लोकसभा चुनाव से पहले शुरु हो जाएगा राम मंदिर निर्माण : रामविलास वेदांती

rambilash vedanti
लोकसभा चुनाव से पहले शुरु हो जाएगा राम मंदिर निर्माण : रामविलास वेदांती

नई दिल्ली। श्री राम जन्म भूमि अयोध्या न्यास के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ रामविलास वेदांति महाराज ने कहा कि अगल वर्ष होने वाले आम चुनाव से पहले आयोध्या में राम ​मंदिर का निर्माण शुरु हो जाएगा। उन्होने कहा कि इसके लिए हिन्दू और मुसलमानों को एक होना पड़ेगा। ‘मिशन मोदी अगेन पीएम’ अभियान के सिलसिले में यहां आए पूर्व सांसद वेदांति ने पत्रकारों से बात कर रहे थे। 

Construction Of Ram Mandir In Ayodhya Will Start Before 2019 Loksabha Election :

कार्यक्रम के दौरान उन्होने कहा कि इस्लाम को हिंदुओं से खतरा नहीं है इसीलिए विश्व के मुसलमान भारत के साथ समझौता करके, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द चाहते हैं। वेदांति के अनुसार, यदि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसी तरह आगे बढ़ते रहे तो वह दिन दूर नहीं है जब अयोध्या में मंदिर बनना शुरू होगा। 

रामविलास वेदांती ने इस मामले में आध्यात्मिक गुरू श्री श्रीरविशंकर की भूमिका को पूरी तरह से खारिज कर दिया। पत्रकारों द्वारा किए गए एक सवाल में उन्होने कहा कि श्री श्री रविशंकर कौन होते है समझौता करवाने वाले। संघर्ष हमने किया, श्रीश्री कहां से आ गये। उन्होंने कहा ”एनजीओ चलाने वाले लोग गंभीर और धार्मिक मामले में कुछ नही कर सकते। 

वेदांति ने कहा कि शिया समुदाय ने लिखकर दे दिया है कि वह मस्जिद लखनऊ में बनाना चाहते हैं। इसके लिये हम तैयार हैं। मस्जिद या तो अयोध्या से 15 किलोमीटर दूर शाहनवा में बन सकती है और या फिर लखनऊ के शिया बहुल क्षेत्र में बन सकती है। फिलहाल वेंदांती का दावा कि 2019 से पहले इस मुदृे का हल निकलना तय है। 

नई दिल्ली। श्री राम जन्म भूमि अयोध्या न्यास के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष डॉ रामविलास वेदांति महाराज ने कहा कि अगल वर्ष होने वाले आम चुनाव से पहले आयोध्या में राम ​मंदिर का निर्माण शुरु हो जाएगा। उन्होने कहा कि इसके लिए हिन्दू और मुसलमानों को एक होना पड़ेगा। 'मिशन मोदी अगेन पीएम' अभियान के सिलसिले में यहां आए पूर्व सांसद वेदांति ने पत्रकारों से बात कर रहे थे। 

कार्यक्रम के दौरान उन्होने कहा कि इस्लाम को हिंदुओं से खतरा नहीं है इसीलिए विश्व के मुसलमान भारत के साथ समझौता करके, अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द चाहते हैं। वेदांति के अनुसार, यदि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसी तरह आगे बढ़ते रहे तो वह दिन दूर नहीं है जब अयोध्या में मंदिर बनना शुरू होगा। 

रामविलास वेदांती ने इस मामले में आध्यात्मिक गुरू श्री श्रीरविशंकर की भूमिका को पूरी तरह से खारिज कर दिया। पत्रकारों द्वारा किए गए एक सवाल में उन्होने कहा कि श्री श्री रविशंकर कौन होते है समझौता करवाने वाले। संघर्ष हमने किया, श्रीश्री कहां से आ गये। उन्होंने कहा ''एनजीओ चलाने वाले लोग गंभीर और धार्मिक मामले में कुछ नही कर सकते। 

वेदांति ने कहा कि शिया समुदाय ने लिखकर दे दिया है कि वह मस्जिद लखनऊ में बनाना चाहते हैं। इसके लिये हम तैयार हैं। मस्जिद या तो अयोध्या से 15 किलोमीटर दूर शाहनवा में बन सकती है और या फिर लखनऊ के शिया बहुल क्षेत्र में बन सकती है। फिलहाल वेंदांती का दावा कि 2019 से पहले इस मुदृे का हल निकलना तय है।