विधानभवन के सामने दम्पति ने तीन बच्चों संग किया आत्मदाह का प्रयास

a

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी के विधान सभा के सामने आज उस समय हड़कम्प मच गया जब बाराबंकी से तीन बच्चो के साथ आये एक दम्पत्ति ने पूरे परिवार के उपर मिटटी का तेल छिड़क का आग लगाने का प्रयास शुरू कर दिया। वहंा सुरक्षा में मौजूद पुलिस कर्मियो ने पूरे परिवार को पकड़ लिया और मिटटी के तेल का गैलन और माचिस छीन ली। मौके पर पहुंची हजरतगंज पुलिस ने सभी को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उनको बाराबंकी पुलिस के हवाले कर दिया गया। आत्मदाह करने आये लोगों का आरोप था कि उनकी दुकान को पुलिस द्वारा उजाड़ दिया गया है।

Couple With Children Tried To Commit Suicide Infront Of Vidhansabha :

फर्नीचर का काम करने वाले मोहम्मद नसीर अपनी पत्नी नाजिय़ा बानो औत तीन बच्चो के साथ बराबंकी शहर कोतवाली थाना क्षेत्र के लव खेड़ाबाद मे रहते है। मोहम्मद नसीर सोमवार की सुबह अपनी पत्नी और तीनों बच्चो के साथ विधान सभा के सामने पहुंचे और उन्होंने पहले अपने बच्चो और पत्नी पर मिट्टी का तेल छिड़का फिर खुद को भी मिट्टी के तेल से भिगो लिया।

परिवार के पाचों सदस्यो को तेल मे भिगोने के बाद उन्होंने माचिस निकाल कर आग लगाने का प्रयास किया। वह लोग खुद को आग लगा पता, इससे पहले मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों ने नसीर के हाथ से माचिस छीन ली और परिवार के सभी सदस्यो को भी पकड़ लिया। सूचना पाकर इन्स्पेक्टर हजऱतगंज राधा रमण सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और मिट्टी के तेल मे सराबरो परिवार के सभी लोगों को तत्काल सिविल अस्प्ताल भेजा जहंा सभी का प्राथमिक उपचार किया गया।

इंसपेक्टर हजरतगंज ने बताया कि मोहम्मद नसीर का बाराबंकी की शहर कोतवाली क्षेत्र मे किसी सरकारी ज़मीन पर अवैध कब्जा था जिसको पुलिस ने हटवा दिया था। नसीर ने पुलिस पर उत्पीडऩ का का अरोप लगाया। नसीर का कहना था कि शहर कोतवाली पुलिस एक स्थानीय दंबग का साथ दे रही है पीडि़त के अनुसार उसने एक स्थानीय दबंग के खिलाफ एक साल पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र भेज कर शिकायत की थी लेकिन पुलिस फिर भी दबंग के साथ खड़ी नजऱ आयी । बाराबंकी पुलिस से न्याय न मिलने पर वह लोग आत्मदाह के लिए मजबूर हो गये। नसीर का कहना था कि दबंग उसे लगातार डरा धमका रहे हंै।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी के विधान सभा के सामने आज उस समय हड़कम्प मच गया जब बाराबंकी से तीन बच्चो के साथ आये एक दम्पत्ति ने पूरे परिवार के उपर मिटटी का तेल छिड़क का आग लगाने का प्रयास शुरू कर दिया। वहंा सुरक्षा में मौजूद पुलिस कर्मियो ने पूरे परिवार को पकड़ लिया और मिटटी के तेल का गैलन और माचिस छीन ली। मौके पर पहुंची हजरतगंज पुलिस ने सभी को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया, जहां से उनको बाराबंकी पुलिस के हवाले कर दिया गया। आत्मदाह करने आये लोगों का आरोप था कि उनकी दुकान को पुलिस द्वारा उजाड़ दिया गया है। फर्नीचर का काम करने वाले मोहम्मद नसीर अपनी पत्नी नाजिय़ा बानो औत तीन बच्चो के साथ बराबंकी शहर कोतवाली थाना क्षेत्र के लव खेड़ाबाद मे रहते है। मोहम्मद नसीर सोमवार की सुबह अपनी पत्नी और तीनों बच्चो के साथ विधान सभा के सामने पहुंचे और उन्होंने पहले अपने बच्चो और पत्नी पर मिट्टी का तेल छिड़का फिर खुद को भी मिट्टी के तेल से भिगो लिया। परिवार के पाचों सदस्यो को तेल मे भिगोने के बाद उन्होंने माचिस निकाल कर आग लगाने का प्रयास किया। वह लोग खुद को आग लगा पता, इससे पहले मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों ने नसीर के हाथ से माचिस छीन ली और परिवार के सभी सदस्यो को भी पकड़ लिया। सूचना पाकर इन्स्पेक्टर हजऱतगंज राधा रमण सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और मिट्टी के तेल मे सराबरो परिवार के सभी लोगों को तत्काल सिविल अस्प्ताल भेजा जहंा सभी का प्राथमिक उपचार किया गया। इंसपेक्टर हजरतगंज ने बताया कि मोहम्मद नसीर का बाराबंकी की शहर कोतवाली क्षेत्र मे किसी सरकारी ज़मीन पर अवैध कब्जा था जिसको पुलिस ने हटवा दिया था। नसीर ने पुलिस पर उत्पीडऩ का का अरोप लगाया। नसीर का कहना था कि शहर कोतवाली पुलिस एक स्थानीय दंबग का साथ दे रही है पीडि़त के अनुसार उसने एक स्थानीय दबंग के खिलाफ एक साल पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र भेज कर शिकायत की थी लेकिन पुलिस फिर भी दबंग के साथ खड़ी नजऱ आयी । बाराबंकी पुलिस से न्याय न मिलने पर वह लोग आत्मदाह के लिए मजबूर हो गये। नसीर का कहना था कि दबंग उसे लगातार डरा धमका रहे हंै।