गवाही पड़ी मंहगी, दबंगों ने काट डाली जुबान

Crime-scene
गवाही पड़ी मंहगी, दबंगों ने काट डाली जुबान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में दबंगों के​ खिलाफ गवाही देने का साहस एक व्यक्ति को भारी पड़ गया। दबंगों ने उस व्यक्ति को गवाही देने से रोकने की नियत के साथ पहले उसकी पिटाई की और फिर उसकी जुबान काट डाली। इस घटना के बाद पीड़ित को उसके परिजनों ने इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती करवाया और पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी। जिसके बाद से पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।

Dabang Cuts Down Eyewitness Tongue In Faizabad :

मामला फैजाबाद जिले के गांव पलिया प्रतापशाह का है। जहां करीब एक साल पहले एक युवक की हत्या के मामले में गांव का ही जनकराज सिंह गवाह था। अदालत में जनकराज सिंह की गवाही होनी थी और दबंग परिवार के लोग उस पर गवाही से मुकरने का दबाव बनाने में लगे थे। इसी क्रम में गुरुवार को चार लोगों ने जनकराज सिंह को पहले जमकर पीटा और उसे गवाही न देने की धमकी दी। पिटाई के बाद भी जब जनकराज ने अपना इरादा नहीं बदला तो दबंगों ने उसकी जुबान काट दी और अदालत में जाकर गवाही देने की बात कही।

 

इस घटना के बाद जनकराज के परिजनों ने उसे फैजाबाद जिला अस्पताल में भर्ती करवाया है।
पीड़ित जनकराज की पत्नी ने पुलिस में चार लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज करवाई है। जिनमें एक आरोपी रामपदारथ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

परिजनों का कहना है कि हमले के समय जनकराज गुरुवार की रात सरकारी ट्यूब वैल से अपने गेहूं के खेत की सिंचाई कर रहा था। करीब साढ़े दस बजे रामपदारथ एवं रवि नाम के दो लोगों ने उसे खेतों पर ही दबोच लिया। इस बीच उनके दो अन्य साथियों बलराम यादव ने उसका गला दाबाया और रामस्वरूप ने चाकू से उसकी जुबान काट डाली। उसके बाद गवाही पर जाने की बात कही।

परिजनों का कहना है कि पिछली साल गांव के जितेंद्र तिवारी नामक युवक की गोली मारकर हत्या की गई थी, ​इस मामले में रामपदारथ आरोपी है और जनकराज गवाह। कई दिनों से रामपदारथ की ओर से जनकराज पर गवाही से मुकरने के लिए दबाव बनाया जा रहा था।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में दबंगों के​ खिलाफ गवाही देने का साहस एक व्यक्ति को भारी पड़ गया। दबंगों ने उस व्यक्ति को गवाही देने से रोकने की नियत के साथ पहले उसकी पिटाई की और फिर उसकी जुबान काट डाली। इस घटना के बाद पीड़ित को उसके परिजनों ने इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती करवाया और पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी। जिसके बाद से पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है।मामला फैजाबाद जिले के गांव पलिया प्रतापशाह का है। जहां करीब एक साल पहले एक युवक की हत्या के मामले में गांव का ही जनकराज सिंह गवाह था। अदालत में जनकराज सिंह की गवाही होनी थी और दबंग परिवार के लोग उस पर गवाही से मुकरने का दबाव बनाने में लगे थे। इसी क्रम में गुरुवार को चार लोगों ने जनकराज सिंह को पहले जमकर पीटा और उसे गवाही न देने की धमकी दी। पिटाई के बाद भी जब जनकराज ने अपना इरादा नहीं बदला तो दबंगों ने उसकी जुबान काट दी और अदालत में जाकर गवाही देने की बात कही। इस घटना के बाद जनकराज के परिजनों ने उसे फैजाबाद जिला अस्पताल में भर्ती करवाया है। पीड़ित जनकराज की पत्नी ने पुलिस में चार लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज करवाई है। जिनमें एक आरोपी रामपदारथ को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।परिजनों का कहना है कि हमले के समय जनकराज गुरुवार की रात सरकारी ट्यूब वैल से अपने गेहूं के खेत की सिंचाई कर रहा था। करीब साढ़े दस बजे रामपदारथ एवं रवि नाम के दो लोगों ने उसे खेतों पर ही दबोच लिया। इस बीच उनके दो अन्य साथियों बलराम यादव ने उसका गला दाबाया और रामस्वरूप ने चाकू से उसकी जुबान काट डाली। उसके बाद गवाही पर जाने की बात कही।परिजनों का कहना है कि पिछली साल गांव के जितेंद्र तिवारी नामक युवक की गोली मारकर हत्या की गई थी, ​इस मामले में रामपदारथ आरोपी है और जनकराज गवाह। कई दिनों से रामपदारथ की ओर से जनकराज पर गवाही से मुकरने के लिए दबाव बनाया जा रहा था।