HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Cyclone Tauktae : तबाही के बीच भारतीय नेवी का सराहनीय काम, 146 लोगों को किया रेस्क्यू

Cyclone Tauktae : तबाही के बीच भारतीय नेवी का सराहनीय काम, 146 लोगों को किया रेस्क्यू

अरब सागर में आए चक्रवातीय तूफान 'ताउते' का प्रकोप भारत के दक्षिण-पश्चिम राज्यों पर अब कुछ कम होता दिख रहा है, लेकिन जिन राज्यों से यह चक्रवात होकर गुजरा है। वहां सड़कों पर पेड़ गिरे पड़े हैं। भारी बारिश हो रही है। लोग अपने घर छोड़ कर दूसरे सुरक्षित स्थानों पर पहुंच गए हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

मुंबई। अरब सागर में आए चक्रवातीय तूफान ‘ताउते’ का प्रकोप भारत के दक्षिण-पश्चिम राज्यों पर अब कुछ कम होता दिख रहा है, लेकिन जिन राज्यों से यह चक्रवात होकर गुजरा है। वहां सड़कों पर पेड़ गिरे पड़े हैं। भारी बारिश हो रही है। लोग अपने घर छोड़ कर दूसरे सुरक्षित स्थानों पर पहुंच गए हैं। सोमवार रात को 185 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से आया ताउते गुजरात के तटों से टकराया। गुजरात में 1.5 लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। चक्रवात के प्रभाव में महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में भारी बारिश और हवाएं चल रही हैं।

पढ़ें :- यूपी सरकार और संगठन के बीच बढ़ी तकरार, दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री सोनम किन्नर ने अपने पद से दिया इस्तीफा

इसी बीच भारतीय नौसेना ने चक्रवातीय तूफान ‘ताउते’ के चलते समु्द्र में अनियंत्रित होकर बहे एक बजरे पर सवार 146 लोगों को बचा लिया है और बाकियों की खोजबीन अभी जारी है। एक अधिकारी ने बताया कि नेवी ने बचाव कार्य के लिए मंगलवार सुबह पी-81 को तैनात किया था। यह खोज एवं बचाव कार्यों के लिए इंडियन नेवी का एक बहुमिशन समुद्री गश्ती विमान है।

अधिकारी ने कहा कि खोज एवं बचाव (SAR) कार्य सारी रात चला और समुद्र में चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करते हुए मंगलवार सुबह छह बजे तक पी305 से 146 लोगों को रेस्क्यू किया गया। INS कोच्चि तथा INS कोलकाता ने 111 लोगों को बचाया कि, अपतटीय सहायता पोत (OSV) ‘ग्रेटशिप अहिल्या’ ने 17 लोगों को और ओएसवी ‘ओशन एनर्जी’ ने 18 लोगों को रेस्क्यू किया।

नौसेना के प्रवक्ता ने बताया कि बजरा ‘गल कन्स्ट्रक्टर’ बहकर कोलाबा पॉइंट के उत्तर में 48 समुद्री मील दूर चला गया, इसमें 137 लोग मौजूद हैं। एक आपातकालीन ‘टोइंग’ पोत’ वाटर लिली’, दो सहायक पोत और CGS सम्राट को क्षेत्र में सहायता के लिए तथा चालक दल के सदस्यों को बचाने के लिए भेजा गया है। प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि INS तलवार एक अन्य तेल रिग सागर भूषण और बजरे एसएस-3 की सहायता के लिए जा रहा है। दोनों ही अभी पीपावाव बंदरगाह से करीब 50 समुद्री मील दक्षिण पूर्व में हैं।

पढ़ें :- न संगठन बड़ा होता है न सरकार, सबसे बड़ा होता है जनता का कल्याण : अखिलेश यादव
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...