कोरोना के कहर से संसद भी हुआ लॉकडाउन, बिना बहस के फाइनेंस बिल 2020 पास

sansad
कोरोना के कहर से संसद भी हुआ लॉकडाउन, बिना बहस के फाइनेंस बिल 2020 पास

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के चलते संसद के दोनो सदनो को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है। इस दौरान लोकसभा में बिना किसी बहस के फाइनेंस बिल 2020 पास हो गया है। संसद सत्र खत्म करने पर सभी दलों में सहमति बन गई है। बता दें कि बजट सत्र का दूसरा चरण 3 अप्रैल तक चलना था, लेकिन कोरोना वायरस के कारण समय से पहले ही कार्यवाही को स्थगित कर दिया गया। इससे पहले लोकसभा में कोरोना कमांडोज के लिए सांसदों ने ताली भी बजाई।

Corruption Wreaked Havoc Parliament Also Passed Lockdown Finance Bill 2020 Without Debate :

बता दें कि पहले ही समाजवादी पार्टी, टीएमसी और शिवसेना के सांसदों ने संसद सत्र में शामिल नहीं होने का घोषणा कर दी थी। संसद के बजट सत्र का तीन अप्रैल को समापन होना था लेकिन कोरोना वायरस की गंभीरता और विपक्ष की संसद को स्थगित करने की मांग को देखते हुए ऐसा कदम उठाया गया है।

आपको बता दें कि बजट पेश करने के बाद फाइनेंस बिल को लोकसभा में पेश किया जाता है। इस विधेयक में बजट में प्रस्तावित करों को लागू करने, हटाने, घटाने, बढ़ाने या नियमों में अन्य बदलावों की विस्तार से जानकारी होती है। अगर कोई प्रश्न उठता है कि कोई विधेयक धन विधेयक है या नहीं है। इस पर सदन के स्पीकर का निर्णय अंतिम होता है।

बता दें कि अभी तकदेश में कोरोनावायरस के 400 से ज्यादा मामले आस चुके हैं जबकि 8 लोगों की मौत हो गई है। कोरोना के मरीज सबसे ज्यादा महाराष्ट्र से हैं, जहां COVID-19 से 89 लोग संक्रमित हैं। हालात को देखते हुए देश के कई राज्यों के शहरों को पूरी तरह लॉकडाउन कर दिया गया है। वहीं जहां पर लोग नही मान रहे हैं वहां कफ्र्यू भी लगाया जा रहा है।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के चलते संसद के दोनो सदनो को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है। इस दौरान लोकसभा में बिना किसी बहस के फाइनेंस बिल 2020 पास हो गया है। संसद सत्र खत्म करने पर सभी दलों में सहमति बन गई है। बता दें कि बजट सत्र का दूसरा चरण 3 अप्रैल तक चलना था, लेकिन कोरोना वायरस के कारण समय से पहले ही कार्यवाही को स्थगित कर दिया गया। इससे पहले लोकसभा में कोरोना कमांडोज के लिए सांसदों ने ताली भी बजाई। बता दें कि पहले ही समाजवादी पार्टी, टीएमसी और शिवसेना के सांसदों ने संसद सत्र में शामिल नहीं होने का घोषणा कर दी थी। संसद के बजट सत्र का तीन अप्रैल को समापन होना था लेकिन कोरोना वायरस की गंभीरता और विपक्ष की संसद को स्थगित करने की मांग को देखते हुए ऐसा कदम उठाया गया है। आपको बता दें कि बजट पेश करने के बाद फाइनेंस बिल को लोकसभा में पेश किया जाता है। इस विधेयक में बजट में प्रस्तावित करों को लागू करने, हटाने, घटाने, बढ़ाने या नियमों में अन्य बदलावों की विस्तार से जानकारी होती है। अगर कोई प्रश्न उठता है कि कोई विधेयक धन विधेयक है या नहीं है। इस पर सदन के स्पीकर का निर्णय अंतिम होता है। बता दें कि अभी तकदेश में कोरोनावायरस के 400 से ज्यादा मामले आस चुके हैं जबकि 8 लोगों की मौत हो गई है। कोरोना के मरीज सबसे ज्यादा महाराष्ट्र से हैं, जहां COVID-19 से 89 लोग संक्रमित हैं। हालात को देखते हुए देश के कई राज्यों के शहरों को पूरी तरह लॉकडाउन कर दिया गया है। वहीं जहां पर लोग नही मान रहे हैं वहां कफ्र्यू भी लगाया जा रहा है।