इस तरह रोने से होता है आपके शरीर का वज़न कम

rona
इस तरह रोने से होता है आपके शरीर का वज़न कम

लखनऊ। अभी तक आपने मोटापा कम करने के लिए कई तरह की घरेलू नुस्खे के बारें में सुनते आ रहें हैं लेकिन क्या आपने मोटापा कम करने के लिए रोने के बारें में सुना है। शायद आपने कभी ऐसा नहीं सुना होगा और ना ही मोटापा कम करने के लिए किसी को ऐसा करते देखा होगा। इस बात से हैरान होने की ज़रूरत नहीं है। शोध से ये बात सामने आई है कि जो लोग छोटी-छोटी बातों पर रोने लगते हैं उनका मोटापा घटता है।

Crying Like This Causes Your Body To Lose Weight :

शोध के मुताबिक ये बताया गया कि भावुक होकर रोने से हमारा कोर्टिसोल स्तर बढ़ता है। जब हम भावनाओं के ज्वार में बहकर आंसू बहाते हैं तो कोर्टिसोल का स्तर बढ़ जाता है और इससे हमारा वजन थोड़ा कम होता है। Biochemist William Fry ने इस सिद्धांत का समर्थन करते हुए बताया कि रोने से हमारे शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ निकल जाते हैं। साथ ही ये भी बताया गया है कि रोने से डिप्रेशन भी कम होता है।

आपका वजन तभी कम होगा जब आपकी भावनाएं सच्ची होंगी। जब कोई सच्ची भावनाओं के साथ रोता है तो उसके बहने वाले आंसू शरीर के फैट को स्टोर नहीं कर पाता है। आंसू बहने से तनाव पैदा होने वाले हार्मोन्स शरीर से निकल जाते हैं, लेकिन बेवजह रोने से आपके शरीर का एक्स्ट्रा फैट कम नहीं होगा। और आपके वजन में कोई फर्क नज़र नहीं आएगा।

लखनऊ। अभी तक आपने मोटापा कम करने के लिए कई तरह की घरेलू नुस्खे के बारें में सुनते आ रहें हैं लेकिन क्या आपने मोटापा कम करने के लिए रोने के बारें में सुना है। शायद आपने कभी ऐसा नहीं सुना होगा और ना ही मोटापा कम करने के लिए किसी को ऐसा करते देखा होगा। इस बात से हैरान होने की ज़रूरत नहीं है। शोध से ये बात सामने आई है कि जो लोग छोटी-छोटी बातों पर रोने लगते हैं उनका मोटापा घटता है। शोध के मुताबिक ये बताया गया कि भावुक होकर रोने से हमारा कोर्टिसोल स्तर बढ़ता है। जब हम भावनाओं के ज्वार में बहकर आंसू बहाते हैं तो कोर्टिसोल का स्तर बढ़ जाता है और इससे हमारा वजन थोड़ा कम होता है। Biochemist William Fry ने इस सिद्धांत का समर्थन करते हुए बताया कि रोने से हमारे शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ निकल जाते हैं। साथ ही ये भी बताया गया है कि रोने से डिप्रेशन भी कम होता है। आपका वजन तभी कम होगा जब आपकी भावनाएं सच्ची होंगी। जब कोई सच्ची भावनाओं के साथ रोता है तो उसके बहने वाले आंसू शरीर के फैट को स्टोर नहीं कर पाता है। आंसू बहने से तनाव पैदा होने वाले हार्मोन्स शरीर से निकल जाते हैं, लेकिन बेवजह रोने से आपके शरीर का एक्स्ट्रा फैट कम नहीं होगा। और आपके वजन में कोई फर्क नज़र नहीं आएगा।