1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. कोरोना सिर्फ विज्ञापनों से नहीं भागेगा ‘एक देश, एक नीति’ की है जरूरत : नवाब मलिक

कोरोना सिर्फ विज्ञापनों से नहीं भागेगा ‘एक देश, एक नीति’ की है जरूरत : नवाब मलिक

देश में कोरोना महामारी की जारी सुनामी के बीच एनसीपी नेता नवाब मलिक ने सोमवार को केंद्र की मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। कहा कि ऐसे वक्त में जब देश में मौजूदा कोविड-19 के मद्देनजर 'एक देश, एक नीति' की जरूरत है, कोरोना वायरस सिर्फ विज्ञापनों से नहीं भागेगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

मुंबई। देश में कोरोना महामारी की जारी सुनामी के बीच एनसीपी नेता नवाब मलिक ने सोमवार को केंद्र की मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। कहा कि ऐसे वक्त में जब देश में मौजूदा कोविड-19 के मद्देनजर ‘एक देश, एक नीति’ की जरूरत है, कोरोना वायरस सिर्फ विज्ञापनों से नहीं भागेगा। उन्होंने दावा किया कि बिहार और उत्तर प्रदेश में स्थिति इतनी खराब है कि कोविड-19 से मरने वालों का अंतिम संस्कार शवदाह गृह के स्थान पर नदियों में किया जा रहा है।

पढ़ें :- राजस्थान में 'भारत जोड़ो यात्रा' की एंट्री से पहले सियासी बवाल के आसार

उन्होंने कहा कि देश में जब तक एक नीति नहीं है, कोविड-19 महामारी से नहीं निपटा जा सकता। नीति निर्धारित करने के लिए मोदी सरकार को सर्वदलीय बैठक बुलानी चाहिए। उन्होंने दावा किया कि किसी को इसपर संदेह नहीं है कि केंद्र कोविड-19 से उत्पन्न स्थिति से निपट नहीं सकता है। उन्होंने कहा कि केंद्र वह काम नहीं कर रहा है, जो उसे करना चाहिए। इसलिए वह अदालत के आदेश से किए जा रहे हैं। इसका अर्थ यह है कि केंद्र सरकार अपना कर्तव्य निभाने में असफल रही है।

थोराट ने टीकाकरण कार्यक्रम पर बरसे

महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बालासाहेब थोराट ने टीकाकरण कार्यक्रम को लेकर केंद्र पर निशाना साधा है। थोराट ने कहा कि दुर्भाग्यवश यह साबित हो गया है कि मोदी सरकार के पास लोगों की रक्षा के लिए कोई उचित नीति या योजना नहीं है। थोराट ने कहा कि केंद्र ने कोविड-19 की पहली लहर का सफल प्रबंधन करने का दावा किया, लेकिन जिस तरह से चुनाव कराए गए, कुंभ मेले का आयोजन हुआ। उसका पूरा देश उसका परिणाम भुगत रहा है।

राजनीति में फंसे रहे शासन कर रहे लोग : शिवसेना

पढ़ें :- हाथ से हाथ जोड़ो अभियान की शुरुआत करेगी कांग्रेस, पार्टी अध्यक्ष ने दिए ये निर्देश

शिवसेना ने दावा किया कि देश में कोरोना महामारी की भयावह स्थिति के लिए केंद्र सरकार, उसका नेतृत्व और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरी तरह जिम्मेदार हैं। महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल शिवसेना ने भी केंद्र पर निशाना साधा और कहा कि कोविड-19 से पैदा हालात को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कार्य बल का गठन किया, लेकिन देश पर शासन कर रहे लोग राजनीति में फंसे रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...