1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. कोरोना से जान गंवाने वाले पत्रकारों के आश्रितों को दी जाने वाली आर्थिक सहायता के लिए मांगा सहमति पत्र

कोरोना से जान गंवाने वाले पत्रकारों के आश्रितों को दी जाने वाली आर्थिक सहायता के लिए मांगा सहमति पत्र

कोरोना महामारी के कारण जान गंवाने वाले पत्रकारों के आश्रितों  को लेकर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिंदी पत्रकारिता दिवस पर 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता ऐलान किया था। इसके बाद अब यूपी के सूचना निदेशक शिशिर ने सभी उप निदेशक, सहायक निदेशक, जिला सूचना अधिकारी व प्रभारी अधिकारी उत्तर प्रदेश को एक पत्र जारी किया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। कोरोना महामारी के कारण जान गंवाने वाले पत्रकारों के आश्रितों  को लेकर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिंदी पत्रकारिता दिवस पर 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता ऐलान किया था। इसके बाद अब यूपी के सूचना निदेशक शिशिर ने सभी उप निदेशक, सहायक निदेशक, जिला सूचना अधिकारी व प्रभारी अधिकारी उत्तर प्रदेश को एक पत्र जारी किया है। पत्र में इस बात का उल्लेख किया है कि कोविड-19 संक्रमण के कारण आपके जनपद में दिवंगत पत्रकारों के आश्रितों को मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार नियमानुसार मिलने वाली आर्थिक सहायता प्रदान किये जाने के संबंध में निम्न साक्ष्य के साथ अपनी सहमति पत्र दो प्रतियों में यथाशीघ्र उपलब्ध कराने का कष्ट करें।

पढ़ें :- अखिलेश यादव निशाना, कहा-भाजपा राज में जनता को 5G पहले से ही मिल रही, गरीबी, घोटाला, घपला, और घालमेल

 

1-राज्य मुख्यालय व जनपद मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त पत्रकार होने की पुष्टि के साथ कोविड से हुई मृत्यु का प्रमाण-पत्र के साथ प्रेस कार्ड की छायाप्रति।

2- गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों के संबंध में निम्न अभिलेखों सहित आख्या प्रेषित करें:

पढ़ें :- यूपी: क्लास में शराब पीते मास्टर साहब,आप भी देखिए वीडियो

I- संस्थान द्वारा निर्गत प्रेस कार्ड एवं नियुक्ति पत्र।

II- संस्थान द्वारा पीएफ/ईपीएफ या किसी भी प्रकार की कटौती का साक्ष्य।

III- मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रतिहस्ताक्षरित कोविड-19 से हुई मृत्यु का प्रमाण-पत्र।

IV- न्यूज चैनल यदि नियमित (REGULAR) नहीं है तो अपलिंकिंग प्रमाण-पत्र, समाचार पत्र हेतु डीएवीपी प्रमाण-पत्र एवं न्यूज एजेन्सी हेतु सब्सकाइवर की सूची व सीए द्वारा प्रदत्त टर्नओवर आदि।

v- यह आवश्यक होगा कि संबंधित पत्रकार का विवरण सूचना कार्यालय में पहले से ही अंकित हो कि वह संबंधित संस्थान का पत्रकार है।

पढ़ें :- PFI के बैन और जुमे की नमाज के मद्देनजर यूपी में अलर्ट, लखनऊ में टीले वाली मस्जिद के बाहर तैनात की गई फोर्स

VI- आर्थिक,अहैतुक सहायता कोविड-19 से मृत मीडिया प्रतिनिधि के पति, पत्नी, बच्चे को अनुमन्य होगी, उनके न होने की स्थिति में वारिसान को प्रदान की जायेगी।

3- जनपदीय अधिकारी सभी अभिलेखों का विधिवत परीक्षण करने के पश्चात ही मुख्यालय पर आख्या प्रेषित करेंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...