‘लव कमांडो’ का संचालक हुआ गिरफ्तार, आमिर के ‘सत्यमेव जयते’ से हुआ था हिट

नई दिल्ली। आमिर खान द्वारा प्रस्तुत चर्चित कार्यक्रम ‘सत्यमेव जयते’ जैसे कार्यक्रम से सुर्खियां बटोरने वाले ‘लव कमांडो’ एनजीओ के चेयरमैन संजय सचदेव को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसने कई जोड़ों को शेल्टर होम में बंधक बना रखा था. जिन्हें पुलिस और दिल्ली महिला आयोग की टीम ने वहां छापा मारकर छुड़ाया.लव-जिहाद जैसे मामलों में सुरक्षा देने का दावा करने वाले संजय सचदेव पर प्रेमी युगलों को बंधक बनाकर उगाही करने और महिलाओं को शराब पिलाकर छेड़छाड़ करने जैसे गंभीर आरोप लगे हैं।

Couples Were Forced To Live In Shelter Of Love Commondo Ngo Owner Arrested :

जोड़ों की कहानी हैरान करने वाली

दिल्ली के पहाड़गंज शेल्टर होम से दिल्ली महिला आयोग द्वारा छुड़ाए गए चार जोड़ों ने ‘लव कमांडो’ की जो कहानी सुनाई वह हैरान करने वाली है। होम में दो छोटे कमरे थे, जिनमें सभी लोग रहते थे और लड़कियों का कमरा एनजीओ के मालिक के कमरे से जुड़ा हुआ था। आयोग का कहना है कि लड़कियों ने बताया कि उनको बाथरूम और किचन में जाने के लिए एनजीओ मालिक के कमरे में से होकर जाना पड़ता था। जोड़ों ने बताया कि वहां रहनेवालों को शेल्टर होम के सारे काम करने पड़ते थे। जैसे साफ-सफाई, खाना बनाना। स्टाफ के पैर तक दबाने पड़ते थे।

छोड़ देता था पालतू कुत्ते

पीड़ितों ने बताया कि शेल्टर होम का चेयरमैन संजय बंधक बनाए गए युगलों से शराब पीने को कहता था। यदि कोई शेल्टर होम से जाने की इच्छा जताता तो उस पर वह पालतू कुत्ते छोड़ देता था। वहीं बाहर उनके परिजनों द्वारा झूठी शान की खातिर उनकी हत्या या जेल भिजवाने की धमकी दी जाती थी।

नई दिल्ली। आमिर खान द्वारा प्रस्तुत चर्चित कार्यक्रम 'सत्यमेव जयते' जैसे कार्यक्रम से सुर्खियां बटोरने वाले 'लव कमांडो' एनजीओ के चेयरमैन संजय सचदेव को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसने कई जोड़ों को शेल्टर होम में बंधक बना रखा था. जिन्हें पुलिस और दिल्ली महिला आयोग की टीम ने वहां छापा मारकर छुड़ाया.लव-जिहाद जैसे मामलों में सुरक्षा देने का दावा करने वाले संजय सचदेव पर प्रेमी युगलों को बंधक बनाकर उगाही करने और महिलाओं को शराब पिलाकर छेड़छाड़ करने जैसे गंभीर आरोप लगे हैं। जोड़ों की कहानी हैरान करने वाली दिल्ली के पहाड़गंज शेल्टर होम से दिल्ली महिला आयोग द्वारा छुड़ाए गए चार जोड़ों ने 'लव कमांडो' की जो कहानी सुनाई वह हैरान करने वाली है। होम में दो छोटे कमरे थे, जिनमें सभी लोग रहते थे और लड़कियों का कमरा एनजीओ के मालिक के कमरे से जुड़ा हुआ था। आयोग का कहना है कि लड़कियों ने बताया कि उनको बाथरूम और किचन में जाने के लिए एनजीओ मालिक के कमरे में से होकर जाना पड़ता था। जोड़ों ने बताया कि वहां रहनेवालों को शेल्टर होम के सारे काम करने पड़ते थे। जैसे साफ-सफाई, खाना बनाना। स्टाफ के पैर तक दबाने पड़ते थे। छोड़ देता था पालतू कुत्ते पीड़ितों ने बताया कि शेल्टर होम का चेयरमैन संजय बंधक बनाए गए युगलों से शराब पीने को कहता था। यदि कोई शेल्टर होम से जाने की इच्छा जताता तो उस पर वह पालतू कुत्ते छोड़ देता था। वहीं बाहर उनके परिजनों द्वारा झूठी शान की खातिर उनकी हत्या या जेल भिजवाने की धमकी दी जाती थी।