1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Covid New Variant BF.7 : कोविड का BF.7 वेरिएंट कितना है खतरनाक, जानें इसके लक्षण और बचाव

Covid New Variant BF.7 : कोविड का BF.7 वेरिएंट कितना है खतरनाक, जानें इसके लक्षण और बचाव

Covid New Variant BF.7 : कोरोना के बढ़ते आंकड़े दुनिया को एक बार फिर से डराने लगे हैं। चीन में फैला कोविड का नया वेरिएंट BF.7 (Covid New Variant BF.7 ) ने तबाही मचानी शुरू कर दी है। चीन (China) का हालात देखकर सभी देशों ने एक बार फिर से कोरोना को लेकर कई गाइडलाइंस जारी कर दी है, जिसमें भारत भी शामिल है। चीन (China)  के अलावा भारत(India) में भी इस नए वेरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Covid New Variant BF.7 : कोरोना के बढ़ते आंकड़े दुनिया को एक बार फिर से डराने लगे हैं। चीन में फैला कोविड का नया वेरिएंट BF.7 (Covid New Variant BF.7 ) ने तबाही मचानी शुरू कर दी है। चीन (China) का हालात देखकर सभी देशों ने एक बार फिर से कोरोना को लेकर कई गाइडलाइंस जारी कर दी है, जिसमें भारत भी शामिल है। चीन (China)  के अलावा भारत(India) में भी इस नए वेरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं।

पढ़ें :- India and New Zealand T20 Series: भारत ने न्यूजीलैंड को 168 रनों से हराया, सीरीज पर भी किया कब्जा

आइए बताते हैं इसके बारे में विस्तार से

बीएफ.7 ओमिक्रोन के वेरिएंट बीए.5 का ही सब वेरिएंट है

बीएफ.7 ओमिक्रोन के वेरिएंट बीए.5 का ही सब वेरिएंट है। बता दें कि इसमें संक्रमण की व्यापक क्षमता होती है और इसकी इनक्यूबेशन अवधि कम होती है। इस BF.7 वेरिएंट की सबसे खतरनाक बात यह है कि ये उन लोगों को भी संक्रमित कर रहा है जो लोग कोरोना की वैक्सीन लगवा चुके हैं।

एक रिसर्च के अनुसार BF.7 सब-वेरिएंट में ओरिजिनल D614G वेरिएंट की तुलना में 4.4 गुना ज्यादा न्यूट्रलाइजेशन रेजिस्टेंस (Neutralization Resistance) है। इसका मतलब यह हुआ कि वैक्सीनेटेड लोगों के शरीर में मौजूद एंटीबॉडी 2020 में दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस की तुलना में BF.7 को नष्ट करने में बहुत कम सक्षम है।

पढ़ें :- India and New Zealand T20 Series: शुभमन गिल के तूफानी शतक के साथ टीम इंडिया ने दिया न्यूजीलैंड को 235 रनों का लक्ष्य

चीन के बाद यह वेरिएंट यूके में भी फैल रहा है BF.7 वेरिएंट

बता दें कि यह वेरिएंट चीन से एक बार फिर दूसरे देशों में भी फेल रहा है। चीन में एक बार फिर कोरोना के बिगड़ते हालात के लिए ओमिक्रॉन का सबवेरिएंट BF.7 (Subvariant of Omicron BF.7) को जिम्मेदार बताया जा रहा है। चीन के बाद यह वेरिएंट यूके में भी फैल रहा है।

कोरोना के नए वेरिएंट BF.7 के मामले ने दुनिया की चिंता बढ़ाई

चीन में कोरोना के नए वेरिएंट BF.7 (Covid New Variant BF.7 )  के मामले ने दुनियाभर के देशों की चिंता बढ़ा रखी है। बता दें बीजिंग में लगभग 70 फीसदी लोग इस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इस सब वैरिएंट के मामले चीन के अलावा अमेरिका, ब्रिटेन और बेल्जियम, जर्मनी, फ्रांस और डेनमार्क जैसे यूरोपीय देशों सहित कई अन्य देशों में पहले ही पाया जा चुका है। लेकिन अब भारत में भी इसकी एंट्री हो गई है।

देश में Covid New Variant BF.7 के मामले

पढ़ें :- India and New Zealand T20 Series: शुभमन गिल का तूफानी पानी, 54 गेंदों में जड़ा शतक

बता दें भारत में भी Covid New Variant BF.7 के मामले सामने आ चुके हैं। बता दें अब तक गुजरात में तीन और ओडिशा से एक मामला सामने आया है। दरअसल अमेरिका की यात्रा करने वाली एक महिला को वडोदरा में 18 नवंबर को BF.7 वैरिएंट पॉजिटिव पाया गया था। हालांकि होम आइसोलेशन के बाद वह ठीक हो गई और अब उनकी स्थिति सामान्य है। वहीं अगर सूत्रों की मानें तो जुलाई, सितंबर और नवंबर में भारत में ओमिक्रॉन सब-वैरिएंट BF.7 (Omicron sub-variant BF.7 in India) के मामले सामने आए थे।

Covid Variant BF.7 के लक्षण

Covid Variant BF.7 के लक्षण में कई लक्षण सामान्य हैं। इसमें भी संक्रमित व्यक्ति में बुखार, खांसी, गले में खराश, नाक बहना, थकान, उल्टी और दस्त के लक्षण दिख सकते हैं। दरअसल यह सब-वेरिएंट कमजोर इम्यून सिस्टम (Weak immune system) वाले लोगों के लिए गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है। ऐसा माना जा रहा है कि यह वेरिएंट काफी तेजी से फैल रहा है और उन लोगों को भी संक्रमित कर सकता है, जिन्होंने वक्सीन ली हुई है।

कोविड का प्रिकॉशन डोज लगाएं

कोविड के नए वेरिएंट BF.7 से बचने के लिए जरूरी है प्रिकॉशन डोज (Precautionary Dose) लगवाएं। सरकार ने भी सबसे कोविड का प्रिकॉशन डोज (Precautionary Dose of Covid) लगाने को कहा है। खासकर बुजुर्ग लोग और जो कई बीमारियों से घिरे लोग हैं , we कोविड का प्रिकॉशन डोज जरूर लगवाएं। भीड़ भरी जगहों पर जाने से जरूर बचें क्योंकि इससे कोविड फैलने के चांसेज रहते हैं। सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल जरूर रखें खासकर भीड़ भाड़ वाले जगहों पर क्योंकि कोविड ह्यूमन टू ह्यूमन कॉन्टैक्ट (Covid Human to Human Contact) से फैलता है। इसलिए कोविड से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल जरूर रखना चहिए हो सके तो घर पर ही मनाएं त्योहार मनाएं। इसलिए अगले हफ्ते क्रिसमस और नये साल के उत्सव को घर पर ही परिवार के लोगों के साथ मनाएं।

पढ़ें :- अखिलेश यादव ने इटावा लायन सफ़ारी का वीडियो ट्वीट कर बीजेपी सरकार पर बोला करारा हमला
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...