1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद समेत कई संतों को जहर देकर हत्या की साजिश, पुलिस ने एक को किया गिरफ्तार

आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद समेत कई संतों को जहर देकर हत्या की साजिश, पुलिस ने एक को किया गिरफ्तार

प्रयागराज पुलिस (Prayagraj Police) और एसटीएफ (STF) ने निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद (Acharya Mahamandaleshwar Swami Kailashanand) समेत कई संतों को जहर देकर उनकी हत्या की साजिश का खुलासा किया है। संतों की हत्या की साजिश रचने के आरोप में एक शख्स को पकड़ा गया है, जिससे पुलिस और एसटीएफ (STF)  की टीमें पूछताछ कर रही है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

प्रयागराज। प्रयागराज पुलिस (Prayagraj Police) और एसटीएफ (STF) ने निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद (Acharya Mahamandaleshwar Swami Kailashanand) समेत कई संतों को जहर देकर उनकी हत्या की साजिश का खुलासा किया है। संतों की हत्या की साजिश रचने के आरोप में एक शख्स को पकड़ा गया है, जिससे पुलिस और एसटीएफ (STF)  की टीमें पूछताछ कर रही है।

पढ़ें :- गौतम अडानी का साम्राज्य तबाह करने वाले नाथन एंडरसन जानें कौन हैं?

मिल रही जानकारी के मुताबिक प्रयागराज (Prayagraj) में रहने वाली महिला संत त्रिकाल भवंता (Saint Trikal Bhavanta) के आश्रम में शनिवार को विक्रम सिंह उर्फ योगेंद्र शर्मा (Vikram Singh alias Yogendra Sharma) नाम का एक युवक पहुंचा। उसने त्रिकाल भवंता को जानकारी दी कि 1 जनवरी को हरिद्वार में निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद (Acharya Mahamandaleshwar Swami Kailashanand)  के सम्मान में होने वाले समारोह में भोज का आयोजन किया गया है। वहां खाने में जहर डालकर स्वामी कैलाशानंद (Swami Kailashanand) समेत सभी संतों को मारने की साजिश रची गई है।

संदिग्ध युवक का ये है आरोप

संदिग्ध युवक का दावा है कि उससे नौकरी के नाम पर 20 लाख रुपये लिए गए थे, लेकिन न तो नौकरी दी गई और न ही पैसे वापस किए गए। इसी का बदला लेने के लिए वह स्वामी कैलाशानंद (Swami Kailashanand)की हत्या करना चाहता है। साध्वी त्रिकाल भगवंता (Sadhvi Trikal Bhawanta) ने युवक को बातों में फंसाकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आश्रम पहुंचकर युवक को हिरासत में ले लिया है। कई एजेंसियां पकड़े गए संदिग्ध युवक से पूछताछ कर रही हैं।

युवक ने की थी कैलाशानंद आश्रम की रेकी

पढ़ें :- जिस देश के युवा उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे: पीएम मोदी

पूछताछ में यह भी सामने आया है कि संदिग्ध युवक रेकी करने के लिए 29 नवंबर को हरिद्वार में स्वामी कैलाशानंद (Swami Kailashanand) के आश्रम गया था। वहां वह 4 घंटे तक रुका हुआ था। उसने अपना नाम और पता गलत दर्ज कराया था। फिलहाल प्रयागराज पुलिस (Prayagraj Police) मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने हरिद्वार के अफसरों और स्वामी कैलाशानंद (Swami Kailashanand) को भी संदिग्ध युवक के पकड़े जाने की जानकारी दे दी है।

प्रयागराज के डीसीपी अजीत सिंह चौहान ने कही ये बात

प्रयागराज के डीसीपी अजीत सिंह चौहान (Prayagraj DCP Ajit Singh Chauhan) का दावा पकड़ा गया युवक शुरुआती पूछताछ में ठग समझ आ रहा है। वह इस तरह की सनसनी फैलाकर साध्वी त्रिकाल भवंता (Sadhvi Trikal Bhawanta)से कुछ पैसे ऐंठना चाहता था। संदिग्ध युवक और उसके दावे के बारे में हर एंगल पर पड़ताल की जा रही है।

 

पढ़ें :- Nathan Anderson के पर्दाफाश से गौतम अडानी के डूबे 45 हजार करोड़ रुपये,अमीरों की लिस्ट में चौथे नंबर पर खिसके
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...