कांग्रेस नेता की गाड़ी से उछला कीचड़, नाराज ग्रामीणों ने रगड़वाई नाक

rajasthan dungerpur
कांग्रेस नेता की गाड़ी से उछला कीचड़, नाराज ग्रामीणों ने रगड़वाई नाक

जयपुर। राजस्थान के डूंगरपुर जिले के भेमई-झोंसावा क्षेत्र में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट की सभा में जा रहे पूर्व जिला प्रमुख भगवतीलाल रोत की गाड़ी से कीचड़ उछल गया। इससे नाराज ग्रामीणों ने उनका चार किलोमीटर तक पीछा किया और आखिरकार उन्हे पकड़ लिया। बाद में गुस्साए लोगों ने रोत को जमीन पर नाक रगड़वाकर माफी मंगवाई। इस दौरान वहां मौजूद कुछ लोगों ने इसका वीडियो बना लिया और फिर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

Congress Leader Forced To Bow Head In Rajasthan Dungerpur :

बताया जा रहा है कि पूर्व जिला प्रमुख रोत मंगलवार सुबह अपने साथियों के साथ कुआं में पायलट की सभा में जा रहे थे। वो भेमई गांव से गुजर रहे थे, तभी उनकी गाड़ी से सडक़ किनारे खड़े चार लोगों पर कीचड़ उछला। इस घटना से गुस्साए लोगों ने मोटरसाइकिलों से उनका पीछा कर लिया और करीब चार किलोमीटर बाद उन्हे पकड़ लिया।

इसके बाद ग्रामीणों ने काफी हंगामा किया। माफी मांग लेने के बाद भी लोग नहीं माने और जमीन पर नाक तक रगड़वाई। बताया जा रहा है कि चुनाव सिर पर है कि जिसके चलते किसी तरह का कोई बवाल न हो इसके लिए नेताजी ने ग्रामीणों की बात मान ली और नाक रखड़ने के बाद सभी से माफी मांगी।

जयपुर। राजस्थान के डूंगरपुर जिले के भेमई-झोंसावा क्षेत्र में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट की सभा में जा रहे पूर्व जिला प्रमुख भगवतीलाल रोत की गाड़ी से कीचड़ उछल गया। इससे नाराज ग्रामीणों ने उनका चार किलोमीटर तक पीछा किया और आखिरकार उन्हे पकड़ लिया। बाद में गुस्साए लोगों ने रोत को जमीन पर नाक रगड़वाकर माफी मंगवाई। इस दौरान वहां मौजूद कुछ लोगों ने इसका वीडियो बना लिया और फिर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। बताया जा रहा है कि पूर्व जिला प्रमुख रोत मंगलवार सुबह अपने साथियों के साथ कुआं में पायलट की सभा में जा रहे थे। वो भेमई गांव से गुजर रहे थे, तभी उनकी गाड़ी से सडक़ किनारे खड़े चार लोगों पर कीचड़ उछला। इस घटना से गुस्साए लोगों ने मोटरसाइकिलों से उनका पीछा कर लिया और करीब चार किलोमीटर बाद उन्हे पकड़ लिया। इसके बाद ग्रामीणों ने काफी हंगामा किया। माफी मांग लेने के बाद भी लोग नहीं माने और जमीन पर नाक तक रगड़वाई। बताया जा रहा है कि चुनाव सिर पर है कि जिसके चलते किसी तरह का कोई बवाल न हो इसके लिए नेताजी ने ग्रामीणों की बात मान ली और नाक रखड़ने के बाद सभी से माफी मांगी।