बेटा ही निकला पिता का हत्यारा, सात साल बाद हुआ हत्या के मामले का खुलासा

भिवानी। हरियाणा के भिवानी विद्यानगर निवासी राधेश्याम कबाड़ी (55) ब्लाइंड र्मडर की गुत्थी सुलझ गई है। हैरान कर देने वाली बात यह है कि हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसी के फौजी बेटे सुरेंद्र ने की थी। अपने पिता की हत्या कर सुरेंद्र फिलहाल बेखौफ फौज की नौकरी कर रहा था। लेकिन कानून के लंबे हाथों ने आखिरकार उसे गिरफ्तार कर ही लिया।




बताया जाता है कि राधेश्याम मूल रूप से यूपी का रहने वाला था जो करीब 20 साल पहले भिवानी आया था। यहां आकर वह कबाड़ी का काम करने लगा। बेटा फौज में नौकरी कर देश सेवा कर रहा था। इसी दौरान घर में राधेश्याम द्वारा शराब पीने से झगड़े रहने लगे। झगड़े से तंग आकर उसके बेटे संजय ने उसकी 10 जून 2011 को चाकू से गोद कर हत्या कर दी। राधेश्याम सुबह घर के सामने घायल अवस्था में पड़ा था। पड़ोसियों को जब पता चला तो वो उसे रोहतक पीजीआई लेकर गए। दो दिन बाद राधेश्याम ने पीजीआई में ईलाज के दौरान दमतोड़ दिया।

सिविल थाना प्रभारी एसएचओ संजय बिश्नोई ने बताया कि मामले में कोई गवाह न होने तथा मृतक के बेटे संजय अपनी पत्नी व मां को साथ लेकर फौज में जाने के बाद मामला ठंडे बस्ते में पहुंच गया। लेकिन एसपी अशोक कुमार ने आते ही पुराने हत्या के मामले खुलवाए।