कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह को मिली राहत, विधानसभा सदस्यता रद्द करने की याचिका खारिज

aditi singh
कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह को मिली राहत, विधानसभा सदस्यता रद्द करने की याचिका खारिज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह को बड़ी राहत मिली है। पार्टी की तरफ से सदस्यता समाप्त करने वाली याचिका को विधानसभा अध्यक्ष ने खारिज कर दिया गया है। इनके साथ राकेश सिंह की भी सदस्यता समाप्त करने की याचिका को भी खारिज कर दिया है। विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने कांग्रेस की याचिका को खारिज करते हुए विधायक अदिति सिंह व राकेश सिंह की सदस्यता को बरकरार रखा है।

Congress Rebel Mla Aditi Singh Gets Relief Petition For Cancellation Of Assembly Membership Dismissed :

गौरतलब है कि कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने विधायक अदिति सिंह की सदस्यता समाप्त करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष 26 नवंबर 2019 को एक याचिका दी थी। कांग्रेस का आरोप है कि अदिति सिंह ने पार्टी व्हिप का उल्लंघन करते हुए 2 अक्टूबर 2019 को योगी सरकार द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में हिस्सा लिया।

जबकि पार्टी ने गांधी जयंती पर सरकार के इस विशेष सत्र का बहिष्कार करते हुए विधायकों के लिए व्हिप जारी किया था। इससे पहले 31 मई 2019 को कांग्रेस ने अपने एक और विधायक राकेश सिंह की सदस्यता रद्द करने के लिए याचिका दी थी। हरचंदपुर के विधायक राकेश सिंह ने रायबरेली सीट पर होने वाले लोकसभा चुनाव में सोनिया गांधी का विरोध किया था।

दोनों ही मामले में लंबे समय तक फैसला न होने की स्थिति में कांग्रेस ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की शरण ली थी। अब हाईकोर्ट ने 16 जुलाई तक फैसला लेने के निर्देश दिए हैं। हाईकोर्ट के इसी आदेश के आधार पर कहा जा रहा है कि विधानसभा अध्यक्ष फैसला ले सकते हैं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह को बड़ी राहत मिली है। पार्टी की तरफ से सदस्यता समाप्त करने वाली याचिका को विधानसभा अध्यक्ष ने खारिज कर दिया गया है। इनके साथ राकेश सिंह की भी सदस्यता समाप्त करने की याचिका को भी खारिज कर दिया है। विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने कांग्रेस की याचिका को खारिज करते हुए विधायक अदिति सिंह व राकेश सिंह की सदस्यता को बरकरार रखा है। गौरतलब है कि कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने विधायक अदिति सिंह की सदस्यता समाप्त करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष 26 नवंबर 2019 को एक याचिका दी थी। कांग्रेस का आरोप है कि अदिति सिंह ने पार्टी व्हिप का उल्लंघन करते हुए 2 अक्टूबर 2019 को योगी सरकार द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में हिस्सा लिया। जबकि पार्टी ने गांधी जयंती पर सरकार के इस विशेष सत्र का बहिष्कार करते हुए विधायकों के लिए व्हिप जारी किया था। इससे पहले 31 मई 2019 को कांग्रेस ने अपने एक और विधायक राकेश सिंह की सदस्यता रद्द करने के लिए याचिका दी थी। हरचंदपुर के विधायक राकेश सिंह ने रायबरेली सीट पर होने वाले लोकसभा चुनाव में सोनिया गांधी का विरोध किया था। दोनों ही मामले में लंबे समय तक फैसला न होने की स्थिति में कांग्रेस ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की शरण ली थी। अब हाईकोर्ट ने 16 जुलाई तक फैसला लेने के निर्देश दिए हैं। हाईकोर्ट के इसी आदेश के आधार पर कहा जा रहा है कि विधानसभा अध्यक्ष फैसला ले सकते हैं।