1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. कोरोना वैक्सीन: 2-18 साल के 525 वालंटियर पर क्लीनिकल ट्रायल को मिली हरी झंडी

कोरोना वैक्सीन: 2-18 साल के 525 वालंटियर पर क्लीनिकल ट्रायल को मिली हरी झंडी

भारत में बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन के ट्रायल की अनुमति मिल गई है। 12 मई को देश के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी की सिफारिश को स्वीकार कर लिया है। भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन कोवेक्सीन के दूसरे और तीसरे क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति दी है। ये क्लीनिकल ट्रायल 2 से 18 वर्ष की आयु समूह में किया जाएगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। भारत में बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन के ट्रायल की अनुमति मिल गई है। 12 मई को देश के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी की सिफारिश को स्वीकार कर लिया है। भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन कोवेक्सीन के दूसरे और तीसरे क्लीनिकल ट्रायल की अनुमति दी है। ये क्लीनिकल ट्रायल 2 से 18 वर्ष की आयु समूह में किया जाएगा।

पढ़ें :- Turkey-Syria Earthquake : मलबे में दबी मां ने मरने से पहले बच्चे को दिया जन्म, देखें Emotional VIDEO

मेसर्स भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड, हैदराबाद ने 2 से 18 वर्ष के आयु वर्ग में कोवैक्सीन का दूसरे और तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल करने का प्रस्ताव दिया था।जिसके बाद CDSCO की सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी ने सहमति दी थी। अब ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने 525 स्वस्थ वालंटियर में परीक्षण करने की अनुमति दी है। परीक्षण में टीके को इंट्रामस्क्युलर मार्ग द्वारा दो खुराक 0 और 28वें दिन पर दी जाएगी।

ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने भी दी अपनी मंजूरी  

2 से 18 साल के आयु वर्ग में ट्रायल का प्रस्ताव 11 मई को सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी के सामने आया था और इस पर विचार-विमर्श किया गया था। विस्तृत विचार-विमर्श के बाद समिति ने प्रस्तावित दूसरे और तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी है। जिसके बाद ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भी अपनी मंजूरी दे दी।

इसे पहले इस वैक्सीन का भारत मे तीन चरण का ट्रायल अलग-अलग जगहों पर हुआ था।जिसके बाद जनवरी के पहले हफ्ते में इस वैक्सीन को इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन की मंजूरी दे दी गई थी। अब भारत मे चल रहे टीकाकरण में इसे लोगों को दिया जा रहा है।

पढ़ें :- अखिलेश ने वीडियो ट्वीट कर बीजेपी सरकार पर कसा तंज, लिखा-'भईया काशी नहीं बन पाया अभी तक क्योटो'

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...