भारत में कोरोना से ठीक होने की दर 62 फीसदी से भी ज्यादा : स्वास्थ्य मंत्रालय

Health Ministry
भारत में कोरोना से ठीक होने की दर 62 फीसदी से भी ज्यादा : स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इस बीच भारत में संक्रमितों के ठीक होने का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय की माने तो कोरोना से ठीक होने की दर 62 फीसदी से भी ज्यादा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने आज संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

Corona Recovery Rate In India More Than 62 Health Ministry :

इस दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेष कार्य अधिकारी राजेश भूषण ने कहा कि हमारा देश दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाला दूसरा देश है। करीब 130 करोड़ा की जनसंख्या होने के बाद भी भारत कोरोना वायरस पर लगाम कसने में ज्यादा सफल रहा है। उन्होंने कहा कि अगर आप प्रति दस लाख की आबादी पर कोरोना के मामलों को देखें तो अब भी यह दुनिया में सबसे कम है। भूषण ने कहा, आज हमारे यहां प्रति 10 लाख की आबादी पर कोरोना संक्रमण के 538 मामले हैं।

यह आंकड़े विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अपनी रिपोर्ट में दिए हैं। कुछ देशों में तो प्रति 10 लाख की आबादी पर कोरोना के मामलों की संख्या भारत की तुलना में 16 से 17 गुना तक ज्यादा है। हमारे यहां कोरोना से प्रति 10 लाख की आबादी पर मौत का आंकड़ा 15 है जबकि कई देश ऐसे हैं जहां यह आंकड़ा भारत की तुलना में 10 गुना तक ज्यादा है।

उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या की बात की जाए तो यह संख्या दो लाख 69 हजार है। उन्होंने कहा कि इससे साफ होता है कि कोरोना पर नियंत्रण पाने में काफी सफलता हासिल की है। मंत्रालय ने बताया कि वर्तमान में भारत में कोरोना से ठीक होने की दर यानी रिकवरी रेट 62 फीसदी से भी ज्यादा हो गया है।

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। इस बीच भारत में संक्रमितों के ठीक होने का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय की माने तो कोरोना से ठीक होने की दर 62 फीसदी से भी ज्यादा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने आज संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय के विशेष कार्य अधिकारी राजेश भूषण ने कहा कि हमारा देश दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाला दूसरा देश है। करीब 130 करोड़ा की जनसंख्या होने के बाद भी भारत कोरोना वायरस पर लगाम कसने में ज्यादा सफल रहा है। उन्होंने कहा कि अगर आप प्रति दस लाख की आबादी पर कोरोना के मामलों को देखें तो अब भी यह दुनिया में सबसे कम है। भूषण ने कहा, आज हमारे यहां प्रति 10 लाख की आबादी पर कोरोना संक्रमण के 538 मामले हैं। यह आंकड़े विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अपनी रिपोर्ट में दिए हैं। कुछ देशों में तो प्रति 10 लाख की आबादी पर कोरोना के मामलों की संख्या भारत की तुलना में 16 से 17 गुना तक ज्यादा है। हमारे यहां कोरोना से प्रति 10 लाख की आबादी पर मौत का आंकड़ा 15 है जबकि कई देश ऐसे हैं जहां यह आंकड़ा भारत की तुलना में 10 गुना तक ज्यादा है। उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या की बात की जाए तो यह संख्या दो लाख 69 हजार है। उन्होंने कहा कि इससे साफ होता है कि कोरोना पर नियंत्रण पाने में काफी सफलता हासिल की है। मंत्रालय ने बताया कि वर्तमान में भारत में कोरोना से ठीक होने की दर यानी रिकवरी रेट 62 फीसदी से भी ज्यादा हो गया है।