Live: चक्रवाती तूफान ‘वरदा’ का कोहराम, तमिलनाडु में 2 की मौत

चेन्नई। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में भयंकर तूफान ‘वरदा’ ने दस्तक देकर कोहराम मचा दिया है, इस तूफान में बड़े पैमाने पर जानमाल की हानि हुई है और अभी तक 2 लोगो की मौत हो चुकी है। इस चक्रवाती तूफान की रफ्तार 100 किमी प्रतिघंटा बताई जा रही है। सुरक्षा दल लगातार मुस्तैद हैं। चेन्नई समेत तमिलनाडु के तटवर्तीय इलाकों में तेज हवा के साथ तेज बारिश हो रही है। वरदा की शुरुआत बंगाल की खाड़ी से हुई है।



कई इलाकों में सुबह से ही तेज बारिश

चेन्नई,तिरूवल्लूर एवं कांचीपुरम और पास के कई जिलों में सुबह से भारी बारिश हो रही है और तेज हवाएं भी चल रही हैं। इन इलाकों के कई हिस्सों में एहतियातन विद्युत आपूर्ति बंद कर दी गई है। राहत कार्य के लिए थल सेना, नौसेना एवं वायु सेना के साथ सशस्त्र बलों को भी तैयार रहने को कहा गया है ताकि कभी भी आवश्यकता पड़ने पर उन्हें तैनात किया जा सके।

मौसम विभाग के अधिकारियों के अनुसार वरदा के कारण ज्वार की लहरों के एक मीटर अधिक ऊंचा उठने की संभावना है। इसी के तहत सरकार ने सुमद्र के आस-पास रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की सलाह दी है। अधिकारियों के मुताबिक तमिलनाडु के उत्तरी क्षेत्र और आंध्र प्रदेश के दक्षिणी क्षेत्र में भारी बारिश और तेज तूफान की आशंका जताई जा रही है। चेन्नई एयरपोर्ट पर सभी ऑपरेशन 6 बजे तक के लिए बंद कर दिए गए हैं।




तमिलनाडु सरकार ने मीडिया को दी जानकारी में बताया कि अब तक 7357 लोगों को सुरक्षित रूप से 54 राहत केंद्रों पर ले जाया जा चुका है। इसके अलावा, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम लगातार सरकारी एजेंसियों की तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। तमिलनाडु सरकार ने लोगों से 1 से 4 बजे तक घर से ना निकलने की अपील की थी।



आंध्र प्रदेश में हाई अलर्ट

साइक्लोन के मद्देनजर आंध्र प्रदेश में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। अमरावती से अब तक 9,400 लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया जा चुका है।

NDRF की टीम है तैयार

राहत कार्यों के लिए सेना की 6 टीमें बिल्कुल तैयार हैं। इसके अलावा सेना की एक अतिरिक्त टीम को स्टैंडबाय पर रखा गया है। वरदा से निपटने के लिए तमिलनाडु में एनडीआरएफ की 7 और आंध्र प्रदेश में 6 टीमें भेजी गई हैं। चक्रवाती तूफान के चलते बड़ी संख्या में पेड़ टूटने की खबरें आ रही हैं। नौसेना के दो जहाज शिवालिक और कदमत्त पहले से ही उत्तर दिशा में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।



क्या है ‘वरदा’

बंगाल की खाड़ी से उठा वरदा इस सीजन का तीसरा चक्रवाती तूफान है। ‘वरदा’ का मतलब अरबी या उर्दू में ‘गुलाब’ होता है। नॉर्थ हिंद महासागर में चक्रवाती तूफानों का नामकरण आईएमडी करता है। जब हवा की स्पीड कम से कम 63 kmph हो जाती है और यह कुछ देर बरकरार रहती है तो 3 मिनट के भीतर ये चक्रवाती तूफान का रूप ले लेती है।