जाना

नई दिल्ली। भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने शुक्रवार को कहा कि एक जनवरी से मोबाइल फोन सेवा देने वाली कंपनी को प्रत्येक कॉल ड्रॉप के लिए अपने ग्राहकों को एक रुपया भुगतान करना होगा। इससे उद्योग जगत परेशान हो गया है और कानूनी राहत लेने पर विचार कर रहा है।

ट्राई के मुताबिक इस तरीके से कंज्यूमर्स को कुछ हद तक कॉल ड्रॉप की प्रॉब्लम से निजात मिलेगी। ट्राई ने ये भी कहा है कि वह छह महीने बाद इस फैसले को रिव्यू कर सकता है।

ट्राई द्वारा जारी की गई अधिसूचना में कहा गया है कि उपभोक्ताओं को हर कॉल ड्रॉप के लिए एक रुपया क्षतिपूर्ति के रूप में देय होगा। ऐसा हर रोज तीन बार होगा। जिसके बाद कंपनी को चार घंटे के अंदर ग्राहक को एक एसएमएस भेजना होगा।

बता दें कि गुरुवार को टेलीकॉम सेक्रेटरी राकेश गर्ग और ट्राई के चेयरमैन के बीच एक अहम बैठक हुई थी। इसमें ही तय हुआ था कि कॉल ड्रॉप पर हर्जाना कितना लिया जाना है। ट्राई की रिपोर्ट के मुताबिक बीते एक साल में पीक ऑवर्स के दौरान कॉल ड्राप की समस्या बढ़कर दोगुनी हो गई है।

मानक पर खरा नहीं उतरने पर एयरटेल, रिलायंस और आईडिया के यदि सिर्फ 10 फीसदी ग्राहक हर रोह एक कॉल ड्रॉप का सामना करते हैं, तो इन कंपनियों को क्रमश: 2.3 करोड़ रुपये, 1.9 करोड़ रुपये और 80 लाख रुपये भुगतान करने पड़ सकते हैं। तीनों कंपनियों की ग्राहक संख्या क्रमश: 23.29 करोड़, 10.99 करोड़ और 8.33 करोड़ है।