सीआरपीएफ में छुट्टी गए जवान 15 अप्रैल तक रहें घरों पर, प्रमोशन या तबादले पर नहीं होंगे रिलीव

jammu kashmir
जम्मू-कश्मीर में भेजे गये CRPF के 8 हजार जवान, धारा 370 हटने के बाद सरकार ने लिया फैसला

नई दिल्ली: केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जिन जवानों को ड्यूटी पर रिपोर्ट करना था, उन्हें छुट्टी बढ़ाए जाने की सूचना दे दी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी पिछले सप्ताह कोरोना के मद्देनजर सुरक्षा बलों के लिए अलर्ट जारी किया था। इसमें कहा गया है कि वे सभी गैर आपातकालीन यात्राएं रोक दें। केंद्रीय अर्धसैनिक बलों में कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव के लिए कई नए नियम लागू किए गए हैं। मौजूदा स्थिति में अगर किसी जवान या अधिकारी का प्रमोशन और तबादला होता है, तो उसे रिलीव नहीं किया जाएगा।

Crpf Jawans Left Till April 15 Stay At Home Will Not Be Relieved On Promotion Or Transfer :

अगर प्रमोशन हुआ है तो भी उसे वहीं पर नया पद ग्रहण कर लेना है। देश के सबसे बड़े अर्धसैनिक बल सीआरपीएफ ने इस बाबत मंगलवार को आदेश जारी कर दिए हैं। साथ ही नए आदेशों में छुट्टी गए जवानों और अधिकारियों से 15 अप्रैल तक घर पर ही रहने के लिए कहा गया है। इसके पीछे केंद्रीय अर्धसैनिक बलों का मकसद है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए कोई भी जवान या अफसर किसी तरह की यात्रा न करे, जो जहां है, वहीं रहे।

सीआरपीएफ के डीजी डॉ. एपी महेश्वरी की ओर से आदेश के अनुसार किसी का प्रमोशन या तबादला होता है तो उसे दूसरी जगह पर जाने की आवश्यकता नहीं है। जब तक मुख्यालय की ओर से कोई आदेश न आए, जवान और अधिकारी अपनी उसी सीट पर रहें, जहां वह पहले से काम कर रहे हैं। सभी केंद्रीय सुरक्षा बलों में ट्रेनिंग एवं हेडक्वार्टर में आला अफसरों से होने वाली निजी मुलाकात को भी अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया है। जो भी जवान या अधिकारी छुट्टी पर गए हुए थे, उन्हें बता दिया गया है कि वे 15 अप्रैल तक घर पर ही रहें।

पहले कुछ जवानों को 31 मार्च तो कई जगहों पर पांच अप्रैल तक के लिए अपने घर पर रहने का आदेश जारी किया गया था। कोरोना के संक्रमण और लॉक डाउन की स्थिति के मद्देनजर यह कदम उठाया है। केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जिन जवानों को ड्यूटी पर रिपोर्ट करना था, उन्हें छुट्टी बढ़ाए जाने की सूचना दे दी गई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी पिछले सप्ताह कोरोना के मद्देनजर सुरक्षा बलों के लिए अलर्ट जारी किया था। वे सभी गैर आपातकालीन यात्राएं रोक दें।

नई दिल्ली: केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जिन जवानों को ड्यूटी पर रिपोर्ट करना था, उन्हें छुट्टी बढ़ाए जाने की सूचना दे दी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी पिछले सप्ताह कोरोना के मद्देनजर सुरक्षा बलों के लिए अलर्ट जारी किया था। इसमें कहा गया है कि वे सभी गैर आपातकालीन यात्राएं रोक दें। केंद्रीय अर्धसैनिक बलों में कोरोनावायरस के संक्रमण से बचाव के लिए कई नए नियम लागू किए गए हैं। मौजूदा स्थिति में अगर किसी जवान या अधिकारी का प्रमोशन और तबादला होता है, तो उसे रिलीव नहीं किया जाएगा। अगर प्रमोशन हुआ है तो भी उसे वहीं पर नया पद ग्रहण कर लेना है। देश के सबसे बड़े अर्धसैनिक बल सीआरपीएफ ने इस बाबत मंगलवार को आदेश जारी कर दिए हैं। साथ ही नए आदेशों में छुट्टी गए जवानों और अधिकारियों से 15 अप्रैल तक घर पर ही रहने के लिए कहा गया है। इसके पीछे केंद्रीय अर्धसैनिक बलों का मकसद है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए कोई भी जवान या अफसर किसी तरह की यात्रा न करे, जो जहां है, वहीं रहे। सीआरपीएफ के डीजी डॉ. एपी महेश्वरी की ओर से आदेश के अनुसार किसी का प्रमोशन या तबादला होता है तो उसे दूसरी जगह पर जाने की आवश्यकता नहीं है। जब तक मुख्यालय की ओर से कोई आदेश न आए, जवान और अधिकारी अपनी उसी सीट पर रहें, जहां वह पहले से काम कर रहे हैं। सभी केंद्रीय सुरक्षा बलों में ट्रेनिंग एवं हेडक्वार्टर में आला अफसरों से होने वाली निजी मुलाकात को भी अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया है। जो भी जवान या अधिकारी छुट्टी पर गए हुए थे, उन्हें बता दिया गया है कि वे 15 अप्रैल तक घर पर ही रहें। पहले कुछ जवानों को 31 मार्च तो कई जगहों पर पांच अप्रैल तक के लिए अपने घर पर रहने का आदेश जारी किया गया था। कोरोना के संक्रमण और लॉक डाउन की स्थिति के मद्देनजर यह कदम उठाया है। केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के जिन जवानों को ड्यूटी पर रिपोर्ट करना था, उन्हें छुट्टी बढ़ाए जाने की सूचना दे दी गई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भी पिछले सप्ताह कोरोना के मद्देनजर सुरक्षा बलों के लिए अलर्ट जारी किया था। वे सभी गैर आपातकालीन यात्राएं रोक दें।