इस जानवर की ममता देख लोग दबा रहे दांतों तले उंगली, देखें वीडियो

बेंगलुरु| मां की ममता के आगे पूरी दुनिया का प्यार फीका है, भले ही दुखों का पहाड़ टूट पड़ा हो पर मां के आंचल में सर रखते ही सारे दुःख पल भर में गायब हो जाते है। ‘मां’ एक बच्चे का संसार से प्रथम परिचय है। ऐसा कहा जाता है कि भगवान संसार में स्वयं नहीं आ सकते थे इसलिये उन्होंने मां को भेजा। सही ही कहा है मां और बच्चे के रिश्ते से खूबसूरत इस दुनिया में कोई रिश्ता नहीं होता। इंसान हो या जानवर हर जगह मां की ममता देखने को मिल ही जाती है। इंसानी रूप में मां का प्रेम तो आप ने बहुत देखा होगा पर आज बात एक जानवर रुपी बेबस मां की है, जिसका दुःख देख आप भी भावुक हो जायेंगे, आप को भी एक मां का अपने बच्चे से बिछड़ने के बाद होने वाले दुःख का एहसास हो जाएगा।





कर्नाटक की सड़कों पर एक माँ चार साल पहले मर चुके अपने बच्चे की तलाश में कैसे बेसुध होकर भाग रही है यह नज़ारा देख आपका भी सिर चकरा जाएगा। यहां के सिरसी नामक जगह पर एक रोडवेज की बस की टक्कर एक गाय के सामने उसका बछड़ा मर गया था। चार साल बीत जाने के बाद भी गाय उस घटना को भूल नहीं पाई है, बछड़े के मरने के बाद बहुत समय तक वह गाय वहीं खड़ी होकर अपने बच्चे के दोबारा जिंदा हो जाने की उम्मीद करती रही। बहुत समय तक खड़े रहने के बाद जब बच्चा नहीं उठा तो गया मायूस होकर चली गई लेकिन इस घटना को चार साल बीत जाने के बाद भी वह उस मंजर को भूल नहीं पाई है और ना ही उस बस को। वह आज भी वहां जाकर उस बस का इंतज़ार करती है और जब बस आते देखती है तो उसे रोकने का प्रयास करती है जिससे उसके बच्चे की मौत हुई थी। लोगों के मारने पर भी वो उस बस का पीछा नहीं छोडती है। इस जानवर की ममता को देख लोग दांतों तले उंगली दबाने को मजबूर है।

रिपोर्ट: अनुराग सिंह