मतदान केन्द्र से निकले पीएम मोदी को विदाई बनी रोड़ शो, कांग्रेस ने बताया आचार संहिता का उल्लंघन

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए जारी दूसरे चरण के मतदान के बीच अपना वोट डाले पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वापस लौटते समय अहमदाबाद की सड़कों पर भारी संख्या में स्थानीय लोगों की भीड़ देखने को मिली। भीड़ का उत्साह देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी मतदान की निशानी देते हुए अपनी गाड़ी के दरवाजे पर आकर लोगों का अभिनंदन किया। कुछ समय के लिए माहौल ऐसा हो गया मानो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अहमदाबाद में रोड़ शो कर रहे हों।

Congress Blames Election Commission For Favoring Bjp And Prime Minister Narendra Modi :

कांग्रेस ने इस मामले पर आपत्ति जताते हुए निर्वाचन आयोग पर भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सहयोग करने का अरोप लगा दिया है। कांग्रेस का आरोप है कि उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष अगर अपना साझात्कार किसी चैनल या अखबार को देते है तो निर्वाचन आयोग इसे आचार संहिता का उल्लंघन मानती है। राहुल गांधी के साथ साथ अखबारों और न्यूज चैनलों को नोटिस भेजा जाता है। लेकिन प्रधानमंत्री मतदान के दिन रोड शो करते हैं तो निर्वाचन आयोग अपनी आंखें मूंद लेता है।

कांग्रेस ने प्रधानमंत्री के रोड़ शो पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि निर्वाचन आयोग ने इस विषय को संज्ञान में नहीं लिया है। ऐसा प्रतीत होता है कि देश की सभी संवैधानिक संस्थाओं ने दबाव में काम करना शुरू कर दिया है। निर्वाचन आयोग इस तरह से काम कर रहा है मानों वह भाजपा और प्रधानमंत्री कार्यालय के दबाव में हो और गुजरात के चुनाव में भाजपा के सहयोगी की भूमिका निभा रहा हो।

कांग्रेस ने निर्वाचन आयुक्त पर बिना नाम लिए निशाना साधते हुए कहा​ कि वर्तमान इलेक्शन कमिश्नर पूर्व में गुजरात सरकार के मुख्य सचिव रह चुके हैं। शायद वह गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा से अपने पुराने रिश्तों को निभाने में लगे हैं।

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए जारी दूसरे चरण के मतदान के बीच अपना वोट डाले पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वापस लौटते समय अहमदाबाद की सड़कों पर भारी संख्या में स्थानीय लोगों की भीड़ देखने को मिली। भीड़ का उत्साह देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी मतदान की निशानी देते हुए अपनी गाड़ी के दरवाजे पर आकर लोगों का अभिनंदन किया। कुछ समय के लिए माहौल ऐसा हो गया मानो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अहमदाबाद में रोड़ शो कर रहे हों। कांग्रेस ने इस मामले पर आपत्ति जताते हुए निर्वाचन आयोग पर भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सहयोग करने का अरोप लगा दिया है। कांग्रेस का आरोप है कि उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष अगर अपना साझात्कार किसी चैनल या अखबार को देते है तो निर्वाचन आयोग इसे आचार संहिता का उल्लंघन मानती है। राहुल गांधी के साथ साथ अखबारों और न्यूज चैनलों को नोटिस भेजा जाता है। लेकिन प्रधानमंत्री मतदान के दिन रोड शो करते हैं तो निर्वाचन आयोग अपनी आंखें मूंद लेता है। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री के रोड़ शो पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि निर्वाचन आयोग ने इस विषय को संज्ञान में नहीं लिया है। ऐसा प्रतीत होता है कि देश की सभी संवैधानिक संस्थाओं ने दबाव में काम करना शुरू कर दिया है। निर्वाचन आयोग इस तरह से काम कर रहा है मानों वह भाजपा और प्रधानमंत्री कार्यालय के दबाव में हो और गुजरात के चुनाव में भाजपा के सहयोगी की भूमिका निभा रहा हो। कांग्रेस ने निर्वाचन आयुक्त पर बिना नाम लिए निशाना साधते हुए कहा​ कि वर्तमान इलेक्शन कमिश्नर पूर्व में गुजरात सरकार के मुख्य सचिव रह चुके हैं। शायद वह गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा से अपने पुराने रिश्तों को निभाने में लगे हैं।