1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार: लाखों रुपये खर्च के बाद भी एक दिन नहीं चल पाई सड़क, संजय सिंह ने कसा तंज

सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार: लाखों रुपये खर्च के बाद भी एक दिन नहीं चल पाई सड़क, संजय सिंह ने कसा तंज

Corruption In Road Construction Despite Spending Lakhs Of Rupees Road Could Not Run For A Day Sanjay Singh Tightened

By शिव मौर्या 
Updated Date

भदोही। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातर भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने की कोशिश कर रहे हैं। वह भ्रष्ट अफसरों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रहे हैं लेकिन अफसर यूपी सरकार की छवि को धूमिल करना चाहते हैं। सड़क निर्माण का एक ऐसा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसे देखते ही पीडब्ल्यूडी में पनप रहे भ्रष्टाचार की पोल सामने आ जायेगी। वहीं, आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने इसको लेकर सरकार पर तंज कसा है।

पढ़ें :- यूपी उप चुनाव: सीएम योगी बोले-अब नौकरी के लिए नहीं देनी पड़ती है रिश्वत

उन्होंने कहा है कि जरा ध्यान दे योगी जी के राज में कैसे तेजी के साथ गड्ढा मुक्त सड़कों का निर्माण हो रहा है।  वायरल हुआ वीडियो यूपी के भदेाही का बताया जा रहा है, जहां निर्माण के एक दिन भी सड़क नहीं चल पाई। स्थानीय लोगों ने झाडू से सड़क पर पड़ी गिटियों को बटोर दिया। इसके साथ ही ग्रामीणों ने जमकर हंगामा किया। वहीं, शनिवार को ग्रामीणों का आक्रोश को देख निर्माण कर रहे मजदूर भाग खड़े हुए और काम रोक दिया।

पढ़ें :- यूपी सरकार की बड़ी कार्रवाई: सड़क निर्माण घोटाले में यूपीसीडा के प्रधान महाप्रबंधक अरुण कुमार मिश्रा गिरफ्तार

जानकारी मिलने पर पहुंचे अवर अभियंता और सहायक अभियंता को ग्रामीणों ने खदेड़ दिया। साथ ही विभाग के खिलाफ नारेबाजी की। आरोप लगाया कि लाखों रुपये खर्च के बाद भी एक दिन भी सड़क नहीं चली और गिट्टी बिखर गई। क्षेत्र के प्रशांत शुक्ला ने मुख्यमंत्री और लोक निर्माण मंत्री केशव मौर्य के ट्वीटर पर निर्माणाधीन सड़क की वीडियो ट्वीट किया है।

सड़क पर बिखरी गिट्टी को झाड़ू से इकट्ठा करते हुए दिखाया गया है। यह वीडियो बहुत तेज से सोशल मीडिया पर शेयर हो रहा है। शनिवार को सड़क निर्माण करने पहुंचे मजदूरों को गांव के लोगों ने रोक दिया। संबंधित ठेकेदार की सूचना पर सहायक अभियंता सुदामा यादव और अवर अभियंता बलराम कुमार मौके पर पहुंच गए। ग्रामीण कुछ बोल रहे थे कि अवर अभियंता ने गलत बयान दे दिया। इसी को लेकर ग्रामीणों का आकोश फूट पड़ा और अभियंताओं को खदेड़ लिया।

प्रयागराज से जुड़ा है ठेकेदार का तार
ठेकेदार का तार प्रयागराज से जुड़ा हुआ है। वह लोक निर्माण विभाग के सबसे प्रिय ठेकेदारों में शामिल है। खास बात तो यह है कि गड्ढा मुक्ति अभियान में 163 सड़कों में आधे से अधिक का टेंडर इसी को मिला है। सत्ता से जुड़ा मामला होने के कारण अधिकारी भी चाहकर भी कुछ नहीं करते हैं। अब तक 15 सड़कों का निर्माण कराया जा चुका है। यह तो यह पहला मामला है। जांच हुई तो पूरे विभाग की पोल खुल जाएगी।

 

पढ़ें :- यूपी: दरिंदों ने पार की हैवानियत की सारी हदें, महिला की हत्या के बाद शव के 15 टुकड़े करके फेंका

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...