कांग्रेस नेता शशि थरूर की PAK को लताड़ा, कहा- सीमा पार से दखल की जरूरत नहीं

shashi tharoor
कांग्रेस नेता शशि थरूर की PAK को लताड़ा, कहा- सीमा पार से दखल की जरूरत नहीं

नई दिल्ली। सर्बिया में चल रही अंतर संसदीय संघ (आईपीयू) की बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने कश्मीर मुद्दा उठाने को लेकर पाकिस्तान को जमकर फटकार लगाई। भारतीय दल ने कहा कि यह विडंबना है कि एक देश जम्मू-कश्मीर में अनगिनत आतंकी हमले के लिए जिम्मेदार है, वह अंतरराष्ट्रीय कानून को चैंपियन होने का ढोंग कर रहा है। भारत की संसद इन नापाक हरकतों को कामयाब नहीं होने देगी। आईपीयू में लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला की अगुआई में प्रतिनिधिमंडल गया हुआ है।

Congress Leader Shashi Tharoors Taunted Pak Said No Need To Interfere From Across The Border :

‘हमें किसी की दखलंदाजी बर्दाश्त नहीं’

अंतर संसदीय संघ की बैठक में अध्यक्ष को संबोधित करते हुए थरूर ने कहा, “मैं भारत के प्रमुख विपक्षी दल का सांसद हूं। हम कश्मीर समेत अन्य मुद्दों पर संसद में सरकार के साथ बहस करते हैं। हम अपनी लड़ाई लोकतांत्रिक तरीके से लड़ेंगे। हमें सीमा पार से किसी और की दखलंदाजी की जरूरत नहीं है। पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल की तरफ से जो बयान दिया गया, उसे कतई सही नहीं कहा जा सकता।”

‘पाकिस्तान सरकार आतंकियों को पेंशन देती है’

शशि थरूर ने यह भी कहा, “पाकिस्तान दुनिया का इकलौता देश है जो आतंकियों को पेंशन देता है। इन आतंकियों को संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने अलकायदा सेंक्शंस लिस्ट में शामिल किया है। पाकिस्तान यूएन द्वारा घोषित 130 आतंकियों का पनाहगाह है। ऐसे देश के प्रतिनिधियों से मानवाधिकारों के सम्मान की बात करना बेतुका है, प्रायोजित आतंकवाद ही मानवाधिकारों का सबसे बड़ा दुश्मन है।”

जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग  

कांग्रेस नेता थरूर ने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। जम्मू-कश्मीर में इस प्रकार के हालात नहीं हैं, जिनसे पाकिस्तान में कहीं पर भी आम जनजीवन या कामकाज की स्थिति पर कोई फर्क पड़े। सिर्फ स्थितियां बदली हैं, तो इस्लामाबाद में।’ शशि थरूर ने यह भी कहा कि भारत के आंतरिक मामलों का सीमाओं पर असर नहीं होता है और न ही हम अपने पड़ोसियों को छेड़ते हैं।

दरअसल, पाकिस्तान ने रविवार को एशियाई संसदीय सभा की बैठक में कश्मीर में विकास का मामला उठाया था। थरूर ने कहा कि पाकिस्तान भारत के आंतरिक मामले का हवाला देकर मंच का राजनीतिकरण करने का प्रयास कर रहा था।

आपको बता दें कि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के नेतृत्व में भारतीय संसदीय प्रतिनिधिमंडल अंतर संसदीय संघ की 141वीं असेंबली में हिस्सा लेने के लिए बेलग्रेड गए हैं। भारतीय प्रतिनिधिमंडल में शशि थरूर, कनिमोझी करुणानिधि, वानसुक स्याम, राम कुमार वर्मा और सस्मित पात्रा समेत सभी पार्टियों के सांसद शामिल हैं।

नई दिल्ली। सर्बिया में चल रही अंतर संसदीय संघ (आईपीयू) की बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने कश्मीर मुद्दा उठाने को लेकर पाकिस्तान को जमकर फटकार लगाई। भारतीय दल ने कहा कि यह विडंबना है कि एक देश जम्मू-कश्मीर में अनगिनत आतंकी हमले के लिए जिम्मेदार है, वह अंतरराष्ट्रीय कानून को चैंपियन होने का ढोंग कर रहा है। भारत की संसद इन नापाक हरकतों को कामयाब नहीं होने देगी। आईपीयू में लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला की अगुआई में प्रतिनिधिमंडल गया हुआ है। ‘हमें किसी की दखलंदाजी बर्दाश्त नहीं’ अंतर संसदीय संघ की बैठक में अध्यक्ष को संबोधित करते हुए थरूर ने कहा, "मैं भारत के प्रमुख विपक्षी दल का सांसद हूं। हम कश्मीर समेत अन्य मुद्दों पर संसद में सरकार के साथ बहस करते हैं। हम अपनी लड़ाई लोकतांत्रिक तरीके से लड़ेंगे। हमें सीमा पार से किसी और की दखलंदाजी की जरूरत नहीं है। पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल की तरफ से जो बयान दिया गया, उसे कतई सही नहीं कहा जा सकता।" ‘पाकिस्तान सरकार आतंकियों को पेंशन देती है’ शशि थरूर ने यह भी कहा, "पाकिस्तान दुनिया का इकलौता देश है जो आतंकियों को पेंशन देता है। इन आतंकियों को संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने अलकायदा सेंक्शंस लिस्ट में शामिल किया है। पाकिस्तान यूएन द्वारा घोषित 130 आतंकियों का पनाहगाह है। ऐसे देश के प्रतिनिधियों से मानवाधिकारों के सम्मान की बात करना बेतुका है, प्रायोजित आतंकवाद ही मानवाधिकारों का सबसे बड़ा दुश्मन है।" जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग   कांग्रेस नेता थरूर ने कहा, 'जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। जम्मू-कश्मीर में इस प्रकार के हालात नहीं हैं, जिनसे पाकिस्तान में कहीं पर भी आम जनजीवन या कामकाज की स्थिति पर कोई फर्क पड़े। सिर्फ स्थितियां बदली हैं, तो इस्लामाबाद में।' शशि थरूर ने यह भी कहा कि भारत के आंतरिक मामलों का सीमाओं पर असर नहीं होता है और न ही हम अपने पड़ोसियों को छेड़ते हैं। दरअसल, पाकिस्तान ने रविवार को एशियाई संसदीय सभा की बैठक में कश्मीर में विकास का मामला उठाया था। थरूर ने कहा कि पाकिस्तान भारत के आंतरिक मामले का हवाला देकर मंच का राजनीतिकरण करने का प्रयास कर रहा था। आपको बता दें कि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के नेतृत्व में भारतीय संसदीय प्रतिनिधिमंडल अंतर संसदीय संघ की 141वीं असेंबली में हिस्सा लेने के लिए बेलग्रेड गए हैं। भारतीय प्रतिनिधिमंडल में शशि थरूर, कनिमोझी करुणानिधि, वानसुक स्याम, राम कुमार वर्मा और सस्मित पात्रा समेत सभी पार्टियों के सांसद शामिल हैं।