1. हिन्दी समाचार
  2. Cyclonic Storm Maha: चक्रवाती तूफान ‘महा’ का इन राज्यों पर दिखेगा असर, हो जाएं ALERT!

Cyclonic Storm Maha: चक्रवाती तूफान ‘महा’ का इन राज्यों पर दिखेगा असर, हो जाएं ALERT!

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्ली। हिन्द महासागर के अरब सागर में बने शक्तिशाली तूफान ‘महा’ का देश के कई राज्यों में असर दिखने लगा है। अरब सागर की तरफ से लगातार आ रही नमी से गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र व अंडमान निकोबार सहित अन्य राज्यों में बादल छा गए हैं। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार गुजरात और अंडमान निकोबार में भारी बारिश के आसार हैं।

पढ़ें :- खुफिया विभाग को 20 दिन पहले ही मिली थी ये महत्वपूर्ण जानकारी, अधिकारियों के साथ हुई थी बैठक!

मौसम विभाग की माने तो दक्षिणी गुजरात और सौराष्ट्र के तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल सकती हैं। गौरतलब है कि पिछले दिनों ‘क्यार’ चक्रावत की वजह से दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश हुई थी। जिसकी वजह से किसानों की फसल को काफी नुकसान हुआ। गुजरात के किसानों को ‘क्यार’ तूफान के बाद अब ‘महा’ नामक चक्रवात का सामना करना पड़ सकता है। मौसम विभाग ने राज्य में एक बार फिर बारिश होने का अनुमान जताया है। महा चक्रवात के चलते मछुआरों को सतर्क करते हुए समुद्र में ना जाने की सलाह दी गई है।

इतना ही नहीं बंगाल की खाड़ी में भी एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। उसकी वजह से भी मध्यप्रदेश में नमी बढ़ रही है। इससे पहले शनिवार को सुबह 8:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक धार में 2, बैतूल में 0.2 मिमी. बरसात हुई। उज्जैन, भोपाल में कहीं-कहीं बूंदाबांदी हुई। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी 5 दिन तक मौसम साफ होने के आसार नहीं हैं। रविवार से बरसात की गतिविधियां और बढ़ने की संभावना है।

मौसम विज्ञान केंद्र के एक वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक ने जानकारी दी कि वर्तमान में चक्रवाती तूफान ‘महा’ अरब सागर में गुजरात के तट से करीब पहुंच गया है। इसके प्रभाव से प्रदेश में नमी आने का सिलसिला शुरू हो गया है। इससे बादल छाने लगे हैं। इसके प्रभाव से 7-8 अक्टूबर को भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद, उज्जैन संभाग में तेज बौछारें पड़ने के आसार हैं। उधर बंगाल की खाड़ी में भी एक शक्तिशाली कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इसके प्रभाव से भी 7-8 नवंबर को प्रदेश में बरसात की संभावना बन रही है। साथ ही उन्होंने बताया कि यदि दोनों तरफ के सिस्टम से एक साथ ऊर्जा मिली, तो 7-8 नवंबर को प्रदेश में कई स्थानों पर भारी बरसात के हालात भी बन सकते हैं।

बता दें, चक्रवाती तूफान ‘महा’ का लक्षद्वीप समूह पर कोई असर देखने को नहीं मिला। लक्षद्वीप के सांसद मोहम्मद फैजल ने जानकारी दी कि चक्रवात महा के कारण समुद्र में उफान और भारी बारिश देखी गई लेकिन कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ। साथ ही मौसम विभाग ने अनुमान लगाया था कि चक्रवात महा में 80-90 किमी से 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाली तेज हवाओं का प्रभाव लक्षद्वीप के उत्तरी भागों और इससे सटे दक्षिण-पूर्वी अरब सागर के ऊपर होने की संभावना है।

पढ़ें :- ट्रैक्टर रैली में बवालः दिल्ली पुलिस ने 20 किसान नेताओं को भेजा नोटिस, तीन दिन में मांगा जवाब

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...