अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल के स्वास्थ्य में लगातार हो रही गिरावट, कांग्रेस भी आई साथ में

hardik patel
अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल के स्वास्थ्य में लगातार हो रही गिरावट, कांग्रेस भी आई साथ में

गुजरात। पाटीदारों के नौकरियों में आरक्षण और किसानों की कर्जमाफी समेत कई अन्य मांगों को लेकर अनशन पर बैठे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आ रही है। जहां अनशन शुरु करते वक्त उनका वजन 78 किलो था, वही गुरुवार को वो मात्र 58 किलो के बचे। उधर अब गुजरात कांग्रेस भी उनके समर्थन में आ गई है।

Congress Will Also Sit On Fast With Hardik Patel :

कांग्रेस ने गुरुवार को घोषणा की कि यदि राज्य सरकार पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से बातचीत नहीं करती है तो वह उनके समर्थन में शुक्रवार को 24 घंटे का उपवास रखेगी। पटेल के उपवास का गुरुवार को 13वां दिन था और वह व्हीलचेयर में बहुत ही कमजोर नजर आ रहे थे। उन्होंने अहमदाबाद के समीप अपने फार्महाऊस पर 25 अगस्त को उपवास शुरु किया था।

हार्दिक की जांच करने पहुंचे सोला सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने परीक्षण के बाद उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी। प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा और विपक्ष के नेता परेश धनानी एवं करीब 25 विधायकों समेत प्रदेश कांग्रेस के तीस उन लोागों ने मांग की कि राज्य सरकार पटेल से बातचीत शुरू करे और कृषि ऋणमाफी से संबंधित उनकी मांग मान ले। पटेल नौकरियों और शिक्षा में पाटीदार के लिए आरक्षण तथा किसानों के ऋण माफ करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन उपवास पर हैं।

बता दें कि अनशन के छठे और सातवें दिन यानी 30 और 31 अगस्त को जल त्याग किया था पर एक सितंबर से फिर से इसे लेना शुरू कर दिया था। आज 13 वें दिन सुबह उन्हें पहली बार व्हील चेयर इस्तेमाल करते हुए भी देखा गया। उधर, कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष परेश धानाणी कहा कि अगर सरकार ने ज्ञापन की मांगों पर सकारात्मक रूख नहीं दिखाया तो पार्टी शुक्रवार सुबह 11 बजे से प्रत्येक जिला मुख्यालय पर 24 घंटे का धरना अनशन कार्यक्रम करेगी।

गुजरात। पाटीदारों के नौकरियों में आरक्षण और किसानों की कर्जमाफी समेत कई अन्य मांगों को लेकर अनशन पर बैठे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आ रही है। जहां अनशन शुरु करते वक्त उनका वजन 78 किलो था, वही गुरुवार को वो मात्र 58 किलो के बचे। उधर अब गुजरात कांग्रेस भी उनके समर्थन में आ गई है। कांग्रेस ने गुरुवार को घोषणा की कि यदि राज्य सरकार पाटीदार नेता हार्दिक पटेल से बातचीत नहीं करती है तो वह उनके समर्थन में शुक्रवार को 24 घंटे का उपवास रखेगी। पटेल के उपवास का गुरुवार को 13वां दिन था और वह व्हीलचेयर में बहुत ही कमजोर नजर आ रहे थे। उन्होंने अहमदाबाद के समीप अपने फार्महाऊस पर 25 अगस्त को उपवास शुरु किया था। हार्दिक की जांच करने पहुंचे सोला सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने परीक्षण के बाद उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी। प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा और विपक्ष के नेता परेश धनानी एवं करीब 25 विधायकों समेत प्रदेश कांग्रेस के तीस उन लोागों ने मांग की कि राज्य सरकार पटेल से बातचीत शुरू करे और कृषि ऋणमाफी से संबंधित उनकी मांग मान ले। पटेल नौकरियों और शिक्षा में पाटीदार के लिए आरक्षण तथा किसानों के ऋण माफ करने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन उपवास पर हैं। बता दें कि अनशन के छठे और सातवें दिन यानी 30 और 31 अगस्त को जल त्याग किया था पर एक सितंबर से फिर से इसे लेना शुरू कर दिया था। आज 13 वें दिन सुबह उन्हें पहली बार व्हील चेयर इस्तेमाल करते हुए भी देखा गया। उधर, कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष परेश धानाणी कहा कि अगर सरकार ने ज्ञापन की मांगों पर सकारात्मक रूख नहीं दिखाया तो पार्टी शुक्रवार सुबह 11 बजे से प्रत्येक जिला मुख्यालय पर 24 घंटे का धरना अनशन कार्यक्रम करेगी।