चक्रवाती तूफान ‘वायु’ गुजरात की तरफ तेजी से बढ़ रहा, तटीय क्षेत्रों में चक्रवात का खतरा

Cyclonic storm 'Vayu
चक्रवाती तूफान 'वायु' गुजरात की तरफ बढ़ रहा है तेजी से, अलर्ट पर सेना और एनडीआरएफ

नई दिल्ली। मौसम विभाग ने मंगलवार को बताया कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण चक्रवाती तूफान ‘वायु’ तेजी से बढ़ रहा है। विभाग के मुताबिक, अब ये तूफान गुजरात की ओर तेजी से बढ़ रहा है। इस कारण गुजरात के तटीय क्षेत्रों में चक्रवात का खतरा मंडरा रहा है। चक्रवात नॉर्थ वेस्ट अमीनिदीवी (लक्षद्वीप) से 380 किलोमीटर, साउथ वेस्ट मुंबई (महाराष्ट्र) में 630 किलोमीटर और वेरावल (गुजरात) के साउथ में 780 किलोमीटर दूरी पर है।

Cyclonic Storm Vayu Is Moving Towards Gujarat Faster Army And Ndrf On Alert :

संभावना जताई जा रही है कि चक्रवात के कारण सौराष्ट्र और कच्छ के क्षेत्र में 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने के साथ—साथ भारी बारिश हो सकती है। मछुआरों को समुद्र में ना जाने की सलाह दी गई है। चक्रवाती तूफान वायु उत्तर और उत्तर—पश्चिम दिशा में गुजरात की ओर तेजी से बढ़ रहा है।

इसकी वजह से केरल के कुछ हिस्सों में हल्की और मध्यम बारिश हो सकती है, जबकि कनार्टक के तटीय क्षेत्रों में भारी बारिश हो सकती है। बता दें कम दबाव वाले क्षेत्र ने गर्म समुद्री हवाओं की वजह से सोमवार को डिप्रेशन का रूप ले लिया था जो मंगलवार को चक्रवात में बदल गया।

नई दिल्ली। मौसम विभाग ने मंगलवार को बताया कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण चक्रवाती तूफान 'वायु' तेजी से बढ़ रहा है। विभाग के मुताबिक, अब ये तूफान गुजरात की ओर तेजी से बढ़ रहा है। इस कारण गुजरात के तटीय क्षेत्रों में चक्रवात का खतरा मंडरा रहा है। चक्रवात नॉर्थ वेस्ट अमीनिदीवी (लक्षद्वीप) से 380 किलोमीटर, साउथ वेस्ट मुंबई (महाराष्ट्र) में 630 किलोमीटर और वेरावल (गुजरात) के साउथ में 780 किलोमीटर दूरी पर है। संभावना जताई जा रही है कि चक्रवात के कारण सौराष्ट्र और कच्छ के क्षेत्र में 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने के साथ—साथ भारी बारिश हो सकती है। मछुआरों को समुद्र में ना जाने की सलाह दी गई है। चक्रवाती तूफान वायु उत्तर और उत्तर—पश्चिम दिशा में गुजरात की ओर तेजी से बढ़ रहा है। इसकी वजह से केरल के कुछ हिस्सों में हल्की और मध्यम बारिश हो सकती है, जबकि कनार्टक के तटीय क्षेत्रों में भारी बारिश हो सकती है। बता दें कम दबाव वाले क्षेत्र ने गर्म समुद्री हवाओं की वजह से सोमवार को डिप्रेशन का रूप ले लिया था जो मंगलवार को चक्रवात में बदल गया।