1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. ‘कोवाक्सीन’ की कीमत घटी, अब राज्यों को 600 की जगह चुकाने होंगे 400 रुपये

‘कोवाक्सीन’ की कीमत घटी, अब राज्यों को 600 की जगह चुकाने होंगे 400 रुपये

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने कोहराम मचा रखा है। इसी बीच भारत बायोटेक ने राज्यों के लिए कोरोना वैक्सीन 'कोवाक्सीन' की कीमत घटाकर राज्य सरकारों को बड़ी राहत दी है। अब यह वैक्सीन राज्यों को 600 रुपये की जगह 400 रुपये में मिलेगी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Covaxin To Be Available To State Governments At A Price Of Rs 400 Per Dose

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने कोहराम मचा रखा है। इसी बीच भारत बायोटेक ने राज्यों के लिए कोरोना वैक्सीन ‘कोवाक्सीन’ की कीमत घटाकर राज्य सरकारों को बड़ी राहत दी है। अब यह वैक्सीन राज्यों को 600 रुपये की जगह 400 रुपये में मिलेगी। बता दें कि इससे पहले सीरम इंस्टीट्यूट ने भी राज्यों के लिए इसकी कीमत 400 रुपये से घटाकर 300 रुपये कर दिया था।

पढ़ें :- कोरोना वायरस के 'डेल्टा वेरिएंट' ने दुनिया में बढ़ाई दहशत, कई देशों में लौटी पाबंदी और लॉकडाउन

कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मौजूदा समय में कोरोना से जंग के लिए पब्लिक हेल्थ सिस्टम को मजबूती देने के लिए यह फैसला लिया गया है। कंपनी ने बताया कि हम भारत में इनोवेशन को बढ़ावा देना चाहते हैं और हमारा लक्ष्य देश में पब्लिक हेल्थ केयर को मजबूत करना है। इससे पहले कोविशील्ड ने भी अपनी वैक्सीन की कीमत राज्य सरकारों के लिए 100 रुपये प्रति डोज घटाई थी।

इससे पहले राज्य सरकारों को 400 रुपये प्रति डोज देने का फैसला हुआ था, लेकिन बाद में उसे कंपनी की ओर से 300 रुपये प्रति डोज ही तय कर दिया गया। इससे पहले केंद्र सरकार की ओर से दोनों ही कंपनियों से वैक्सीन के रेट्स में कटौती की अपील की थी। इसके अलावा कई राज्य सरकारों की ओर से केंद्र और राज्य एवं अस्पतालों के लिए वैक्सीन का एक ही रेट तय किए जाने की मांग की गई थी।

कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारत बायोटेक देश में कोरोना महामारी की मौजूदा स्थिति से चिंतित है। पब्लिक हेल्थ केयर सिस्टम के सामने बड़ी चुनौती को देखते हुए हम राज्य सरकारों को इसे 400 रुपए प्रति डोज के हिसाब से उपलब्ध कराएंगे।

पढ़ें :- G-7 से बढ़ाया प्रेशर तो डब्ल्यूएचओ चीफ ने मारा यू-टर्न, बोले-कोरोना जांच में नहीं सहयोग कर रहा है चीन

बता दें कि केंद्र सरकार ने 1 मई से वैक्सीन कंपनियों को राज्य सरकारों और निजी अस्पतालों को भी टीके की बिक्री की अनुमति दे दी है। देश में टीके का उत्पादन कर रहीं कंपनियां 50 फीसदी टीका केंद्र सरकार को देंगी तो 50 फीसदी टीका राज्य सरकारों और निजी अस्पतालों को बेच सकती हैं। राज्य सरकारों के लिए टीकों की कीमतों में गिरावट से सरकारी खजाने पर बोझ कम होगा तो राज्य सरकारें अधिक टीका खरीद कर सकेंगी।

देश में कई दिनों से प्रतिदिन साढ़े तीन लाख से अधिक कोरोना केस मिल रहे हैं। लगातार कोरोना मरीजों और कोविड से होने वाली मौतों में बढ़ोत्तरी ने दहशत पैदा कर दी है। महमारी के कहर से स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह लड़खड़ा गई है। अस्पताल ऑक्सीजन, दवाओं और चिकित्सा उपकरणों की कमी का सामना कर रहे हैं। संकट के समय में करीब 20 देश भारत की मदद को आगे आए हैं। देश में पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 3.80 लाख के करीब नए कोरोना मरीज मिले हैं और 3,645 से ज्यादा लोगों की संक्रमण से जान चली गई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X