चिदंबरम का BJP सरकार पर हमला, कहा- नोटबंदी से बड़ा कोई झूठ नहीं हो सकता

चिदंबरम का BJP सरकार पर बड़ा हमला, कहा- नोटबंदी से बड़ा कोई झूठ नहीं हो सकता
चिदंबरम का BJP सरकार पर बड़ा हमला, कहा- नोटबंदी से बड़ा कोई झूठ नहीं हो सकता

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने रविवार को नोटबंदी को अब तक का सबसे बड़ा झूठ करार दिया और कहा कि इसने नौकरियों को समाप्त कर दिया है। कांग्रेस नेता ने केंद्र पर ‘दोषपूर्ण’ वस्तु एवं सेवा कर लागू कर लोगों को गरीबी की ओर धकेलने का भी आरोप लगाया।

Congress Plenary Session Chidambaram Attack Modi Govt :

चिदंबरम ने कहा है कि मोदी सरकार ने लोगों को गरीबी के गड्ढे में धकेला। उन्होंने कहा है कि 14 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकालना मनमोहन सिंह की सबसे बड़ी उपलब्धि है। साथ ही उन्होंने कहा है कि मोदी सरकार में गरीबी रेखा से नीचे के लोगों की संख्या बढ़ी है। नोटबंदी पर चिदंबरम ने कहा है कि आरबीआई अधिकारी तिरुपति में हुंडी कलेक्टर्स से पैसे गिनना सीखें।

कांग्रेस अधिवेशन में पार्टी की आर्थिक नीति पेश करने के बाद चिदंबरम ने यहां कहा, “नोटबंदी से बड़ा कोई झूठ नहीं हो सकता।”उन्होंने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) पर निशाना साधा और कहा कि बैंक ने राष्ट्र को नहीं बताया कि उसे विमुद्रीकृत मुद्रा की कुल कितनी रकम वापस मिली।  उन्होंने कहा, “नोटबंदी एक बड़ा झूठ था। आरबीआई अभी भी गणना कर रहा है और उसने हमें नहीं बताया कि कितना पैसा वापस आया।”

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने रविवार को नोटबंदी को अब तक का सबसे बड़ा झूठ करार दिया और कहा कि इसने नौकरियों को समाप्त कर दिया है। कांग्रेस नेता ने केंद्र पर 'दोषपूर्ण' वस्तु एवं सेवा कर लागू कर लोगों को गरीबी की ओर धकेलने का भी आरोप लगाया।चिदंबरम ने कहा है कि मोदी सरकार ने लोगों को गरीबी के गड्ढे में धकेला। उन्होंने कहा है कि 14 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकालना मनमोहन सिंह की सबसे बड़ी उपलब्धि है। साथ ही उन्होंने कहा है कि मोदी सरकार में गरीबी रेखा से नीचे के लोगों की संख्या बढ़ी है। नोटबंदी पर चिदंबरम ने कहा है कि आरबीआई अधिकारी तिरुपति में हुंडी कलेक्टर्स से पैसे गिनना सीखें।कांग्रेस अधिवेशन में पार्टी की आर्थिक नीति पेश करने के बाद चिदंबरम ने यहां कहा, "नोटबंदी से बड़ा कोई झूठ नहीं हो सकता।"उन्होंने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) पर निशाना साधा और कहा कि बैंक ने राष्ट्र को नहीं बताया कि उसे विमुद्रीकृत मुद्रा की कुल कितनी रकम वापस मिली।  उन्होंने कहा, "नोटबंदी एक बड़ा झूठ था। आरबीआई अभी भी गणना कर रहा है और उसने हमें नहीं बताया कि कितना पैसा वापस आया।"