1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. हिन्दू एकता महाकुम्भ चित्रकूट LIVE- जानें किन 12 विषयों पर होगा मंथन?

हिन्दू एकता महाकुम्भ चित्रकूट LIVE- जानें किन 12 विषयों पर होगा मंथन?

हिंदू एकता का महाकुंभ (Hindu Unity Mahakumbh) बुधवार 15 दिसंबर को चित्रकूट में आयोजित किया जा रहा है। इस महाकुंभ का आयोजन तुलसी पीठाधीश्वर, पद्मविभूषण, जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य (Jagadguru Swami Rambhadracharya) के संरक्षण में हो रहा है। तुलसी पीठाधीश्वर के संयोजक आचार्य रामचंद्र दास (Acharya Ramchandra Das the convener of Tulsi Peethadheeshwar)  ने बताया कि यह आयोजन ऐसे समय में होने जा रहा है। जब देश और दुनिया में हिंदू संस्कृति के खिलाफ साजिश रची जा रही है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

चित्रकूट। हिंदू एकता का महाकुंभ (Hindu Unity Mahakumbh) बुधवार 15 दिसंबर को चित्रकूट में आयोजित किया जा रहा है। इस महाकुंभ का आयोजन तुलसी पीठाधीश्वर, पद्मविभूषण, जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य (Jagadguru Swami Rambhadracharya) के संरक्षण में हो रहा है। तुलसी पीठाधीश्वर के संयोजक आचार्य रामचंद्र दास (Acharya Ramchandra Das the convener of Tulsi Peethadheeshwar)  ने बताया कि यह आयोजन ऐसे समय में होने जा रहा है। जब देश और दुनिया में हिंदू संस्कृति के खिलाफ साजिश रची जा रही है।

पढ़ें :- BBC Documentary Controversy: दिल्ली से लेकर मुंबई तक बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर हंगामा


इसमें मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ( RSS ) के सरसंघ चालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) होंगे। इसमें प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) भी शिरकत करेंगे। आयोजनकर्ताओं के सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Election 2022) को लेकर हिंदुओं को एकजुट करने की भी कोशिश की जाएगी। चित्रकूट यूं भी हिंदुओं की आस्था का केंद्र रहा है। ऐसे में इस भव्य कार्यक्रम का आयोजन करने के लिए काफी गंभीरता से तैयारी की जा रही है।

सूत्रों के मुताबिक, इस हिंदू एकता महाकुंभ (Hindu Unity Mahakumbh)  के मंच से अयोध्या राममंदिर और वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग (Kashi Vishwanath Jyotirling) की तर्ज पर मथुरा में भगवान कृष्ण के विवादित मंदिर को लेकर भी बयानबाजी की जा सकती है। तुलसी पीठाधीश्वर के संयोजक आचार्य रामचंद्र दास (Acharya Ramchandra Das ) ने बताया कि मंगलवार से ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन शुरू हो चुका है। दूर-दराज से आने वाले लोग एकजुट हो रहे हैं। इस भव्य आयोजन में शास्त्रीय संगीत सहित लोकगीतों का भी प्रदर्शन किया जाएगा।

आचार्य रामचंद्र दास ने कहा कि यह कार्यक्रम पूरी तरह से गैर राजनीतिक है। कोई भी राजनीतिक हस्ती इस कार्यक्रम में नहीं आ रही है। देश के सभी बड़ें मठों के मठाधीश, बड़े संत, महापुरुष, जिनके एक-एक शब्दों में यह ताकत है कि जो करोड़ों लोगों का जीवन परिवर्तन कर सकते हैं। केवल ऐसे संत ही इस कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं। अध्यक्षता मेरे पूज्य गुरुदेव कर रहे हैं।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जो कि दुनिया का सबसे बड़ा संगठन है, उसके मुखिया मुख्य अतिथि के रूप में आ रहे हैं। आप हमारे बैनर को पढ़ेंगे तो आपको भी अच्छा लगेगा। कोई प्रश्न चिह्न नहीं है? हमारे बैनर में जब योगी आदित्यनाथ की फोटो लगी है तो नीचे महंत योगी आदित्यनाथ लिखा हुआ है। वो नाथ परंपरा के प्रमुख हैं इस नाते कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं। वो मुख्यमंत्री के तौर पर नहीं आ रहे हैं।

पढ़ें :- Hindenburg Research Report से शेयर बाजार में मचा तहलका, अडानी ग्रुप में जानें कितना लगा है सरकारी पैसा, सकते में LIC और बड़े बैंक

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...