पद्मावती कोई पहली फिल्म नहीं, इन फिल्मों को लेकर भी हुआ है बवाल

मुंबई। इन दिनों एक और बॉलीवुड फिल्म को लेकर बवाल जारी है, जैसे जैसे रिलीज की तारीख नजदीक आ रही है बवाल बढ़ता ही जा रहा है। वैसे तो बॉलीवुड में हर साल हजारों फिल्में बनती हैं उनमे कुछ हिट होती है तो कुछ फ्लाप। हालांकि कुछ ऐसी भी फिल्में होती हैं जो रिलीज तक नहीं होती। कोई फिल्म विवादों के कारण सिनेमाघरों तक नहीं पहुँच पाती तो कुछ एक आध पर सेंसरबोर्ड की काईची चल जाती है।

मौजूदा दौरा में जहां देखों एक ही नाम गूंज रहा है, सुनाई देता तो ठीक था लेकिन यह नाम गूंज रहा है, नाम है -पद्मावती। हर दूसरे जबान पर यह नाम है, लोग अपनी राय भी रख रहे हैं। हालांकि अभी यह फिल्म रिलीज नहीं हुई। बता दें यह फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज होनी थी लेकिन बवाल का असर देखते हुए इसे 12को रिलीज किया जाएगा। खैर यह बॉलीवुड की कोइ पहली फिल्म नहीं है जिसको लेकर इतना बवाल चल रहा है। तमाम ऐसे फिल्में बनी है जिसे लोगों की नाराजगी झेलनी पड़ी हैं।

{ यह भी पढ़ें:- दीपिका का सिर कलम करने वाले को 10 करोड़ का इनाम देने वाले हरियाणा नेता पर मामला दर्ज }

आइये कुछ ऐसी फिल्मों की याद दिलाते हैं…

बॉलीवुड की विवादित फिल्में –

1 – बैंडेट क्वीन – विवादित फिल्मों की बॉलीवुड में जब भी बात होगी सबसे पहला नाम बैंडेट क्वीन का ही आएगा। फूलन देवी की सच्ची घटना पर आधारित इस फिल्म को शुरुआती दौर में बैन कर दिया गया है। हिंसात्मक और अश्लील भाषा को कारण बताया गया। फूलन देवी भारत का एक ऐसा नाम हैं जिस बच्चा बच्चा परिचित है। खास बात यह है कि सेंसर बोर्ड के अलावा इस फिल्म के कंटेंट की शिकायक खुद फूलन देवी ने भी किया था।

2 – फायर – 1996 में बनी दीपा मेहता की फिल्म फायर को विवादों के बाद सेंसर बोर्ड को बैन करना पड़ा। इस फिल्म की कहानी एक हिंदू परिवार की दो सिस्टर-इन-लॉ की है। इसमें दोनों को लैसबियन दिखाया गया है। यही कारण है कि इस फिल्म का शिव सेना जैसे हिंदू संगठनों ने विरोध किया जिसके बाद इसे बैन कर दिया गया।

{ यह भी पढ़ें:- विवादित फिल्म 'पद्मावती' की रिलीज 1 दिसंबर को स्थगित }

3 – कामसूत्रा – ए टेल ऑफ लव – 1996 में मीरा नायर की फिल्म कामसूत्रा को इसलिए बैन कर दिया गया क्योंकि इसमें ज्यादा खुलापन था। इस देश के जनता की भावनाओं के विपरित समझ इसे बैन कर दिया गया।

4 – उर्फ प्रोफेसर – निखिल आडवाणी की फिल्म को अश्लील भाषा के कारण बैन कर दिया गया।

5 – पिंक मिरर – भारत जैसे देश में समलैंगिकता का मुद्दा सदैव ही संवेदशील रहा है। इसी पर आधारित वर्ष 2003 में रिलीज हुई फिल्म पिंक मिरर को बैन कर दिया गया। पश्चिमी देशों की तरह भी अब भारत में समलैंगिक लोग खुल कर सामने आ रहे हैं लेकिन फिल्म जब बनकर तैयार हुई तब ऐसा दौर नहीं था।

{ यह भी पढ़ें:- 'पद्मावती' पर करणी सेना का ऐलान- जौहर की ज्‍वाला है, बहुत कुछ जलेगा, रोक सको तो रोक लो }

6 – पांच – वर्ष 1997 में हुए जोशी-अभयंकर मडर केस पर आधारित फिल्म पांच को बैन कर दिया गया। इस फिल्म में ज्यादा हिंसात्मक दृश्य, अश्लील भाषा और ड्रग्स को बढ़ावा देता पाया गया।

7 – परजानिया – गुजरात दंगे पर आधारित फिल्म परजानिया को गुजरात में बैन कर दिया गया। इस फिल्म को ज्यादातर लोगों ने सराहा भी तो कुछ ने आलोचना भी किया।

8 – वाटर – फिल्म वाटर में विधवा महिलाओं के जीवन से जुड़ी स्याह दुनिया को दिखाया गया है। इस फिल्म को अकादमी अवार्ड 2007 के लिए नोमिनेट भी किया गया। लेकिन विवादों में आने कारण इसे बैन कर दिया गया।

अब देखना यह दिलचस्प होगा की आने वाली संजय लीला भंसाली फिल्म पद्मावती कहां तक यह जंग लड़ पाती है, क्या इसे रिलीज किया जाएगा या फिर यह भी एक याद बन कर रह जाएगी जैसे कई फिल्में रह गई हैं।

{ यह भी पढ़ें:- 'बलात्कारी बाबा' का ये अवतार देखा आपने, हनीप्रीत भी साथ में मौजूद }

Loading...