1. हिन्दी समाचार
  2. कोरोना का कहर: 49 दिनों में कराची के कब्रिस्तान में क​म बड़ गई जगह, मौतों का आंकड़ा छिपा रहा पाक

कोरोना का कहर: 49 दिनों में कराची के कब्रिस्तान में क​म बड़ गई जगह, मौतों का आंकड़ा छिपा रहा पाक

Coronas Havoc 49 Days In Karachis Cemetery There Is A Huge Space The Figure Of Deaths Is Hidden In Pakistan

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण से पड़ोसी देश पाकिस्तान भी बुरी तरह प्रभावित है। पाकिस्तान में डॉक्टरों और स्वास्थकर्मियों के पास व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट, मास्क और दस्ताने की सुविधा नहीं है। इसके बावजूद कोविड-19 के मामले जनसंख्या के हिसाब से काफी कम हैं।

पढ़ें :- छोटी-छोटी गलतियों को ध्यान दिया जाए तो दुघर्टनाओं पर लगेगी रोक : सीएम योगी

पाकिस्तान में अब तक कोरोना के 7400 से ज्यादा मामले सामने आए हैं और 143 लोगों की मौत हुई है। मगर पाकिस्तान के इन आंकड़ों पर उस समय सवाल उठने लगे जब खबर आई कि कराची शहर के कब्रिस्तानों में बीते 49 दिनों में 3265 शवों को दफनाया गया है। ये संख्या चौंकाने वाली है।

पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार ये आंकड़े कराची प्रशासन ने जारी किए हैं। इससे पहले पाकिस्तानी मीडिया में इस तरह की खबरें आई थीं कि कराची के अस्पतालों में कोरोना से बड़ी तादाद में लोगों की मौत हो रही है लेकिन आम लोगों से प्रशासन इसे छुपाने की कोशिशों में लगा हुआ है।

रिपोर्ट के अनुसार जब हजारों दफनाए गए शवों को लेकर अधिकारियों से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने इस बात का जवाब नहीं दिया कि आखिर इतने लोगों की मौत कैसे हुई। वहीं इमरान खान सरकार ने मौत के इन आंकड़ों को सिरे से खारिज कर दिया है। जबकि शवों को दफनाने का आंकड़ा कराची नगर निगम ने जारी किया है।

इससे साफ जाहिर होता है कि इमरान सरकार कुछ छुपाने की कोशिश कर रही है। वहीं भारत की बात की जाए तो यहां कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी देखने को मिली है। पिछले 12 घंटे में वायरस के 543 नए मामले सामने आए हैं, जो शुक्रवार (628) की तुलना में कम है।

पढ़ें :- कांग्रेस नए साल के कैलेंडर के जरिए पहुंचेगी घर-घर, प्रियंका गांधी की लगी हैं तस्वीरें

पाकिस्तान सरकार मस्जिदों में लोगों के जमा होने के खिलाफ आदेशों का उल्लंघन करने वाले मौलवियों पर लगाम कसने के लिए संघर्ष कर रही है। विषाणु पर नियंत्रण लगाने की कोशिशों के बीच संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। सरकार के सामने सबसे बड़ी बाधा मौलवियों को मस्जिदों में एक साथ मिलकर सामूहिक इबादत से रोकने के लिए राजी करना हो रहा है।

राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने शुक्रवार को जमात-ए-इस्लामी प्रमुख सीनेटर सिराजुल हक, जमात उलेमा-ए-इस्लाम-फज्ल प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान, मरकजी जमात अहले हदीस प्रमुख सीनेटर साजिद मीर और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज नेता राना तनवीर हुसैन से शुक्रवार को इस मुद्दे पर बात की।  प्रधानमंत्री इमरान खान के भी इस अहम मुद्दे पर धार्मिक नेताओं को विश्वास में लेने के लिए उनसे मुलाकात करने की संभावना है।

अभी तक तबलीगी जमात ने सहयोग का वादा किया है और उसके प्रमुख मौलाना नजरुर रहमान ने अपने अनुयायियों से रमजान में आधिकारिक दिशा निर्देशों का पालन करने की अपील की है। धार्मिक मामलों के मंत्री पीर नूरुल हक कादरी ने शुक्रवार को मौलवियों से कोरोना वायरस को हराने के लिए सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करने के लिए कहा।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...