1. हिन्दी समाचार
  2. लखनऊ: प्रेम प्रसंग के चलते शख्स की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या

लखनऊ: प्रेम प्रसंग के चलते शख्स की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या

Crime News In Lucknow

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के माल क्षेत्र में प्रेम प्रसंग के चलते एक शख्स की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी गई। बीती रात घर से युवक लापता था। शव गांव में आम के बाग में पड़ा मिला। परिवार का आरोप है कि गांव के कुछ लोगों ने पुरानी रंजिश में वारदात अंजाम दी है। फिलहाल, पुलिस केस दर्ज कर जांच में जुटी है। बताया जा रहा है कि दोनों के बीच पिछले डेढ़ साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था लेकिन दोनों की जाति अलग-अलग होने की वजह से परिवार वाले शादी के लिए राजी नहीं थे।

पढ़ें :- महिला खिलाड़ी ने तोड़ा महेंद्र सिंह धोनी का रिकॉर्ड, जानिए पूरा मामला

जिले के माल थाना के सैमसी गांव निवासी वीरेंद्र यादव ने बताया कि उनके बड़े भाई के बेटा सुरेन्द्र यादव शुक्रवार कि रात करीब आठ बजे गांव के ही नारायणी मंदिर पर बैठा था। रात करीब 10 बजे तक गांववालों ने सुरेन्द्र को वहीं पर बैठे देखा लेकिन उसके बाद वह घर नहीं लौटा। ग्रामीणों ने बताया कि सुरेन्द्र का शव गांव के ही भगवानदीन के आम की बाग में पड़ा है। परिजन मौके पर पहुंचे तो देखा कि सुरेन्द्र की किसी धारदार हथियार से काटकर हत्या की गई थी। सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पुलिस का कहना है कि हत्या कि वजह पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही साफ होगी। फिलहाल मामले कि जांच की जा रही है।

घर वालों ने बताया कि, डेढ़ साल गांव की महिला से प्रेम प्रसंग चल रहा था। गैर जातीय होने की वजह से दोनों परिवार के लोगों में विवाद था। सुरेंद्र छह महीने पहले लड़की के साथ भाग गए थे, जिसके बाद लड़की के घर वालों ने सुरेंद्र पर बांके से हमला किया था। उस समय पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। इसके बाद से दोनों परिवारों में और तनाव हो गया था।

पीड़ित परिवार का कहना है कि गांव के ही कल्लू पासी, सुकरु पासी, संदीप पासी और कल्लू की पत्नी कलावती ने कुछ माह पहले बांके से हमला किया था। जिससे सुरेन्द्र को गंभीर चोट आई थी। पीड़ित परिवार ने उक्त लोगों के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है। आरोप है कि उक्त लोगों ने पुरानी रंजिश में ही सुरेन्द्र की हत्या कि है। पीड़ित परिवार का आरोप है कि जानलेवा हमले के मामले में आरोपियों ने फर्जी एससीएसटी एक्ट के तहत फंसाने कि धमकी दी थी। जिससे बाद पुलिस ने सुलह करा दी थी।

पढ़ें :- संसद के बाद कृषि विधेयकों को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, विपक्ष कर रहा था इसका विरोध

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...