मंत्री सुरेश खन्ना और चेयरमैन जल निगम ने भ्रष्टाचारी राजीव निगम को बनाया C&DS का निदेशक

मंत्री सुरेश खन्ना और चेयरमैन जल निगम ने भ्रष्टाचारी राजीव निगम को बनाया C&DS का निदेशक

लखनऊ। भाजपा के भ्रष्टाचार मुक्त उत्तर प्रदेश बनाने के वादे को सीएम योगी आदित्यनाथ के काबिल मंत्री और उन मंत्रियों के सलाहकार पलीता लगाते नजर आ रहे हैं। भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई करने के बजाय मंत्री जी भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे अधिकारियों को बड़ी से बड़ी कुर्सी पर बैठाने में लगे हैं।

हम बात कर रहे हैं यूपी जल निगम की निर्माण इकाई C&DS (सीएंडडीएस) के नव नियुक्त निदेशक राजीव निगम की। राजीव निगम सीएंडडीएस के एक ऐसे सीनियर इंजीनियर हैं जिन्होंने पिछले कई सालों से फील्ड का काम नहीं देखा है। जिसकी मुख्य वजह उनके ऊपर लगे भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं।

{ यह भी पढ़ें:- खबर का असर: 1000 करोड़ की बंद अमृत योजनाओं की पुनर्समीक्षा करेगा जल निगम }

सूत्रों की माने तो राजीव निगम ने महोबा कलेक्ट्रेट के निर्माण में बड़े स्तर पर घोटालेबाजी को संरक्षण दिया था। जिसकी जांच के बाद महोबा जिले के तत्कालीन जिलाधिकारी ने राजीव निगम को भ्रष्टाचार का दोषी पाते हुए, शासन को शिकायत भेजी थी। उस शिकायत के बाद से राजीव निगम को सीएंडडीएस से हटाकर जल​ निगम मुख्यालय में तैनात कर दिया गया था। जहां वह लंबे समय से विभाग की सप्लाई यूनिट के इंचार्ज थे। बताया तो यह भी जाता है कि उन्होंने मुख्यालय में तैनाती के दौरान भी जमकर माल बनाया है। उनकी इसी योग्यता को देखते हुए जल निगम के प्रबंध निदेशक और सीएंडडीएस कार्यवाहक निदेशक राजेश मित्तल ने उनका राजीव निगम का नाम सीएंडडीएस के निदेशक पद दावेदारों की लिस्ट में डाल दिया।

विभागीय सूत्रों का कहना तो यहां तक है कि जल निगम के एमडी राजेश मित्तल ने निगम के चेयरमैन जी पटनायक और विभागीय मंत्री सुरेश खन्ना को राजीव निगम की नियुक्ति के लिए राजी किया है।

{ यह भी पढ़ें:- जल निगम भर्ती घोटाले में एक बार फिर सामने आया C&DS के निदेशक और पूर्व MD का नाम }

आपको बता दें कि जल निगम चेयरमैन और प्रबंध निदेशक की जुगलबंदी लगातार विभागीय नियमों की धज्जियां उड़ाने को लेकर सुर्खियों में हैं। कुछ दिन पहले ही इन दोनों जिम्मेदार अधिकारियों ने जल निगम के संविधान को नजरंदाज करते हुए निगम के खातों पर ब्याज से हुई आय को वेतन के रूप में बांट दिया। जिसकी सूचना उत्तर प्रदेश शासन के मुख्य सचिव राजीव कुमार और नगर विकास विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह से लिखित रूप से दी गई। इन अधिकारियों ने भी शिकायत को संज्ञान में लिया लेकिन बाद में ठंडे बस्ते में डाल दिया। जिसका नतीजा ​जल निगम में रोज होने वाली मनमानियों के रूप में सामने आ रहा हैै।

 

मुनेन्द्र शर्मा
एडिटर इन चीफ
पर्दाफाश न्यूज

{ यह भी पढ़ें:- अमेठी: भ्रष्टाचार ने जनपद में जमाई जड़ें }

Loading...