जम्मू एयरपोर्ट से फिर वापस दिल्ली भेजे गए कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद

gulam nabi azad
जम्मू एयरपोर्ट से फिर वापस दिल्ली भेजे गए कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जम्मू—कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री को एक बार फिर जम्मू एयरपोर्ट से वापस दिल्ली भेज दिया गया। गुलाम नबी आजाद जम्मू के लिए दोपहर डेढ़ बजे फ्लाइट नंबर यूके-812 विस्तारा एयरलाइंस से चले थे। वहां जम्मू में उतरे ही थी कि प्रशासन के इशारे पर उन्हे तुरन्त हिरासत में ले लिया गया। जिसके बाद उन्हें दिल्ली भेज दिया गया।

Congress Leader Ghulam Nabi Azad Sent Back To Delhi From Jammu Airport :

बताया जा रहा है कि उन्हें न ही घर जाने की इजाजत दी गई और न ही जम्मू प्रदेश कांग्रेस कमेटी हेडक्वार्टर में बैठक में शामिल होने की इजाजत दी गई।” इससे पहले, आठ अगस्त को जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद को श्रीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर रोककर स्थानीय प्रशासन की तरफ से वापस दिल्ली भेज दिया गया था।

अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद केन्द्र की तरफ जम्मू कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंधों के बाद जम्मू और घाटी के कुछ क्षेत्रों में उसे उसे हटा दिया गया है। हालांकि, कुछ जगहों पर अभी भी जारी है। बताया जा रहा है कि गुलाम नबी आजाद वहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए वहां दो बार गए और दोनों बार उन्हे जम्मू—कश्मीर प्रशासन ने बैरंग लौटा दिया।

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जम्मू—कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री को एक बार फिर जम्मू एयरपोर्ट से वापस दिल्ली भेज दिया गया। गुलाम नबी आजाद जम्मू के लिए दोपहर डेढ़ बजे फ्लाइट नंबर यूके-812 विस्तारा एयरलाइंस से चले थे। वहां जम्मू में उतरे ही थी कि प्रशासन के इशारे पर उन्हे तुरन्त हिरासत में ले लिया गया। जिसके बाद उन्हें दिल्ली भेज दिया गया। बताया जा रहा है कि उन्हें न ही घर जाने की इजाजत दी गई और न ही जम्मू प्रदेश कांग्रेस कमेटी हेडक्वार्टर में बैठक में शामिल होने की इजाजत दी गई।” इससे पहले, आठ अगस्त को जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद को श्रीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर रोककर स्थानीय प्रशासन की तरफ से वापस दिल्ली भेज दिया गया था। अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद केन्द्र की तरफ जम्मू कश्मीर में लगाए गए प्रतिबंधों के बाद जम्मू और घाटी के कुछ क्षेत्रों में उसे उसे हटा दिया गया है। हालांकि, कुछ जगहों पर अभी भी जारी है। बताया जा रहा है कि गुलाम नबी आजाद वहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए वहां दो बार गए और दोनों बार उन्हे जम्मू—कश्मीर प्रशासन ने बैरंग लौटा दिया।