कोरोना हॉटस्पॉट: इलाके के सील होने पर कितनी होती है सख्ती? जानें…

Corona Hotspot
कोरोना हॉटस्पॉट: इलाके के सील होने पर कितनी होती है सख्ती? जानें...

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। कोरोना संक्रमित मरीजो की संख्या 6000 के आस पास पंहुच गयी हैं वहीं 150 से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है। हालांकि मोदी सरकार ने पहले ही 21 दिन का देश में संपूर्ण लॉकडाउन किया था लेकिन अब इससे बचने के लिए राज्य सरकारें अपने अपने राज्यों में कोराना हॉटस्पॉट चिन्हित कर उन इलाकों को सील कर रही है। इस महामारी को देखते हुए उत्तर प्रदेश और दिल्ली की सरकारों ने अपने-अपने राज्यों में कई हटस्पॉट इलाकों को सील कर दिया है। एक तरफ जहां दिल्ली सरकार ने 20 हॉटस्पॉट सील कर दिए, तो वहीं उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य के 15 जिलों के हॉटस्पॉट इलाकों को सील करने का फैसला लिया है। बताया जा रहा है कि धीरे धीरे ऐसे कदम पूरे देश में उठाये जायेंगे। आइए जानते हैं क्या है हॉटस्पॉट, ये कैसे सील किया जाता है, और सील होने के बाद उस इलाके में रहने वाले लोग क्या कर सकते हैं और क्या नहीं।

Corona Hotspot How Tough Is It When The Area Is Sealed Learn :

कोरोना वायरस के समय में वो इलाका जहां कई पॉजिटिव मरीज मिले हों और आगे भी उन इलाकों में संक्रमण फैलने की संभावना अधिक हो, वो हॉटस्‍पॉट कहा जाता है। ये इलाका किसी भी साइज का इलाका हो सकता है। कुछ घरों से लेकर मोहल्‍ला, कॉलोनी या फिर पूरे सेक्‍टर तक, यहां तक कि किसी अपार्टमेंट को भी एक हॉटस्‍पॉट माना जा सकता है।

राज्य सरकार के अधिकारियों के अनुसार ऐसे इलाके को हॉटस्पॉट के रूप में चिह्नित किया जा सकता है जहां कोरोनावायरस से संक्रमण के केस लगातार बढ़ रहे हों। वहीं हॉटस्‍पॉट के लिए यह भी देखा जाता है कि वहां के लोग खुद से लॉकडाउन फॉलो कर रहे हैं या सख्‍ती बढ़ाने की जरूरत है।

हॉटस्पॉट इलाकों में लॉकडाउन का 100 फीसदी पालन होना ही एक प्रकार से उस इलाके का सील होना कहलाता है। इस दौरान इलाके में कोई भी दुकान नहीं खुलेगी. इलाके में प्रवेश और निकास पर पुलिस की बैरिकेडिंग होगी। लोगों को आसपास में भी जाने की इजाजत नहीं होगी। हॉटस्‍पॉट के लिए विशेष पास जारी होते हैं।

वैसे तो लॉकडाउन में ही लोगों को घर से बाहर निकलने की मनाही होती है लेकिन हॉटस्पॉट इलाकों को सील करने के बाद यह सख्ती और बढ़ा दी जाती है। लोगों को कहीं भी जाने की इजाजत नहीं होती।

हॉटस्पॉट वाले इलाकों में सिर्फ ऐसे लोगों को ही अनुमति होती है जो ‘पास’ के साथ जाते हैं। इसके अलावा एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड को भी हॉटस्पॉट में एंट्री के लिए अनुमति लेनी होगी. हॉटस्‍पॉट में मीडिया के घुसने पर भी रोक होती है।

सील के दौरान लोगों को जरूरी सामान की आपूर्ति सिर्फ होम डिलीवरी के जरिए की जाएगी। प्रशासन द्वारा फल, सब्जी, दवा, राशन आदि होम डिलीवरी के माध्यम से हर घर तक आएगा। घर-घर जाकर जांच की जाएगी कि किसी व्यक्ति में कोरोना से संक्रमण के लक्षण तो नहीं हैं या व्‍यक्ति कोविड पॉजिटिव मरीज के संपर्क में तो नहीं आया है।

उत्तर प्रदेश की बात करें तो राज्य सरकार ने दिल्ली से सटे नोएडा समेत अन्य 15 जिलों के हॉटस्पॉट इलाकों को सील करने का फैसला लिया है। यह इलाके बुधवार रात 12 बजे से 15 अप्रैल सुबह तक सील रहेंगे। जरूरी सामान के लिए लोगों को इस नंबर, 18004192211 पर कॉल करनी होगी।

दूसरी ओर दिल्ली सरकार ने 20 हॉटस्पॉट इलाके सील किए हैं। इनमें दक्षिण दिल्ली के दो इलाकों को हॉटस्पॉट चिन्हित किया गया है। ये दो इलाके संगम विहार और मालवीय नगर में हैं। संगम विहार के एल-1 में गली नंबर 6 और मालवीय नगर में गांधी पार्क के इलाके हॉटस्पॉट तय किए गए हैं।

