मौलाना साद पर क्राइम ब्रांच का शिकंजा, बेटे से 2 घंटे तक की पूछताछ

Tabligi Jamaat Maulana Saad's
तबलीगी जमात मामला: दिल्ली पुलिस ने हाईकोर्ट में दायर की ​स्टेटस रिपोर्ट, बढ़ सकती हैं मौलाना साद की मुश्किलें

नई दिल्ली: दिल्ली स्थित तबलीगी जमात के मरकज के संचालक मौलाना साद की गिरफ्तारी अभी तक नहीं हो पायी है। इस बीच मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के बेटे से पूछताछ की है। मौलाना साद के बेटे से पूछताछ में उन लोगों की जानकारी मांगी गई है जो मरकज का कामकाज देखते हैं। मार्च महीने में कोरोना वायरस के खतरे के बीच मरकज में नियमों का उल्लंघन करते हुये बड़ी संख्या में जमाती जमा हुये थे।

Crime Branch Screws On Maulana Saad Son Questioned For 2 Hours :

इनमें से बड़ी संख्या में जमाती कोरोना संक्रमित निकले थे, जिसके बाद मरकज के संचालक मौलाना साद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। क्राइम ब्रांच कई नोटिस मौलाना साद को भेज चुकी है, लेकिन संतोषजनक जवाब नहीं मिले हैं। अब क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के परिवार से सच उगलवाने का कदम उठाया है। क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के एक बेटे से पूछताछ की है। मौलाना साद के बेटे सईद से मंगलवार को करीब 2 घंटे तक पूछताछ की गई। इस दौरान क्राइम ब्रांच की टीम ने सईद से ऐसे करीब 20 लोगों की डिटेल्स मांगी है जो मरकज में आने-जाने वाले लोगों और वहां की पूरी व्यवस्था का जिम्मा संभालते हैं।

बता दें कि मौलाना साद के 3 बेटे हैं और सईद मरकज से जुड़े कामों में सबसे ज्यादा सक्रिय बताया जाता है। यही वजह है कि क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद पर शिकंजा कसने के लिये उनके बेटे से पूछताछ की है। पूछताछ के साथ सईद से कहा गया है कि वो अपने पिता से सरकारी अस्पताल में कोरोना संक्रमण का टेस्ट कराने के लिये कहें।गौरतलब है कि मरकज में पहुंचे जमाती बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। मौलाना साद ने दावा किया है कि उन्होंने कोरोना की जांच करा ली है और रिपोर्ट नेगेटिव आई है। वहीं, दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक, 13 से 24 मार्च के बीच मरकज में कम से कम 16,500 लोग पहुंचे थे।

नई दिल्ली: दिल्ली स्थित तबलीगी जमात के मरकज के संचालक मौलाना साद की गिरफ्तारी अभी तक नहीं हो पायी है। इस बीच मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के बेटे से पूछताछ की है। मौलाना साद के बेटे से पूछताछ में उन लोगों की जानकारी मांगी गई है जो मरकज का कामकाज देखते हैं। मार्च महीने में कोरोना वायरस के खतरे के बीच मरकज में नियमों का उल्लंघन करते हुये बड़ी संख्या में जमाती जमा हुये थे। इनमें से बड़ी संख्या में जमाती कोरोना संक्रमित निकले थे, जिसके बाद मरकज के संचालक मौलाना साद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। क्राइम ब्रांच कई नोटिस मौलाना साद को भेज चुकी है, लेकिन संतोषजनक जवाब नहीं मिले हैं। अब क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के परिवार से सच उगलवाने का कदम उठाया है। क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के एक बेटे से पूछताछ की है। मौलाना साद के बेटे सईद से मंगलवार को करीब 2 घंटे तक पूछताछ की गई। इस दौरान क्राइम ब्रांच की टीम ने सईद से ऐसे करीब 20 लोगों की डिटेल्स मांगी है जो मरकज में आने-जाने वाले लोगों और वहां की पूरी व्यवस्था का जिम्मा संभालते हैं। बता दें कि मौलाना साद के 3 बेटे हैं और सईद मरकज से जुड़े कामों में सबसे ज्यादा सक्रिय बताया जाता है। यही वजह है कि क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद पर शिकंजा कसने के लिये उनके बेटे से पूछताछ की है। पूछताछ के साथ सईद से कहा गया है कि वो अपने पिता से सरकारी अस्पताल में कोरोना संक्रमण का टेस्ट कराने के लिये कहें।गौरतलब है कि मरकज में पहुंचे जमाती बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। मौलाना साद ने दावा किया है कि उन्होंने कोरोना की जांच करा ली है और रिपोर्ट नेगेटिव आई है। वहीं, दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक, 13 से 24 मार्च के बीच मरकज में कम से कम 16,500 लोग पहुंचे थे।