1. हिन्दी समाचार
  2. कोरोना वायरस: लापरवाही बरतने पर आगरा के बाद कानपुर के CMO पर भी गिर सकती है गाज!

कोरोना वायरस: लापरवाही बरतने पर आगरा के बाद कानपुर के CMO पर भी गिर सकती है गाज!

Corona Virus Due To Negligence Even After Agra Cmo Of Kanpur May Fall

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

कानपुर: कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी दुनिया इन दिनों परेशान है और इससे उत्तर प्रदेश भी अछूता नहीं है। तो वहीं प्रदेश में ताज नगरी आगरा और औद्योगिक राजधानी कानपुर नगर में जिस तरह से कोरोना का संक्रमण बेतहासा से बढ़ रहा है उससे शासन की भी नींद हराम हो गयी है। इसी के चलते आगरा के सीएमओ सहित दो प्रमुख स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर शासन ने गाज गिरा दी है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि कानपुर में स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिस प्रकार कोरोना को लेकर लापरवाही बरती गयी तो किसी भी समय शासन संज्ञान लेकर यहां के सीएमओ पर गाज गिरा सकता है। यही नहीं कोविड-19 के नोडल अधिकारी भी सीएमओ की कार्य शैली से बेहद खफा हैं और रोजाना रिपोर्ट बनाकर शासन को भेज रहे हैं।

पढ़ें :- महिलाओं को ये काम करते कभी ना देखें वरना हो सकती है बड़ी भूल

वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए कानपुर में 23 मार्च से लॉकडाउन जारी है। 23 मार्च को ही यहां पर पहला कोरोना पॉजिटिव केस सामने आया था। इसके बाद से कानपुर नगर की हालत रोजाना बिगड़ती ही चली गयी और कोरोना संक्रमण के मामले में तिहरा शतक पार कर गया। यहां पर अब तक 301 कोरोना पॉजिटिव मरीज आ चुके हैं। यही नहीं प्रदेश को राजधानी लखनऊ को पछाड़ लगातार दूसरे नंबर पर बरकरार है और सूबे में सिर्फ ताज नगरी आगरा ही करीब साढ़े सात सौ मरीजों के साथ आगे है।

इसी को लेकर अब शासन ने दोनों महानगरों की बिगड़ती हालत को देख कड़ी नाराजगी व्यक्त की और आगरा में सीएमओ सहित दो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का निलंबन कर दिया। वहीं कानपुर नगर की जमीनी हकीकत व अब तक हुए प्रयासों की नोडल अधिकारी के जरिये रोजाना रिपोर्ट शासन मांग रहा है। नोडल अधिकारी अनिल गर्ग शासन को क्या रिपोर्ट दे रहे है यह तो वही बता सकते हैं, पर जिस तरह से प्रमुख सचिव व नोडल अधिकारी का सीएमओ डा. अशोक कुमार शुक्ला के प्रति रुख दिख रहा है उससे साफ है कि रिपोर्ट सीएमओ के खिलाफ ही गयी होगी।

शासन द्वारा नामित कोविड-19 नोडल अधिकारी अनिल गर्ग इन दिनों रोजाना दिन भर के हुए कार्यों व आगामी रणनीति के लिए मंडलायुक्त कार्यालय में आलाधिकारियों के साथ बैठक करते हैं। शायद ही ऐसा कोई दिन रहा हो जिस दिन नोडल अधिकारी सीएमओ को फटकार न लगाते हों। यही नहीं मंडलायुक्त भी नाखुश रहते हैं और बराबर दिशा निर्देश देते रहते हैं।

पढ़ें :- पैर भी बताते हैं कितने भाग्यशाली हैं आप, जानिए क्या है समुद्रशास्त्र

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...