शर्मनाक : दलित युवक ने कुर्सी पर बैठकर खाया खाना तो कर दी हत्या

murder in uk
शर्मनाक : दलित ने कुर्सी पर बैठकर खाया तो कर दी हत्या

नई दिल्ली। उत्तराखंड जिले के टिहरी जिले के नैनबाग इलाके में एक सनसनीखेज वारदात सामने आई थी। यहां के श्रीकोट गांव में ऊंची जाति के लोगों ने सिर्फ इसलिए एक दलित युवक की हत्या कर दी कि उसने शादी के दौरान कुर्सी पर बैठकर खाना खा लिया। मरने वाले युवक की बहन ने कैमप्टी थाने में सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

Dalit Boys Murderafter Eating Food On Sitting At The Chair In Uttrakhand :

बता देंह कि मृतक जितेंद्र (23) के चाचा एलमदास ने बताया कि 26 अप्रैल को श्रीकोट गांव निवासी प्रदीप की शादी थी। ललोटना गांव से बारात लौटने के बाद रात में शादी की पार्टी थी। पार्टी में कई जाति के लोग आए थे। तभी कुछ ऊंची जाति के लोग खाना खा रहे थे। इसी दौरान दूल्हे के रिश्ते का चाचा बसाणगांव निवासी जितेंद्र ऊंची जाति के लोगों के सामने कुर्सी पर बैठकर खाने लगा।

इसी बात से नाराज होकर इस पर ऊंची जाति के युवक ने जितेंद्र की कुर्सी पर लात मार दी। तभी जितेन्द्र की थाली का खाना उसके उपर गिर गया। जिससे नाराज होकर लोगों ने उसकी पिटाई कर दी। अगले दिन हालत बिगड़ने पर परिजन उसे नैनबाग स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। हालत में सुधार नहीं होने पर 27 अप्रैल को उसे देहरादून के महंत इन्दिरेश अस्पताल में भर्ती कराया,जहां रविवार को उसकी मौत हो गई।

नई दिल्ली। उत्तराखंड जिले के टिहरी जिले के नैनबाग इलाके में एक सनसनीखेज वारदात सामने आई थी। यहां के श्रीकोट गांव में ऊंची जाति के लोगों ने सिर्फ इसलिए एक दलित युवक की हत्या कर दी कि उसने शादी के दौरान कुर्सी पर बैठकर खाना खा लिया। मरने वाले युवक की बहन ने कैमप्टी थाने में सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। बता देंह कि मृतक जितेंद्र (23) के चाचा एलमदास ने बताया कि 26 अप्रैल को श्रीकोट गांव निवासी प्रदीप की शादी थी। ललोटना गांव से बारात लौटने के बाद रात में शादी की पार्टी थी। पार्टी में कई जाति के लोग आए थे। तभी कुछ ऊंची जाति के लोग खाना खा रहे थे। इसी दौरान दूल्हे के रिश्ते का चाचा बसाणगांव निवासी जितेंद्र ऊंची जाति के लोगों के सामने कुर्सी पर बैठकर खाने लगा। इसी बात से नाराज होकर इस पर ऊंची जाति के युवक ने जितेंद्र की कुर्सी पर लात मार दी। तभी जितेन्द्र की थाली का खाना उसके उपर गिर गया। जिससे नाराज होकर लोगों ने उसकी पिटाई कर दी। अगले दिन हालत बिगड़ने पर परिजन उसे नैनबाग स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। हालत में सुधार नहीं होने पर 27 अप्रैल को उसे देहरादून के महंत इन्दिरेश अस्पताल में भर्ती कराया,जहां रविवार को उसकी मौत हो गई।