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। कोरोना संक्रमित मरीजो की संख्या 6000 के आस पास पंहुच गयी हैं वहीं 150 से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है। हालांकि मोदी सरकार ने पहले ही 21 दिन का देश में संपूर्ण लॉकडाउन किया था लेकिन अब इससे बचने के लिए राज्य सरकारें अपने अपने राज्यों में कोराना हॉटस्पॉट चिन्हित कर उन इलाकों को सील कर रही है। इस महामारी को देखते हुए उत्तर प्रदेश और दिल्ली की सरकारों ने अपने-अपने राज्यों में कई हटस्पॉट इलाकों को सील कर दिया है। एक तरफ जहां दिल्ली सरकार ने 20 हॉटस्पॉट सील कर दिए, तो वहीं उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य के 15 जिलों के हॉटस्पॉट इलाकों को सील करने का फैसला लिया है। बताया जा रहा है कि धीरे धीरे ऐसे कदम पूरे देश में उठाये जायेंगे। आइए जानते हैं क्या है हॉटस्पॉट, ये कैसे सील किया जाता है, और सील होने के बाद उस इलाके में रहने वाले लोग क्या कर सकते हैं और क्या नहीं। कोरोना वायरस के समय में वो इलाका जहां कई पॉजिटिव मरीज मिले हों और आगे भी उन इलाकों में संक्रमण फैलने की संभावना अधिक हो, वो हॉटस्‍पॉट कहा जाता है। ये इलाका किसी भी साइज का इलाका हो सकता है। कुछ घरों से लेकर मोहल्‍ला, कॉलोनी या फिर पूरे सेक्‍टर तक, यहां तक कि किसी अपार्टमेंट को भी एक हॉटस्‍पॉट माना जा सकता है। राज्य सरकार के अधिकारियों के अनुसार ऐसे इलाके को हॉटस्पॉट के रूप में चिह्नित किया जा सकता है जहां कोरोनावायरस से संक्रमण के केस लगातार बढ़ रहे हों। वहीं हॉटस्‍पॉट के लिए यह भी देखा जाता है कि वहां के लोग खुद से लॉकडाउन फॉलो कर रहे हैं या सख्‍ती बढ़ाने की जरूरत है। हॉटस्पॉट इलाकों में लॉकडाउन का 100 फीसदी पालन होना ही एक प्रकार से उस इलाके का सील होना कहलाता है। इस दौरान इलाके में कोई भी दुकान नहीं खुलेगी. इलाके में प्रवेश और निकास पर पुलिस की बैरिकेडिंग होगी। लोगों को आसपास में भी जाने की इजाजत नहीं होगी। हॉटस्‍पॉट के लिए विशेष पास जारी होते हैं। वैसे तो लॉकडाउन में ही लोगों को घर से बाहर निकलने की मनाही होती है लेकिन हॉटस्पॉट इलाकों को सील करने के बाद यह सख्ती और बढ़ा दी जाती है। लोगों को कहीं भी जाने की इजाजत नहीं होती। हॉटस्पॉट वाले इलाकों में सिर्फ ऐसे लोगों को ही अनुमति होती है जो 'पास' के साथ जाते हैं। इसके अलावा एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड को भी हॉटस्पॉट में एंट्री के लिए अनुमति लेनी होगी. हॉटस्‍पॉट में मीडिया के घुसने पर भी रोक होती है। सील के दौरान लोगों को जरूरी सामान की आपूर्ति सिर्फ होम डिलीवरी के जरिए की जाएगी। प्रशासन द्वारा फल, सब्जी, दवा, राशन आदि होम डिलीवरी के माध्यम से हर घर तक आएगा। घर-घर जाकर जांच की जाएगी कि किसी व्यक्ति में कोरोना से संक्रमण के लक्षण तो नहीं हैं या व्‍यक्ति कोविड पॉजिटिव मरीज के संपर्क में तो नहीं आया है। उत्तर प्रदेश की बात करें तो राज्य सरकार ने दिल्ली से सटे नोएडा समेत अन्य 15 जिलों के हॉटस्पॉट इलाकों को सील करने का फैसला लिया है। यह इलाके बुधवार रात 12 बजे से 15 अप्रैल सुबह तक सील रहेंगे। जरूरी सामान के लिए लोगों को इस नंबर, 18004192211 पर कॉल करनी होगी। दूसरी ओर दिल्ली सरकार ने 20 हॉटस्पॉट इलाके सील किए हैं। इनमें दक्षिण दिल्ली के दो इलाकों को हॉटस्पॉट चिन्हित किया गया है। ये दो इलाके संगम विहार और मालवीय नगर में हैं। संगम विहार के एल-1 में गली नंबर 6 और मालवीय नगर में गांधी पार्क के इलाके हॉटस्पॉट तय किए गए हैं।