कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अमेरिका ने भारत को दिए 21 करोड़ रुपए

modi
कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अमेरिका ने भारत को दिए 21 करोड़ रुपए

नई दिल्ली। अमेरिका ने कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने में मदद करने के मकसद से भारत समेत 64 देशों को 17.4 करोड़ डॉलर की अतिरिक्त आर्थिक सहायता देने की शुक्रवार को घोषणा की। इस राशि में से 29 लाख डॉलर मदद के तौर पर भारत को दिए जांएगे। यह फरवरी में अमेरिका की ओर से घोषित 10 करोड़ डॉलर की मदद के अलावा है। फिलहाल घोषित की गई नयी राशि रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र (सीडीसी) समेत विभिन्न विभागों एवं एजेंसियों के विशाल अमेरिकी वैश्विक प्रतिक्रिया पैकेज का हिस्सा है।  

Coronavirus Pandemic United States Financial Aid 174 Million :

भारत को मिले 2.9 डॉलर

174 मिलियन डॉलर की ये राशि फरवरी में घोषित की गई 100 मिलियन डॉलर मदद के अलावा है। अमेरिकी के स्टेड डिपार्टमेंट ने कहा कि वो भारत को 2.9 मिलियन डॉलर की राशि दे रहा है, जिसका इस्तेमाल लैब, नए मामलों का पता लगाने में, कोरोना मरीजों की निगरानी करने और टेक्निकल एक्सपर्ट की सेवाएं लेने में किया जा सकेगा।

अमेरिका ने कहा है कि वो दशकों से स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए दुनिया में मदद देता रहा है। स्टेट डिपार्टमेंट के अनुसार अमेरिका लोगों की जिंदगियां बचाने में आगे रहा है, हम वैसे लोगों की रक्षा करते रहे हैं, जिन्हें बीमारियों की चपेट में आने का खतरा है, हम स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित संस्थान बनाते रहे हैं और समुदायों और राष्ट्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करते रहे हैं।

नेपाल-बांग्लादेश को भी मदद

भारत के अलावा अमेरिका ने श्रीलंका को 1.3 मिलियन डॉलर, नेपाल को 1.8 डॉलर, बांग्लादेश को 3.4 बिलियन डॉलर और अफगानिस्तान को 5 मिलियन डॉलर की राशि देने का ऐलान किया है।

अमेरिका में दुनिया के सबसे ज्यादा कोरोना मरीज

बता दें कि इस वक्त अमेरिका खुद भी कोरोना महामारी से जूझ रहा है। वहां पर अभी एक लाख से ज्यादा कोरोना मरीज है जिनका देश के अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है।

नई दिल्ली। अमेरिका ने कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से निपटने में मदद करने के मकसद से भारत समेत 64 देशों को 17.4 करोड़ डॉलर की अतिरिक्त आर्थिक सहायता देने की शुक्रवार को घोषणा की। इस राशि में से 29 लाख डॉलर मदद के तौर पर भारत को दिए जांएगे। यह फरवरी में अमेरिका की ओर से घोषित 10 करोड़ डॉलर की मदद के अलावा है। फिलहाल घोषित की गई नयी राशि रोग नियंत्रण एवं बचाव केंद्र (सीडीसी) समेत विभिन्न विभागों एवं एजेंसियों के विशाल अमेरिकी वैश्विक प्रतिक्रिया पैकेज का हिस्सा है।   भारत को मिले 2.9 डॉलर 174 मिलियन डॉलर की ये राशि फरवरी में घोषित की गई 100 मिलियन डॉलर मदद के अलावा है। अमेरिकी के स्टेड डिपार्टमेंट ने कहा कि वो भारत को 2.9 मिलियन डॉलर की राशि दे रहा है, जिसका इस्तेमाल लैब, नए मामलों का पता लगाने में, कोरोना मरीजों की निगरानी करने और टेक्निकल एक्सपर्ट की सेवाएं लेने में किया जा सकेगा। अमेरिका ने कहा है कि वो दशकों से स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए दुनिया में मदद देता रहा है। स्टेट डिपार्टमेंट के अनुसार अमेरिका लोगों की जिंदगियां बचाने में आगे रहा है, हम वैसे लोगों की रक्षा करते रहे हैं, जिन्हें बीमारियों की चपेट में आने का खतरा है, हम स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित संस्थान बनाते रहे हैं और समुदायों और राष्ट्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करते रहे हैं। नेपाल-बांग्लादेश को भी मदद भारत के अलावा अमेरिका ने श्रीलंका को 1.3 मिलियन डॉलर, नेपाल को 1.8 डॉलर, बांग्लादेश को 3.4 बिलियन डॉलर और अफगानिस्तान को 5 मिलियन डॉलर की राशि देने का ऐलान किया है। अमेरिका में दुनिया के सबसे ज्यादा कोरोना मरीज बता दें कि इस वक्त अमेरिका खुद भी कोरोना महामारी से जूझ रहा है। वहां पर अभी एक लाख से ज्यादा कोरोना मरीज है जिनका देश के अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है।