1. हिन्दी समाचार
  2. गुजरात : हिरासत में मौत के मामले में बर्खास्त IPS संजीव भट्ट को उम्रकैद की सजा

गुजरात : हिरासत में मौत के मामले में बर्खास्त IPS संजीव भट्ट को उम्रकैद की सजा

Custodial Death Case Ips Sanjiv Bhatt Jamnagar Court Life Sentence

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। गुजरात के जामनगर कोर्ट ने बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट और उनके सहयोगी को दोषी करार दिया है। कोर्ट ने उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई है। भारत बंद के दौरान 1990 में जामनगर में हिंसा हुई थी। भट्ट उस दौरान जामनगर के एएसपी थे। इस दौरान पुलिस ने 133 लोगों को गिरफ्तार किया था, जिसमें 25 लोग घायल हुए थे, जबकि आठ लोग अस्पताल में भर्ती हुए थे। न्यायिक हिरासत में रहने के दौरान एक आरोपी प्रभुदास माधवजी वैश्नानी की मौत हो गयी थी।

पढ़ें :- Ind vs Aus: आखिरी टीम इंडिया ने जीता तीसरा वनडे, 13 रनों से हारी ऑस्ट्रेलिया

इसके बाद आईपीएस संजीव भट्ट और उनके सहयोगी पर मारपीट का आरोप लगा था और उनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज हुआ था। इस मामले में संजीव भट्ट व अन्य पुलिसवालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था, लेकिन गुजरात सरकार ने मुकदमा चलाने की इजाजत नहीं दी। 2011 में राज्य सरकार ने भट्ट के खिलाफ ट्रायल की अनुमति दे दी। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने संजीव भट्ट की याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया था। भट्ट ने याचिका में अपने खिलाफ हिरासत में हुई मौत के मामले में गवाहों की नए सिरे से जांच की मांग की थी।

संजीव भट्ट गुजरात के बर्खास्त आईपीएस अफसर हैं। भट्ट ने गुजरात हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। गुजरात हाई कोर्ट ने उनके खिलाफ मुकदमे के दौरान कुछ अतिरिक्त गवाहों को गवाही के लिए समन देने के उनके अनुरोध से इनकार कर दिया था। गुजरात सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि निचली अदालत ने 30 साल पुराने हिरासत में हुई मौत के मामले में पहले ही फैसले को 20 जून के लिए सुरक्षित रखा है।

जस्टिस इंदिरा बनर्जी और जस्टिस अजय रस्तोगी की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने गुजरात सरकार व अभियोजन पक्ष की दलील को माना कि सभी गवाहों को पेश किया गया था, जिसके बाद फैसला सुरक्षित रखा गया है। अब दोबारा मुकदमे पर सुनवाई करना और कुछ नहीं है, बल्कि देर करने की रणनीति है। भट्ट को बिना किसी मंजूरी के गैरहाजिर रहने व आवंटित सरकारी वाहन के दुरुपयोग को लेकर 2011 में निलंबित कर दिया गया था। इसके बाद 2015 में उन्हें बर्खास्त कर दिया गया।

पढ़ें :- Learn to Write an Essay on Multiple Issues

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...