1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. Covid-19: ICMR ने जारी सीरो सर्वे के नतीजे, मई माह में ही 64 लाख लोग हो गए थे कोरोना संकमित

Covid-19: ICMR ने जारी सीरो सर्वे के नतीजे, मई माह में ही 64 लाख लोग हो गए थे कोरोना संकमित

By सोने लाल 
Updated Date

नई दिल्ली। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने देशभर के पहले दौर के सीरो सर्वे (Sero Survey ) के नतीजों का ऐलान कर दिया है। ये नतीजे हैरान करने वाले हैं। सर्वे के अनुसार, मई माह तक देश में करीब 64 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हो गए।

पहली बाद राष्ट्रीय स्तर पर ये सर्वे कराया गया। मई तक 0.73% वयस्क यानी 64 लाख (64,68,388) लोगों के कोरोना वायरस के संपर्क में आने के अनुमान लगाए गए हैं। सर्वे से ये अनुमान लगाया गया कि आरटी-पीसीआर टेस्ट से कोरोना के हर एक मामले की पुष्टि के लिए भारत में 82-130 संक्रमण थे। सीरो सर्वे से ये भी पता चला है कि गांव के करीब 44 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इस सर्वे में 21 राज्यों के करीब 28 हजार लोग शामिल थे।

64,68,388 लोग संक्रमित

इस सर्वे से यह सामने आया कि मई माह के अंत तक ही देश में 64,68,388 लोग संक्रमित हो चुके थे। सर्वे में देखा गया कि सबसे ज्यादा 18 साल से 45 साल के 43.3 फीसदी लोगों में वायरस का संक्रमण देखा गया। इसके बाद 46 साल से 60 साल के 39.5 फीसदी लोग थे।

वहीं, 60 साल के बाद के 17.2 फीसदी लोग शामिल थे। सर्वे से ये अनुमान लगाया गया कि आरटी-पीसीआर टेस्ट से कोरोना के हर एक मामले की पुष्टि के लिए भारत में 82-130 संक्रमण थे। सीरो सर्वे से ये भी पता चला है कि गांव के करीब 44 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं।

ग्रामीण इलाकों में बढ़ रहे हैं मामले

सर्वे के नतीजों के मुताबिक इलाकों के हिसाब से सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी 69.4 फीसदी ग्रामीण इलाकों में रही। शहरी स्लम में पॉजिटिविटी 15.9 फीसदी, शहरी नॉन-स्लम इलाकों में 14.6 फीसदी रही। ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण फैलने को लेकर भी चिंता भी बढ़ गई है, क्योंकि वहां चिकित्सा सुविधाओं का अभाव है। भारत की 1.3 अरब आबादी का 65 फीसदी हिस्सा गांवों में है।

क्या है SERO सर्वे?

इस सर्वे के तहत आमतौर पर इस बात का पता लगाया जाता है कि आखिर किसी जिले या शहर में कितने लोग कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो गए हैं। शरीर में मौजूद एंटीबॉडी से इसका पता लगाया जाता है। इसके अलावा इससे ये भी पता चलता है कि क्या कहीं कोरोना कम्युनिटी ट्रांसमिशन के कगार पर तो नहीं पहुंच गया है। सीरो सर्वे का पहला दौर इस साल अलग-अलग शहरों और राज्यों में लॉकडाउन के दौरान मई में किया गया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...