सनसनीखेज : उन्नाव जेल में असलहा लहराते हुए खुलेआम योगी सरकार को चुनौती दे रहे अपराधी, वीडियो वायरल

unnao jail
सनसनीखेज : उन्नाव जेल में असलहा लहराते हुए खुलेआम योगी सरकार को चुनौती दे रहे अपराधी, वीडियो वायरल

उन्नाव। उत्तर प्रदेश की जेल अपराधियों के लिए सजा नहीं मजे की जगह साबित हो रही है। ये मैं नहीं बल्कि आंकड़े बया कर रहे है। अभी नैनी, फिर रायबरेली जेल और सुलतानपुर जेल में हुए मामले शांत भी नहीं हुए थे कि अब उन्नाव जेल सुर्खियों में आ गई है। दरअसल यहां अपराधी होटल जैसा मजा ले रहे हैं, इन्हें देखकर यही लगता है कि अपराधी जेलों में सजा नहीं मौज काट रहे हैं।

Criminal Openly Challenging The Yogi Government In Unnao Jail The Video Viral :

उन्नाव जेल का जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें उन्नाव जिला जेल में बंद अपराधियों को हर तरह की सुविधा दी जा रही है। आलम ये है कि यहां बंद अपराधी जेल से ही अपना गैंग चला रहे हैं। वीडियो में दो शातिर अपराधी जेल में खुलेआम असलहा लहराते दिख रहे हैं। यहीं नहीं वो जेल परिसर में ही शराब भी पी रहे हैं। वीडियो वायरल होने के बाद जेल प्रशासन बैकफुट पर आ गया है। फिलहाल अब जेल अधीक्षक एके सिंह कह रहे हैं कि वीडियो की जांच कराई जा रही है। उन्होने कहा कि इस मामले में जो भी दोषी होंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है।

बता दें कि इस वीडियो में अपराधी सरकार को चुनौती देते हुए बोल रहे हैं कि मेरठ जेल हो या फिर उन्नाव। वो प्रदेश की किसी भी जेल को कार्यालय बना सकते हैं। वो इस वीडियो में तमंचे व मोबाइल फोन दिखा रहे हैं। वीडियो में कुख्यात बदमाश अंकुर के पास असलहा है और वह वीडियो में धमकी देता नजर आ रहा है कि वह कहीं भी किसी को मार सकता है। दूसरे वीडियो में मेरठ के बदमाश अमरीश के पास भी असलहा दिख रहा है। वह कह रहा है कि योगी सरकार ने उसे मेरठ से उन्नाव भेजा है। मेरठ हो या उन्नाव वह किसी भी जेल को कार्यालय बना सकता है।

फिलहाल अब जेल अधिकारियों का कहना है वीडियो की जांच के बाद सामने आया है कि अंकुर के हाथ में जो तमंचा दिख रहा है वह मिट्टी का है। खाने में भी कोई ऐसी चीज नहीं है जो आपत्तिजनक हो। जांच के बाद सामने आया है कि जेल कर्मियों की मिलीभगत से ऐसा किया गया है। इस कार्य में हेड जेल वार्डर माता प्रसाद, हेमराज और जेल वार्डर अवधेश साहू, सलीम खां की संलिप्तता पाई गई है।

उन्नाव। उत्तर प्रदेश की जेल अपराधियों के लिए सजा नहीं मजे की जगह साबित हो रही है। ये मैं नहीं बल्कि आंकड़े बया कर रहे है। अभी नैनी, फिर रायबरेली जेल और सुलतानपुर जेल में हुए मामले शांत भी नहीं हुए थे कि अब उन्नाव जेल सुर्खियों में आ गई है। दरअसल यहां अपराधी होटल जैसा मजा ले रहे हैं, इन्हें देखकर यही लगता है कि अपराधी जेलों में सजा नहीं मौज काट रहे हैं। उन्नाव जेल का जो वीडियो वायरल हुआ है उसमें उन्नाव जिला जेल में बंद अपराधियों को हर तरह की सुविधा दी जा रही है। आलम ये है कि यहां बंद अपराधी जेल से ही अपना गैंग चला रहे हैं। वीडियो में दो शातिर अपराधी जेल में खुलेआम असलहा लहराते दिख रहे हैं। यहीं नहीं वो जेल परिसर में ही शराब भी पी रहे हैं। वीडियो वायरल होने के बाद जेल प्रशासन बैकफुट पर आ गया है। फिलहाल अब जेल अधीक्षक एके सिंह कह रहे हैं कि वीडियो की जांच कराई जा रही है। उन्होने कहा कि इस मामले में जो भी दोषी होंगे, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। बता दें कि इस वीडियो में अपराधी सरकार को चुनौती देते हुए बोल रहे हैं कि मेरठ जेल हो या फिर उन्नाव। वो प्रदेश की किसी भी जेल को कार्यालय बना सकते हैं। वो इस वीडियो में तमंचे व मोबाइल फोन दिखा रहे हैं। वीडियो में कुख्यात बदमाश अंकुर के पास असलहा है और वह वीडियो में धमकी देता नजर आ रहा है कि वह कहीं भी किसी को मार सकता है। दूसरे वीडियो में मेरठ के बदमाश अमरीश के पास भी असलहा दिख रहा है। वह कह रहा है कि योगी सरकार ने उसे मेरठ से उन्नाव भेजा है। मेरठ हो या उन्नाव वह किसी भी जेल को कार्यालय बना सकता है। फिलहाल अब जेल अधिकारियों का कहना है वीडियो की जांच के बाद सामने आया है कि अंकुर के हाथ में जो तमंचा दिख रहा है वह मिट्टी का है। खाने में भी कोई ऐसी चीज नहीं है जो आपत्तिजनक हो। जांच के बाद सामने आया है कि जेल कर्मियों की मिलीभगत से ऐसा किया गया है। इस कार्य में हेड जेल वार्डर माता प्रसाद, हेमराज और जेल वार्डर अवधेश साहू, सलीम खां की संलिप्तता पाई गई है।