1. हिन्दी समाचार
  2. कुमारस्वामी बोले-भगवान का उपहार है कि मैं मुख्यमंत्री हूं, जब चाहेंगे इसे वापस ले लेंगे

कुमारस्वामी बोले-भगवान का उपहार है कि मैं मुख्यमंत्री हूं, जब चाहेंगे इसे वापस ले लेंगे

Crisis On The Karnataka Government 2

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। कर्नाटक में चल रही सियासी उठापटक खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। वहां हर दिन नये राजनीतिक समीकरण बन और बिगड़ रहे हैं। शुक्रवार दोपहर विश्वासमत के लिए वोटिंग होनी थी लेकिन देर शाम तक वोटिंग नहीं हुई। अब बताया जा रहा है कि वहां पर सोमवार को विश्वासमत के लिए वोटिंग हो सकती है। वहीं, कुमारस्वामी लगातार बीजेपी पर विधायकों को खरीदने का आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा था कि बीजेपी विधायकों को 40 से 50 करोड़ रुपये का आफर दे रहे हैं।

पढ़ें :- 'लक्ष्मी बॉम्ब' को ले कर अक्षय कुमार को मिली धमकी, लगा लव जिहाद को प्रमोट करने का आरोप

कुमारस्वामी ने कहा कि, ‘मैंने बिना किसी शर्त के कहा है कि मैं परिस्थितियों के कारण मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठा हूं। यह भगवान का उपहार है कि मैं मुख्यमंत्री हूं और भगवान जब चाहेंगे इसे वापस ले लेंगे। मैं भाग्य के खेल में सिर्फ एक मोहरा हूं।’ वहीं, शुक्रवार एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार राज्यपाल विधायिका के लोकपाल के रूप में कार्य नहीं कर सकते।

उन्होंने भाजपा नेताओं से कहा कि जब तक चर्चा पूरी नहीं हो जाती है तब तक वोटिंग के लिए दवाब न बनाया जाए क्योंकि सच जनता के सामने आना चाहिए। कुमारस्वामी ने राज्यपाल के एक पत्र का जिक्र करते हुए कहा, ‘राज्यपाल ने मुझे दूसरा प्रेम पत्र लिखा है। उनका कहना है कि उन्हें खरीद-फरोख्त को लेकर कई रिपोर्ट्स मिल रही हैं। वह अब खरीद-फरोख्त की बात कर रहे हैं। वह पिछले 10 दिनों से क्या कर रहे थे? उन्होंने तब यह पत्र क्यों नहीं लिखा जब 10 विधायकों ने इस्तीफा दिया था?’

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...