1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. कोरोना का कहर: बिहार में लागू हुआ महामारी कानून, मदद न करने वाले को मिलेगी सजा

कोरोना का कहर: बिहार में लागू हुआ महामारी कानून, मदद न करने वाले को मिलेगी सजा

पटना। कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया के साथ साथ भारत में खतरा बढ़ता जा रहा है। जहां मोदी सरकार ने इसे राष्ट्रीय आपदा मानते हुए देश में अलर्ट जारी किया है और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा लगातार इससे निपटने के लिए कड़े कदम उठाये जा रहे है वहीं राज्स सरकारे भी अपने अपने स्तर से काम कर रही है। बिहार सरकार ने भी कोरोना वायरस को लेकर गम्भीरता दिखाते हुए महामारी कानून लागू किया है।

नीतीश सरकार ने कोरोना वायरस को राज्य में महामारी घोषित कर दिया है। बिहार सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने, जांच और इलाज में सहयोग नहीं करने वालों पर सामाजिक हित में कानूनी कार्रवाई करने तथा इसके लिए प्रशासन को व्यापक अधिकार देने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग की अनुशंसा पर राज्य में ‘एपिडेमिक डिजीज, कोविड-19, नियमावली 2020’ को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया है।

स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में अधिसूचना जारी की है। बताया गया कि पिछले दिनों के रिकॉर्ड से यह पता चले कि संबंधित व्यक्ति ने 29 फरवरी, 2020 के बाद कोरोना वायरस से संक्रमित देश की यात्रा की है या वैसे देश से यहां आए हैं और उनमें संक्रमण के लक्षण दिखाई देते हैं तो उन्हें तय मानकों के अनुरूप अस्पताल में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा। इससे संबंधित सभी सूचनाएं जिले के सिविल सर्जन को दी जाएंगी।

बिहार में लागू हुई इस नियमावली के तहत जिलाधिकारी को अधिकार दिया गया है कि वे किसी भी गांव, प्रखंड, नगर, वार्ड, कॉलोनी या किसी भी भौगोलिक क्षेत्र में किसी व्यक्ति के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की सूचना मिले तो वह तत्काल कार्रवाई कर सकते हैं। वे उन क्षेत्रों में स्थित स्कूल, कार्यालय को बंद कर सकते हैं और भीड़ के एकत्र होने पर रोक लगा सकते हैं।

बताया गया कि जिलाधिकारी संबंधित क्षेत्र में वाहनों के परिचालन पर भी रोक लगा सकते हैं। सभी संदिग्ध मरीजों को अस्पताल में आइसोलेशन के लिए भर्ती किया जा सकता है। उन इलाकों में किसी भी सरकारी विभाग के कर्मी को ड्यूटी में राहत दी जा सकती है। बिहार में कोरोना वायरस को लेकर गलत नीयत से इलेक्ट्रॉनिक, प्रिंट या सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाह फैलाने वाले किसी भी व्यक्ति, संस्थान या संगठन पर कार्रवाई की जा सकती है।

गौरतलब है कि भारत में अब तक 150 कोरोना संक्रमित मामलों की पुष्टि हो चुकी है। जिनमे से 3 की मौत हुई है। वहीं अगर बात दुनिया की करें तो इस महामारी की वजह से दुनिया भर में 7 हजार से अधिका लोगों की जान जा चुकी है। बता दें कि बिहार में अब तक 69 कोरोना संदिग्धों की जांच कराई गई है, लेकिन अब तक एक भी पॉजिटिव केस नहीं मिला है। बिहार स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, 25 जनवरी से अब तक कोरोना से पीड़ित देशों से लौटे कुल 311 यात्रियों को सर्विलांस (निगरानी) पर रखा गया, जिसमें से 105 लोगों की 14 दिनों की निगरानी पूरी कर ली है। इसके अलावा, गया और पटना हवाईअड्डे पर अब तक 19,529 यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...