सपा—बसपा और आरएलडी गठबंधन के लिए कांग्रेस ने छोड़ी सात सीटें, नहीं उतारेंगे प्रत्याशी

rajbabar
सपा—बसपा और आरएलडी गठबंधन के लिए कांग्रेस ने छोड़ी सात सीटें, नहीं उतारेंगे प्रत्याशी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सपा—बसपा और आरएलडी के गठबंधन के बीच कांग्रेस ने भी आज बड़ा ऐलान किया है। कांग्रेस उत्तर प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा कि सात सीटों पर यहां कांग्रेस प्रत्याशी नहीं उतारेगी। राजबब्बर के इस बयान के बाद से उत्तर प्रदेश की 80 सीटों पर नये सियासी समीकरण बनने लगे हैं।

Congress Leaves Seven Seats For Sp Bsp And Rld Coalition :

वहीं आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी लखनऊ में आईं हैं, जो कार्यकर्ताओं और विभिन्न संगठनों के प्रत्याशियों से मुलाकात कर रही हैं। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि कांग्रेस ने सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन के लिए सात सीटें छोड़ी है।

कांग्रेस मैनपुरी, कन्नौज, फिरोजाबाद, अखिलेश यादव की सीट (अगर चुनाव लड़ते हैं तो), मायावती की सीट (अगर चुनाव लड़ती हैं तो), अजित सिंह और जयंत चौधरी की सीट पर प्रत्याशी नहीं उतारेगी। उन्होंने कहा कि कृष्णा पटेल की अपना दल को गोंडा और पीलीभीत की सीट दी गई है।

बतातें चलें कि सपा—बसपा गठबंधन ने रायबरेली और अमेठी से अपना प्रत्याशी नहीं उतारा है। माना जा रहा है कि इसी को लेकर कांग्रेस ने यह बड़ा फैसला लिया है। वहीं चार दिन पूर्व प्रियंका गांधी और भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर की मुलाकात के बाद मायावती ने अखिलेश यादव के साथ मीटिंग की थी। इस दौरान सामने आया था कि मायावती इस मुलाकात को लेकर नाराज हैं और अमेठी और रायबरेली से भी प्रत्याशी उतारेंगी।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सपा—बसपा और आरएलडी के गठबंधन के बीच कांग्रेस ने भी आज बड़ा ऐलान किया है। कांग्रेस उत्तर प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा कि सात सीटों पर यहां कांग्रेस प्रत्याशी नहीं उतारेगी। राजबब्बर के इस बयान के बाद से उत्तर प्रदेश की 80 सीटों पर नये सियासी समीकरण बनने लगे हैं।

वहीं आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी लखनऊ में आईं हैं, जो कार्यकर्ताओं और विभिन्न संगठनों के प्रत्याशियों से मुलाकात कर रही हैं। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि कांग्रेस ने सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन के लिए सात सीटें छोड़ी है।

कांग्रेस मैनपुरी, कन्नौज, फिरोजाबाद, अखिलेश यादव की सीट (अगर चुनाव लड़ते हैं तो), मायावती की सीट (अगर चुनाव लड़ती हैं तो), अजित सिंह और जयंत चौधरी की सीट पर प्रत्याशी नहीं उतारेगी। उन्होंने कहा कि कृष्णा पटेल की अपना दल को गोंडा और पीलीभीत की सीट दी गई है।

बतातें चलें कि सपा—बसपा गठबंधन ने रायबरेली और अमेठी से अपना प्रत्याशी नहीं उतारा है। माना जा रहा है कि इसी को लेकर कांग्रेस ने यह बड़ा फैसला लिया है। वहीं चार दिन पूर्व प्रियंका गांधी और भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर की मुलाकात के बाद मायावती ने अखिलेश यादव के साथ मीटिंग की थी। इस दौरान सामने आया था कि मायावती इस मुलाकात को लेकर नाराज हैं और अमेठी और रायबरेली से भी प्रत्याशी उतारेंगी।