1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Corona के इंडियन वैरिएंट की अब तक 44 देशों में एंट्री , WHO बोला – 4500 से ज्यादा सैंपल में हुई पुष्टि

Corona के इंडियन वैरिएंट की अब तक 44 देशों में एंट्री , WHO बोला – 4500 से ज्यादा सैंपल में हुई पुष्टि

भारत में कोरोना वायरस से हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है। संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अब भारत में पहली बार पहचाना गया कोविड-19 का नया वैरिएंट दुनियाभर के अन्य देशों में भी पैर पसारने लगा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बुधवार को कहा कि भारत में कोरोना के जिस वैरिएंट के कारण स्थिति बिगड़ी है, वह अब तक दर्जनों देशों में पाया जा चुका है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

जिनेवा । भारत में कोरोना वायरस से हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है। संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अब भारत में पहली बार पहचाना गया कोविड-19 का नया वैरिएंट दुनियाभर के अन्य देशों में भी पैर पसारने लगा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बुधवार को कहा कि भारत में कोरोना के जिस वैरिएंट के कारण स्थिति बिगड़ी है, वह अब तक दर्जनों देशों में पाया जा चुका है।

पढ़ें :- Parliament Winter Session: सदन के दौरान ही पीएम मोदी ने उपराष्ट्रपति को दी बधाई, कहा युवाओं को भी दें मौका

44 देशों में मिला कोरोना के भारतीय वैरिएंट

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा कि कोरोना का B.1.617 वैरिएंट पिछले साल अक्टूबर महीने में भारत में पाया गया था। WHO ने बताया कि 44 देशों में भारतीय वैरिएंट पाया गया है। अब तक 4500 से ज्यादा सैंपल्स में मिल चुका है।

भारत के बाहर ब्रिटेन में सामने आए सबसे ज्यादा मामले

कोरोना वायरस का इंडियन वैरिएंट भारत के बाहर सबसे ज्यादा ब्रिटेन में सामने आया है। बता दें कि इस सप्ताह के शुरुआत में डब्ल्यूएचओ ने B.1.617 की घोषणा की- जो कि अपने म्यूटेशन और विशेषताओं के कारण “चिंता का एक प्रकार” के रूप में गिना जाता है। इसलिए इसे पहली बार ब्रिटेन, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में कोविड -19 के तीन अन्य वैरिएंट वाली सूची में जोड़ा गया था।

पढ़ें :- संसद के शीतकालीन सत्र का पहला दिन: PM मोदी ने मीडिया से कि बातचीत

ज्यादा संक्रामक है कोरोना का भारतीय वैरिएंट

भारत के इस नए वैरिएंट को वैज्ञानिक तौर पर B.1.617 नाम दिया गया है, जिसमें दो तरह के म्यूटेशंस (E484Q और L452R) हैं। यह वायरस का वह रूप है, जिसके जीनोम में दो बार बदलाव हो चुका है। भारत में फैल रहा डबल म्यूटेंट वायरस E484Q और L452R के मिलने से बना है। बता दें कि L452R स्ट्रेन अमेरिका के कैलिफोर्निया में पाया जाता है, जबकि E484Q स्ट्रेन भारत में पाया जाता है। यह वैरिएंट ज्यादा संक्रामक और तेजी से फैलता है।

भारत में 24 घंटे में 348421 नए केस आए सामने

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में भारत में 3 लाख 48 हजार 421 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए है, जबकि इस दौरान 4205 लोगों की जान गई। इसके बाद भारत में कोरोना वायरस के संक्रमितों की कुल संख्या 2 करोड़ 33 लाख 40 हजार 938 हो गई है, जबकि 2 लाख 54 हजार 197 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। आंकड़ों के अनुसार, देशभर में पिछले 24 घंटे में 3 लाख 55 हजार 338 लोग ठीक हुए, जिसके बाद कोविड-19 से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 1 करोड़ 93 लाख 82 हजार 642 हो गई है। इसके साथ ही देशभर में एक्टिव मामलों में भी गिरावट आई है और देशभर में 37 लाख 4 हजार 99 लोगों का इलाज चल रहा था।

पढ़ें :- Google के CEO सुंदर पिचाई को मिला पद्म भूषण सम्मान, भारत को लेकर दिया ये बड़ा बयान
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...