क्राइम पेट्रोल’ की एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने की खुदकुशी, लॉकडाउन को ठहराया जिम्मेदार

Preksha mehta
क्राइम पेट्रोल’ की एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने की खुदकुशी, लॉकडाउन को ठहराया जिम्मेदार

नई दिल्ली। टीवी एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने इंदौर के घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। मंगलवार को उनका शव पंखे से लटकता मिला। परिजन उन्हें अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। इसके साथ ही उन्होंने सोशल मीडिया पर आखिरी पोस्ट शेयर कर लिखा था कि सबसे बुरा होता है सपनों का मर जाना।

Crime Patrol Actress Preksha Mehta Commits Suicide Responsible For Lockdown :

पुलिस ने प्रेक्षा के कमरे से एक पेज का सुसाइड नोट बरामद किया है। हीरा नगर पुलिस स्टेशन के ऑफिसर इनचार्ज राजीव भदोरिया का कहना है कि प्रेक्षा के कमरे से एक सुसाइड नोट मिला है। इसमें उन्होंने लिखा है कि मैंने बहुत कोशिश की इस समय पॉजिटिव रहने की, लेकिन नहीं कर पाई। पीटीआई से बातचीत में राजीव ने कहा कि केस की जांच में पता चला था कि प्रेक्षा डिप्रेशन से जूझ रही थीं। हम आगे छानबीन कर रहे हैं।

सुसाइड नोट में लिखा है कि मेरे टूटे हुए सपनों ने मेरे कॉन्फिडेंस का दम तोड़ दिया है, मैं मरे हुए सपनों के साथ नहीं जी सकती। इस नेगेटिविटी के साथ रहना मुश्किल है। पिछले एक साल से मैंने बहुत कोशिश की, अब मैं थक गई हूं। प्रेक्षी की कजिन के मुताबिक प्रेक्षा ने काफी मेहनत की। वह अपने सपनों के साथ जीना चाहती थी। लेकिन उसकी उम्मीदें काफी थीं। बचपन से ही वह हंसने-बोलने वालों में से थी, लेकिन अब कुछ समय से वह काफी चुप हो गई थी।

सोमवार को वह सीढ़ियों पर अकेले बैठी हुई थी और परिवार के साथ कार्ड्स खेलने नहीं आई थी। उसकी मम्मी ने पूछा भी कि तुम ठीक हो तो प्रेक्षा ने उन्हें तसल्ली देते हुए कहा कि वह ठीक है। आत्महत्या के कुछ घंटे पहले प्रेक्षा ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि सबसे बुरा होता है सपनों का मर जाना।

नई दिल्ली। टीवी एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने इंदौर के घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। मंगलवार को उनका शव पंखे से लटकता मिला। परिजन उन्हें अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। इसके साथ ही उन्होंने सोशल मीडिया पर आखिरी पोस्ट शेयर कर लिखा था कि सबसे बुरा होता है सपनों का मर जाना। पुलिस ने प्रेक्षा के कमरे से एक पेज का सुसाइड नोट बरामद किया है। हीरा नगर पुलिस स्टेशन के ऑफिसर इनचार्ज राजीव भदोरिया का कहना है कि प्रेक्षा के कमरे से एक सुसाइड नोट मिला है। इसमें उन्होंने लिखा है कि मैंने बहुत कोशिश की इस समय पॉजिटिव रहने की, लेकिन नहीं कर पाई। पीटीआई से बातचीत में राजीव ने कहा कि केस की जांच में पता चला था कि प्रेक्षा डिप्रेशन से जूझ रही थीं। हम आगे छानबीन कर रहे हैं। सुसाइड नोट में लिखा है कि मेरे टूटे हुए सपनों ने मेरे कॉन्फिडेंस का दम तोड़ दिया है, मैं मरे हुए सपनों के साथ नहीं जी सकती। इस नेगेटिविटी के साथ रहना मुश्किल है। पिछले एक साल से मैंने बहुत कोशिश की, अब मैं थक गई हूं। प्रेक्षी की कजिन के मुताबिक प्रेक्षा ने काफी मेहनत की। वह अपने सपनों के साथ जीना चाहती थी। लेकिन उसकी उम्मीदें काफी थीं। बचपन से ही वह हंसने-बोलने वालों में से थी, लेकिन अब कुछ समय से वह काफी चुप हो गई थी। सोमवार को वह सीढ़ियों पर अकेले बैठी हुई थी और परिवार के साथ कार्ड्स खेलने नहीं आई थी। उसकी मम्मी ने पूछा भी कि तुम ठीक हो तो प्रेक्षा ने उन्हें तसल्ली देते हुए कहा कि वह ठीक है। आत्महत्या के कुछ घंटे पहले प्रेक्षा ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि सबसे बुरा होता है सपनों का मर जाना।