जब प्यार चढ़ा परवान तब हुआ मध्य प्रदेश में कांग्रेस -भाजपा का गठबंधन

भोपाल। जब प्यार परवान चढ़ता है तो दूरियाँ खुद-ब-खुद कम हो जाती है, दुश्मन भी दोस्त बन जाते है। ऐसा ही कुछ भोपाल में देखने को मिला है जहां दो राजनीतिक जोड़ों ने पार्टी की दुश्मनी को भुलाते हुए गठबंधन कर लिया वो भी सात जन्मों के लिए। बात ऊपर ऊपर ही निकाल गयी शायद तो हम आपको डिटेल में बता देते है। दरअसल,मध्य प्रदेश में हिमाद्री सिंह, जो कि बतौर कांग्रेसी नेता के रूप में शहडोल के उपचुनाव में उम्मीदवार भी रह चुकी हैं, उनकी जिंदगी का गठबंधन बीजेपी नेता नरेंद्र सिंह मारवी के साथ हो रहा है। गौरतलब है कि नरेंद्र ने हिमाद्री की मां के खिलाफ वर्ष 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ा और मारवी को शिकस्त झेलनी पड़ी थी।

हालांकि इससे भी ज्यादा रोचक बात यह है कि हिमाद्री को मध्यप्रदेश में कांग्रेस की ओर से जनजातीय और युवा चेहरे के रूप में पेश किया जाता है। बहरहाल, 2016 में शहडोल सीट से उम्मीदवार रह चुकीं और लंबे वक्त तक कांग्रेसी सांसद रहे दलजीत सिंह और राजेश नंदिनी सिंह की बेटी जल्द ही बीजेपी की बहू बनने वाली हैं। उपचुनाव से पहले हिमाद्री को बीजेपी की ओर से कई बार पार्टी में शामिल कराने की कोशिश की गई लेकिन वे कांग्रेस के साथ ही आगे बढ़ती रहीं। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि हिमाद्री ने बीजेपी के उम्मीदवार रहे ज्ञान सिंह को तगड़ी टक्कर दी, इसके बावजूद बीजेपी जीत गई। हिमाद्री ने 2014 में जीत के अंतर को 2.41 लाख से घटाकर 59 हजार तक पहुंचा दिया।

{ यह भी पढ़ें:- चुनावी मूड में नजर आए पीएम मोदी, राहुल को जवाब देते हुए शाह पर दी सफाई }

वहीं दूसरी ओर मारवी सांसद अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष हैं। उन्होंने 2009 में राजेश नंदिनी के खिलाफ चुनाव लड़ा और वे 13,415 मतों से हार गए। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत करते हुए मारवी ने कहा कि मैंने हिमाद्री की मां के खिलाफ 2009 में चुनाव लड़ा और हार गया। यह कुछ समय पहले की बात है लेकिन मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं हिमाद्री से शादी करूंगा। हिमाद्री ने बहुत कम उम्र में अपने पिता को खो दिया था और मां का भी पिछले वर्ष मई में निधन हो गया।

हिमाद्री और मारवी 23 नवंबर को दाम्पत्य जीवन में बंध जाएंगे। 28 वर्षीय हिमाद्री दिल्ली विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट हैं जबकि 39 वर्षीय मारवी मैकेनिकल इंजीनियर हैं और अनूपपुर जिले से भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष हैं। उनका कहना है कि ‘मैं एक बीजेपी कार्यकर्ता हूं और बचे हुए जीवन में भी यही रहूंगा।’

{ यह भी पढ़ें:- अमित शाह ने पहली बार किया बेटे का बचाव, बोले- भ्रष्टाचार का तो कोई सवाल ही नहीं उठता }