अब मोदी के विजय रथ को रोंकने के लिए भोले के भक्त बने राहुल गांधी

rahul gandhi bhole bhakt
अब मोदी के विजय रथ को रोंकने के लिए भोले के भक्त बने राहुल गांधी

नई दिल्ली। 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस हिन्दूवादी पार्टी की छवि गढ़ने में लगी है। इसके तहत राहुल गांधी खुद को भोले का भक्त साबित करने पर लगे हुए है। जिसके बाद कहा जा रहा है कि कांग्रेस हिंदू वोटों को अपने पक्ष में करने के लिए पूरी ताकत से खुद को शिवभक्त बताने में जुटी है। खुद को भोले का भक्त सााबित करने का अभियान राहुल गांधी ने विभिन्न मंदिरों में जा-जाकर शुरू कर दिया था।

Congress President Rahul Gandhi Become Bhole Bhakt For Stop Modis Vijay Rath :

अभी हाल ही में उनकी कैलाश मनासरोवर यात्रा भी चर्चा में रही। उसके बाद मध्य प्रदेश के भोपाल दौरे में उनके स्वागत के लिए जगह-जगह शिवभक्त वाले पोस्टर लगाए गए। इन पोस्टरों में उन्हे उन्हें शिवलिंग पर जलाभिषेक करते हुए दिखाया गया था।
जानकारों का कहना है कि चुनाव से ठीक पहले जहां संघ और बीजेपी जहां सॉफ्ट रवैया अपनाकर अपनी कट्टर इमेज से बाहर निकलना चाहती है तो वहीं कांग्रेस पार्टी अपने अध्यक्ष राहुल गांधी को कभी जनेऊधारी ब्राह्मण तो कभी शिवभक्त के रूप में पेश कर रही है।

बता दें कि नेहरू-गांधी परिवार के पैतृक शहर इलाहाबाद के कांग्रेस नेताओं ने भी सोशल मीडिया पर एक पोस्टर जारी कर राहुल गांधी को फिर से शिव भक्त के रूप में पेश किया। यहां के कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए इन पोस्टरों में राहुल गांधी शिवलिंग की पूजा करते नजर आ रहे हैं तो साथ ही भगवान भोलेनाथ की बड़ी सी तस्वीर भी लगाई गई है।

बताया जा रहा है कि पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी के हर-हर मोदी नारे के जवाब में इस इस बार “शिव भक्त राहुल गांधी संग देश बोले, बम-बम भोले” लिखा गया है। कांग्रेस नेताओं द्वारा सोशल मीडिया पर जारी किया गया यह पोस्टर खूब वायरल हो रहा है और इसे लेकर तरह-तरह की चर्चाएं भी हो रही हैं। ऐसे पोस्टर लगाने वाले नेताओं का कहना है कि बीजेपी के लोग धर्म के नाम पर सियासत करते हैं, लेकिन राहुल गांधी के मन में भोले के प्रति सच्ची श्रद्धा है।

नई दिल्ली। 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस हिन्दूवादी पार्टी की छवि गढ़ने में लगी है। इसके तहत राहुल गांधी खुद को भोले का भक्त साबित करने पर लगे हुए है। जिसके बाद कहा जा रहा है कि कांग्रेस हिंदू वोटों को अपने पक्ष में करने के लिए पूरी ताकत से खुद को शिवभक्त बताने में जुटी है। खुद को भोले का भक्त सााबित करने का अभियान राहुल गांधी ने विभिन्न मंदिरों में जा-जाकर शुरू कर दिया था। अभी हाल ही में उनकी कैलाश मनासरोवर यात्रा भी चर्चा में रही। उसके बाद मध्य प्रदेश के भोपाल दौरे में उनके स्वागत के लिए जगह-जगह शिवभक्त वाले पोस्टर लगाए गए। इन पोस्टरों में उन्हे उन्हें शिवलिंग पर जलाभिषेक करते हुए दिखाया गया था। जानकारों का कहना है कि चुनाव से ठीक पहले जहां संघ और बीजेपी जहां सॉफ्ट रवैया अपनाकर अपनी कट्टर इमेज से बाहर निकलना चाहती है तो वहीं कांग्रेस पार्टी अपने अध्यक्ष राहुल गांधी को कभी जनेऊधारी ब्राह्मण तो कभी शिवभक्त के रूप में पेश कर रही है। बता दें कि नेहरू-गांधी परिवार के पैतृक शहर इलाहाबाद के कांग्रेस नेताओं ने भी सोशल मीडिया पर एक पोस्टर जारी कर राहुल गांधी को फिर से शिव भक्त के रूप में पेश किया। यहां के कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए इन पोस्टरों में राहुल गांधी शिवलिंग की पूजा करते नजर आ रहे हैं तो साथ ही भगवान भोलेनाथ की बड़ी सी तस्वीर भी लगाई गई है। बताया जा रहा है कि पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी के हर-हर मोदी नारे के जवाब में इस इस बार "शिव भक्त राहुल गांधी संग देश बोले, बम-बम भोले" लिखा गया है। कांग्रेस नेताओं द्वारा सोशल मीडिया पर जारी किया गया यह पोस्टर खूब वायरल हो रहा है और इसे लेकर तरह-तरह की चर्चाएं भी हो रही हैं। ऐसे पोस्टर लगाने वाले नेताओं का कहना है कि बीजेपी के लोग धर्म के नाम पर सियासत करते हैं, लेकिन राहुल गांधी के मन में भोले के प्रति सच्ची श्रद्धा है।